जानें उस बीटेक छात्र के बारे में जिसे मिला 98 लाख का पैकेज

बिरला संस्थान में इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग से बीटेक कर रहे चतुर्थ वर्ष के छात्र मुनीर खान को बड़ी उपलब्धि हाथ लगी है। जेनेवा स्थित यूरोपियन ऑर्गनाइजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च (सर्न) ने 98 लाख के पैकेज पर मुनीर का प्लेसमेंट किया है। दावा है कि यह पैकेज इस वर्ष किसी भारतीय को दिया जाने वाला सबसे बड़ा पैकेज है।बिरला संस्थान में इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग से बीटेक कर रहे चतुर्थ वर्ष के छात्र मुनीर खान को बड़ी उपलब्धि हाथ लगी है। जेनेवा स्थित यूरोपियन ऑर्गनाइजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च (सर्न) ने 98 लाख के पैकेज पर मुनीर का प्लेसमेंट किया है। दावा है कि यह पैकेज इस वर्ष किसी भारतीय को दिया जाने वाला सबसे बड़ा पैकेज है।   सर्न दुनिया की सबसे बड़ी कण भौतिकी प्रयोगशाला है। संस्थान में अध्ययन के दौरान ही मुनीर खान लियोजौंस विश्वविद्यालय फ्रांस, होम्स स्टेट विश्वविद्यालय रूस, डीआरडीओ देहरादून व एनआइटी कालीकट के इलेक्ट्रॉनिक्स व कंप्यूटर से जुड़े कई प्रोजेक्ट में अपना योगदान दे चुके हैं। उन्हें भारत सरकार के विज्ञान एवं तकनीकी विभाग ने यंग साइंटिस्ट अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है।  संस्थान के इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष और दो बार शोध के लिए सर्न जा चुके डॉ. हेम पांडे ने बताया कि मुनीर खान को अध्ययन के दौरान ही बोस्टन विश्वविद्यालय यूएसए में पीएचडी के लिए फेलोशिप के लिए भी चुना गया है। लखनऊ के सामान्य परिवार से संबंध रखने वाले मुनीर खान ने अपनी इस उपलब्धि के लिए संस्थान के निदेशक प्रो. बीएस बिष्ट, विभागाध्यक्ष प्रो. हेम पांडे, सभी अध्यापकों व परिजनों को धन्यवाद दिया है। इस विश्वस्तरीय उपलब्धि पर संस्थान के निदेशक, विभागाध्यक्ष, डॉ. नीरज पांडे आदि ने मुनीर को बधाई दी है।   अल्मोड़ा के कटारमल में स्थित है प्राचीन सूर्य मंदिर यह भी पढ़ें सर्न के बारें में जानें  कण भौतिकी की विश्व की सबसे बड़ी प्रयोगशाला सर्न है। यह फ्रांस और स्विट्जरलैंड की सीमा पर जिनेवा के उत्तर-पश्चिमी उपनगरीय क्षेत्र में है। इस संस्था में बीस यूरोपीय सदस्य देश हैं। इस समय लगभग 2600 स्थाई कर्मचारी एवं दुनिया भर के कोई 500 विश्वविद्यालयों एवं 80 राष्ट्रों के लगभग 7930 वैज्ञानिक एवं अभियन्ता कार्यरत हैं।

सर्न दुनिया की सबसे बड़ी कण भौतिकी प्रयोगशाला है। संस्थान में अध्ययन के दौरान ही मुनीर खान लियोजौंस विश्वविद्यालय फ्रांस, होम्स स्टेट विश्वविद्यालय रूस, डीआरडीओ देहरादून व एनआइटी कालीकट के इलेक्ट्रॉनिक्स व कंप्यूटर से जुड़े कई प्रोजेक्ट में अपना योगदान दे चुके हैं। उन्हें भारत सरकार के विज्ञान एवं तकनीकी विभाग ने यंग साइंटिस्ट अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है।

संस्थान के इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष और दो बार शोध के लिए सर्न जा चुके डॉ. हेम पांडे ने बताया कि मुनीर खान को अध्ययन के दौरान ही बोस्टन विश्वविद्यालय यूएसए में पीएचडी के लिए फेलोशिप के लिए भी चुना गया है। लखनऊ के सामान्य परिवार से संबंध रखने वाले मुनीर खान ने अपनी इस उपलब्धि के लिए संस्थान के निदेशक प्रो. बीएस बिष्ट, विभागाध्यक्ष प्रो. हेम पांडे, सभी अध्यापकों व परिजनों को धन्यवाद दिया है। इस विश्वस्तरीय उपलब्धि पर संस्थान के निदेशक, विभागाध्यक्ष, डॉ. नीरज पांडे आदि ने मुनीर को बधाई दी है।

सर्न के बारें में जानें

कण भौतिकी की विश्व की सबसे बड़ी प्रयोगशाला सर्न है। यह फ्रांस और स्विट्जरलैंड की सीमा पर जिनेवा के उत्तर-पश्चिमी उपनगरीय क्षेत्र में है। इस संस्था में बीस यूरोपीय सदस्य देश हैं। इस समय लगभग 2600 स्थाई कर्मचारी एवं दुनिया भर के कोई 500 विश्वविद्यालयों एवं 80 राष्ट्रों के लगभग 7930 वैज्ञानिक एवं अभियन्ता कार्यरत हैं।

You May Also Like

English News