जानिए क्यों, पद्मावती, धड़क के बाद यहां टाइगर जिंदा है भी आई निशाने पर….

बॉलीवुड के भाईजान की आज रिलीज हुई टाइगर जिंदा को दुनियाभर में अच्छा रेस्पांस मिल रहा है। लेकिन राजस्थान में भाईजान और उनकी फिल्म टाइगर जिंदा है वाल्मिकी समुदाय के निशाने पर आ गई है। राजस्थान के ​कई जिलों में सिनेमाघरों मे तोड़फोड़ की गई और टाइगर जिंदा है के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किए जा रहे है।जानिए क्यों, पद्मावती, धड़क के बाद यहां टाइगर जिंदा है भी आई निशाने पर....दरअसल वाल्मिकी समुदाय के लिए जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल करने को लेकर बीते कई दिनों से सलमान खान और शिल्पा शेट्टी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किए जा रहे है। लेकिन आज जैसे ही सलमान की फिल्म रिलीज हुई तो बीते कई दिनों से जारी प्रदर्शन उग्र हो गए और जमकर तोड़फोड़ हुई।  

 इससे पूर्व बीते कुछ माह में राजस्थान में और भी कई बॉलीवुड फिल्मों का अलग-अलग कारणों से विरोध होता रहा है। जिसमें संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती और धर्मा प्रोडेक्शन की फिल्म धड़क भी शामिल है।  पद्मावती में विवाद का मुख्य कारण इतिहास से छेड़छाड़ रहा।

गौरतलब है राजपूत समाज और करणी सेना का आरोप है महारानी पद्मिनी के इतिहास के साथ संजय लीला भंसाली ने फिल्म पद्मावती में छेड़छाड़ की है। नतीजतन इस फिल्म का विरोध इतना बढ़ा कि आंदोलन में परिवर्तित हो गया। जिसके बाद फिल्म की रिलीज तक टालनी पड़ी है। अब इस फिल्म के जल्द रिलीज होने की कोई संभावना नहीं है।  

वहीं प्रसिद्ध ​मराठी फिल्म सैराट का हिंदी रीमेक धड़क को लेकर भी राजस्थान में विरोध के सुर सुनाई दिए। हालांकि धड़क की शेड्यूल शूटिंग उदयपुर और जयपुर में खत्म हो गई है। दरअसल धड़क फिल्म से बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी और शाहिद कपूर के भाई ईशान खट्टर डेब्यू कर रहे है। करण जौहर के धर्मा प्रोडेक्शन की इस फिल्म की जयपुर में हो रही शूटिंग के दौरान एक एतिहासिक धरोहर को नुकसान पहुंचा था। 

जिसके बाद धरोहर बचाओ समिति के सदस्यों ने शूटिंग का विरोध किया था। शूटिंग जयपुर के आमेर किले के नजदीक स्थित एक मंदिर में की जा रही थी। इससे पूर्व भी राजस्थान में बॉलीवुड फिल्म को ​विरोध होते रहे। वर्ष 2008 आई आशुतोष गोवारीकर की फिल्म जोधा अकबर भी ​विरोध के चलते राजस्थान में रिलीज नहीं हो सकी थी। इस फिल्म में मुख्य भमिकाओं में रितिक रोशन और एश्व​र्या राय थे। इस​ फिल्म के विरोध में भी मुख्य रुप से करणी सेना ही थे। 

वहीं राजस्थान में लगातार हो रहे ​फिल्म विरोध के चलते बॉलीवुड में खासा रोष है। साथ ही राजनेताओं की लगातार हो रही बयानबाजी भी ​बॉलीवुड फिल्म निर्माताओं का मोह राजस्थान से भंग कर सकती है। आए दिन होने वाले प्रदर्शनों के चलते राजस्थान की छवि को भी नुकसान पहुंच रहा है। साथ ही राजस्थान में पर्यटन व्यवसाय पर भी इसका खासा असर पड़ने की संभावना है। 

You May Also Like

English News