जानिए क्यों? देश की पहली WWE रेसलर बनी कविता दलाल ने खाया था जहर

सलवार सूट पहनकर खली की चेली को धोया था और अब वह देश की पहली महिला डब्ल्यूडब्ल्यूई रेसलर है, लेकिन कभी उन्होंने जहर खा लिया था जानिए क्यों? जानिए क्यों? देश की पहली WWE रेसलर बनी कविता दलाल ने खाया था जहर

INDvSL LIVE: बतौर कप्तान रोहित शर्मा ने बनाया पहला शतक, खेली नाबाद पारी!

सूट-सलवार में विदेशी पहलवान को धूल चटाने वाली अंतरराष्ट्रीय रेसलर कविता ने संघर्ष से अपनी एक अलग पहचान बना ली है। डब्ल्यूडब्ल्यूई में देश की पहली महिला रेसलर कविता को कामयाबी के शिखर तक पहुंचाने वाले माता-पिता और भाई के जेल जाने और डोपिंग के दंश से उसके कैरियर पर ब्रेक लग गया था। 

संघर्ष के दिनों में कविता ने जहर खाकर आत्महत्या करने की भी ठान ली थी। ऐसी विकट परिस्थितियों पर कविता ने पार पाया और सफलता पाई। जींद जिले के मालवी गांव की कविता ने अमर उजाला कार्यालय में अपने संघर्ष की कहानी सांझा की। किसान परिवार में जन्मी और पांच भाई-बहनों में सबसे छोटी कविता ने जुलाना के स्कूल में 12वीं तक पढ़ाई की। 

2005 में बीए पूरी की। इसी बीच वह वेट लिफ्टिंग के खेल से जुड़ गई। कविता के बड़े भाई संजय दलाल हमेशा सपोर्ट बनकर खड़े रहे। 2008 में वह डोपिंग के आरोप घिर गई और जापान में एशियन चैंपियन में डोपिंग के कारण उस पर चार साल का बैन लग गया। 2009 में परिवार ने यूपी के बागपत जिले के एसएसबी में कार्यरत गौरव तोमर से कविता की शादी कर दी।
 बैन के दंश को कविता भूली भी नहीं थी कि 2010 में उनकी भाभी की मौत के बाद मां-बाप और भाई जेल चले गए। यह समय कविता के लिए बहुत मुश्किल रहा। सपोर्ट बनकर साथ खड़े रहने वाले भाई जेल चले गए और नई शादी के कारण ससुराल में भी तालमेल नहीं हो सका।

 बकौल कविता, कॅरियर और परिवार के बीच ऐसे दोराहे पर फंस गई कि एक दिन उन्होंने जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास भी किया।
हालांकि उन्हें बचा लिया गया। इसके बाद पति गौरव और जेल में बंद भाई ने उन्हें फिर से हिम्मत दी और वह इस मुकाम तक पहुंच सकी।

 आत्महत्या के प्रयास के बाद परिवार ने उन्हें सपोर्ट किया और वेट लिफ्टिंग की बजाय वुशू खेलना शुरू कर दिया। मई 2016 में खली ने उन्हें जालंधर एकेडमी में मिलने के लिए बुलाया। वहीं से कविता की किस्मत का सितारा चमका।
 एकेडमी में मैच चल रहा था और एक विदेशी पहलवान ने खड़े होकर सभी भारतीयों को ललकारा। सूट-सलवार में खली से मिलने पहुंची कविता ने चैलेंज स्वीकार किया और चंद ही मिनटों में विदेशी पहलवान को पटखनी देकर सुर्खियों में आ गई। कविता के साथ हाल ही में डब्ल्यूडब्ल्यूई की तरफ से तीन साल का कांट्रेक्ट किया गया है।

You May Also Like

English News