जानिये मंगलवार को ही क्यों होती है हनुमान जी की पूजा, क्या है महत्व…

आज मंगलवार है भगवान हुनुमान जी का दिन है. आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि मंगलवार को ही बजरंगबली हनुमान जी की पूजा क्यों की जाती है और कैसे इसका लाभ उठाया जा सकता है.जानिये मंगलवार को ही क्यों होती है हनुमान जी की पूजा, क्या है महत्व...जानिए हाथ की इन लकीरों से नौकरी में सफल होगें या फिर बिजनेस में…

मान्यताओं के अनुसार इसी दिन हनुमान जी का जन्म हुआ था और हनुमान जी को मंगल ग्रह का नियंत्रक भी माना जाता है. इस दिन हनुमान जी की उपासना करने से साहस ,आत्मविश्वास और शक्ति की प्राप्ति होती है. अगर 11 मंगलवार का उपवास रखा जाए और हनुमान जी का दर्शन किया जाए तो सभी प्रकार के कर्जों से राहत मिलती है. मंगलवार की रात्रि को अगर 100 बार हनुमान चालीसा का पाठ करें तो कोई भी मनोकामना पूरी हो सकती है.

क्यों चढ़ती है हनुमान जी को तुलसी और क्या है इसका विशेष प्रयोग?

तुलसी भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय मानी जाती है और उनके अवतारों को भी चढ़ाई जाती है. तुलसी चढ़ाने से श्री राम भी अत्यंत प्रसन्न होते हैं. इसलिए हनुमान जी तो प्रसन्न होंगे ही. अगर नित्य प्रातः हनुमान जी को तुलसी जल अर्पित किया जाए तो जीवन भर अन्न का अभाव नहीं होगा.

हनुमान जी को ध्वज चढ़ाने का कारण और उसका विशेष प्रयोग?

महाभारत के युद्ध में हनुमान जी अर्जुन के रथ के ध्वज पर विराजमान थे और सारे युद्ध में उन्होंने पांडवों की रक्षा की. उन्हें विजय दिलाई. आयु रक्षा, मुकदमों तथा परीक्षा में विजय और संपत्ति की प्राप्ति के लिए हनुमान जी को मंगलवार को तिकोन ध्वज चढ़ाई जाती है. अगर बार-बार प्रयास करने पर भी मकान न बन पा रहा हो तो मंगलवार को हनुमान जी को एक तिकोन लाल ध्वज चढ़ाएं, ध्वज पर ‘राम’ लिखा होना चाहिए.

क्यों चढ़ता है सिन्दूर और इसका विशेष प्रयोग

भगवती सीता की प्रेरणा से अपने स्वामी राम को प्रसन्न करने के लिए हनुमान जी ने शरीर में ढेर सारा सिन्दूर लगा लिया था, तभी से हनुमान जी को सिन्दूर चढ़ाने की परंपरा शुरू हुई. हनुमान जी को सिन्दूर और चमेली का तेल चढ़ाने से रोगों और शारीरिक व्याधियों से मुक्ति मिलती है. ग्रहों की पीड़ा समाप्त होती है. महिलाओं को हनुमान जी को सिन्दूर नहीं चढ़ाना चाहिए. इसकी जगह पर लाल फूल चढ़ाना उत्तम होगा. मंगलवार को हनुमान जी के चरणों से सिन्दूर लाएं, किसी भी कार्य के लिए निकलते समय उसका तिलक लगाएं, इससे आपका हर कार्य सिद्ध होगा, साथ ही दुर्घटनाओं से बचे रहेंगे. 

क्या है मंगलवार की पूजा की सावधानियां ?

– अगर मंगलवार को उपवास रखते हैं तो इस दिन नमक न खायें

– अगर इस दिन मीठी वस्तु का दान करते हैं तो इस दिन मीठी चीजों से परहेज करें.

– प्रयास करें कि इस दिन घर में मांस मदिरा का सेवन बिलकुल न हो.

– मंगलवार के दिन हवन करना अनुकूल नहीं माना जाता, इसलिए इस दिन हवन न करें

You May Also Like

English News