जानिए टीम में धोनी के होने और युवी की वापसी के बारे में क्या बोले शास्त्री….

श्रीलंका में टीम इंडिया के अभूतपूर्व प्रदर्शन के बाद हेड कोच रवि शास्त्री बेहद खुश हैं. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सीरीज से पहले विराट ब्रिगेड की जमकर तारीफ की है, साथ ही भविष्य की रणनीति पर भी फोकस किया है. मंगलवार को उन्होंने विराट कोहली की कप्तानी के अलावा महेंद्र सिंह धोनी के टीम में रहने और युवराज सिंह की वापसी पर अपने विचार रखे. इंडिया टुडे से इंटरव्यू में शास्त्री ने कहा कि टीम के ड्रेसिंग रूम को लेकर खिलाड़ियों के नजरिये में बदलावा आया है, जो सबसे महत्वपूर्ण है.जानिए टीम में धोनी के होने और युवी की वापसी के बारे में क्या बोले शास्त्री....8 साल बाद आज होगा पाकिस्तान में इंटरनेशनल क्रिकेट का आगाज…..

मजबूत होकर उभरे विराट

रवि शास्त्री ने कहा, ‘विराट श्रीलंका दौरे के दौरान काफी मजबूत होकर उभरे हैं. कप्तान के तौर पर उनका शानदार प्रदर्शन उनके आत्मविश्वास को बढ़ाया है. उनके लिए ‘शॉर्ट कट’ कोई मायने नहीं रखता. विराट और धोनी में बेहतर तालमेल है, वे एक-दूसरे का सम्मान करते हैं.’ शास्त्री ने आगे कहा , ‘मैदान पर विराट का समर्पण उन्हें काफी आगे ले जाएगा. कप्तान के रूप में आनेवाले तीन साल उनके लिए काफी अहम होंगे. इसी के बाद उनकी कप्तानी की समीक्षा की जा सकती है.’

धोनी को बेहतर करार दिया

36 साल के धोनी को शास्त्री ने फिट करार दिया है. उन्होंने कहा, ‘धोनी की प्रदर्शन को लेकर कोई सवालिया निशान नहीं है. फिलहाल टीम में सबसे बेहतर हैं. बल्लेबाज के तौर पर धोनी में अब भी काफी कुछ बचा हुआ है. श्रीलंका में उनका हालिया प्रदर्शन, तो महज ट्रेलर था.’ युवराज सिंह की वापसी के सवाल पर उन्होंने कहा कि वनडे टीम में स्थान बनाने के लिए फिटनेस के मानदंड तय कर दिए गए हैं. जो भी खिलाड़ी इस पर फिट बैठेगा, वह टीम में स्थान बना सकता है.

अश्विन-जडेजा टेस्ट पर फोकस करें

भारत के शीर्ष स्पिनर्स आर. अश्विन और रवींद्र जडेजा को मौका नहीं दिए जाने पर शास्त्री ने कहा कि फिलहाल उन दोनों को टेस्ट क्रिकेट पर फोकस करना चाहिए. वर्ल्ड कप में अभी दो साल बचा है. दूसरों के प्रदर्शन के मद्देनजर वनडे में उन्हें हमेशा मौका नहीं मिल सकता. उधर, हार्दिक पंड्या को शास्त्री ने ‘बिना तराशा हुआ हीरा’ कहते हुए कहा कि इस ऑलराउंडर को अभी काफी आगे जाना है.

द्विपक्षीय सीरीज प्राथमिकता में नहीं

द्विपक्षीय सीरीज शास्त्री की प्राथमिकता नहीं है. उन्होंने प्रशासकों की समिति (सीओए) से टीम इंडिया के शेड्यूल को और बेहतर बनाने का अनुरोध किया है. घरेलू सीरीज के बाद दक्षिण अफ्रीकी दौर के दौरान इस पर विचार करने को कहा है. साथ ही उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अच्छी प्रतिस्पर्धी सीरीज होने की उम्मीद जताई है.

You May Also Like

English News