“जानलेवा गाेलगप्पा” की असली कहानी सुनकर उड़ जांएगे आपके हाेश…

शहर हाे या गांव चाैराहे हाें या गली कुछ नजर अाये ना अाये गाेलगप्पे का ठेला जरूर नजर अा जाता है। चटपटे पानी के साथ गाेलगप्पे खाना हर क‌िसी काे पसंद हाेता है पर जब यही गाेलगप्पा अाप के मुंह में जाते ही जान का दुश्मन बन जाये अाैर सांसाें की डाेर काे ताेड़ दे ताे अाप इससे दूर ही रहना पसंद करेंगे। हम अाप काे जानलेवा गाेलगप्पे के बारे में बताने जा रहे हैं। "जानलेवा गाेलगप्पा" की असली कहानी सुनकर उड़ जांएगे आपके हाेश...

पेट के बल सोने से बचें, ये 3 नुकसान जानकर आपका लग जायेगा SHOOK

कानपुर घाटमपुर के गांव हरबशपुर (सांखाहारी) में पानी के बतासे (गोलगप्पा) खाते समय नरेश की माैत हाे गई। नरेश कुमार सचान (46) ट्रक चालक था। बुधवार की शाम घाटमपुर से अपने गांव जा रहा था। सांखाहारी गांव में चाट के ठेले पर रुककर पानी के बताशे खाने लगा।

खाते समय अचानक उसे खांसी आ गई और एक गोलगप्पा गले में फंस गया ज‌िससे वह छटपटाने लगा। पास में मौजूद लोगों ने उसके घरवालों को खबर करने के साथ वाहन में लादकर तत्काल सीएचसी भिजवाया। जहां डाक्टरों ने परीक्षण के बाद उसे मृत घोषित कर दिया।

ड्यूटी पर तैनात सीएचसी के डा. अजीत कुमार ने बताया कि स्वांस नली में गोलगप्पा फंसने से नरेश की मौत हुई है। नरेश के परिजनों ने बताया कि उसके परिवार में पत्नी के अलावा दो बच्चे हैं। नरेश के पास करीब सात बीघा कृषि भूमि भी है। वह खाली समय में ट्रक भी चलाता था।

सजेती थानाध्यक्ष लोकेंद्र पाल सिंह ने बताया कि देर शाम घटना की सूचना मिली है। उसके परिजनों ने किसान बीमा दुर्घटना प्राप्त करने के लिए शव का पोस्टमार्टम कराने को कहा है। नरेश के शव को गुरुवार की सुबह पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया जाएगा। 

You May Also Like

English News