जानिए आखिर क्या फिलिस्तीन के राष्ट्रपति क्या चाहते है भारत से

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी तीन दिवसीय विदेश यात्रा आज फिलिस्तीन पहुंचेंगे. यह किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री की पहली फिलिस्तीन यात्रा होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस ऐतिहासिक यात्रा को लेकर फिलिस्तीन में पहले से ही काफी उत्साह है. वहां के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने कहा कि, वह भारतीय प्रधानमंत्री मोदी के साथ मध्य पूर्व की शांति प्रक्रिया और इस्राइल के साथ अंतिम समझौता करने से पहले, मध्यस्थता के लिए बनने वाले बहुपक्षीय मंच के गठन में, भारत की भूमिका पर चर्चा करेंगे.जानिए आखिर क्या फिलिस्तीन के राष्ट्रपति क्या चाहते है भारत सेअब्बास ने कहा कि, हम भारतीय प्रधानमंत्री का इस ऐतिहासिक दौरे पर तहेदिल से स्वागत करते हैं, इस दौरे से फिलिस्तीन और भारत के बीच सम्बन्ध मजबूत होंगे. आपको बता दें कि, भारत हमेशा से फिलिस्तीन और इजराइल के विवाद में हस्तक्षेप से बचता रहा है मगर फिलिस्तीनी राष्ट्रपति चाहते हैं की भारत मध्य पूर्व में शांति स्थापित करने में अपना योगदान प्रदान करे.

गौरतलब है कि, अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा येरुशेलम को इजराइल की राजधानी घोषित करने पर फिलहाल फिलिस्तीन में तनाव की स्थिति है. ट्रम्प की इस घोषणा की विश्वभर में आलोचना हुई थी. संयुक्त राष्ट्र महासभा में भी इस फैसले का भारत समेत 128 देशों ने विरोध करते हुए अमेरिका के इस कदम को अमान्य करार दिया था. 

You May Also Like

English News