जापान प्रधानमंत्री शिंजो आबे को ट्रम्प के साथ की आस

 अपने घर में ही राजनीतिक उठा-पटक का शिकार हो रहे जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ से शुरू हो रही दो दिवसीय वार्ता के लिए मारा लागो रिसॉर्ट जा रहे हैं. आबे ने कहा  कि वह वापस लौटकर अपनी सरकार की गड़बड़ियों को दूर करेंगे. उन्होंने कहा , ‘‘ सरकार का प्रमुख होने के नाते मैं प्रत्येक समस्या से निपटने और सच्चाई बाहर लाने के लिए प्रतिबद्ध हूं. जापान: अपने घर में ही राजनीतिक उठा-पटक का शिकार हो रहे जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ से शुरू हो रही दो दिवसीय वार्ता के लिए मारा लागो रिसॉर्ट जा रहे हैं. आबे ने कहा  कि वह वापस लौटकर अपनी सरकार की गड़बड़ियों को दूर करेंगे. उन्होंने कहा , ‘‘ सरकार का प्रमुख होने के नाते मैं प्रत्येक समस्या से निपटने और सच्चाई बाहर लाने के लिए प्रतिबद्ध हूं.  ’’  कयास लगाए जा रहे है कि ट्रंप के साथ बैठक से आबे को उनके देश में कुछ समस्याओं से राहत मिल सकती है और उनकी लोकप्रियता में हो रही गिरावट भी रूक सकती है . दोनों नेताओं की इससे पहले दो बार पहले भी बैठक हो चुकी है.  इस बार की बैठक पूर्ववर्ती दो बैठकों से अधिक चुनौतीपूर्ण हो सकती है. आबे को व्यापार और उत्तर कोरिया को लेकर नीति विभाजनों से पार पाना होगा जो कि ट्रंप के कार्यकाल के दूसरे वर्ष में उभरा है.   गौरतलब है कि जापान में हुए कुछ सर्वेक्षणों के अनुसार आबे की लोकप्रियता 30 प्रतिशत से नीचे गिर गई है. आबे पर भाई भतीजावाद और उनके कई मंत्रियों पर सरकारी दस्तावेजों को सही तरीके से नहीं संभालने के आरोप लगे हैं. वहीं पिछले वर्ष नवम्बर में तोक्यो में ट्रंप के साथ बैठक के दौरान उनकी लोकप्रियता 50 प्रतिशत थी. उससे कुछ समय पहले ही उनकी पार्टी को चुनाव में जबर्दस्त विजय हासिल हुई थी. ’’

कयास लगाए जा रहे है कि ट्रंप के साथ बैठक से आबे को उनके देश में कुछ समस्याओं से राहत मिल सकती है और उनकी लोकप्रियता में हो रही गिरावट भी रूक सकती है . दोनों नेताओं की इससे पहले दो बार पहले भी बैठक हो चुकी है.  इस बार की बैठक पूर्ववर्ती दो बैठकों से अधिक चुनौतीपूर्ण हो सकती है. आबे को व्यापार और उत्तर कोरिया को लेकर नीति विभाजनों से पार पाना होगा जो कि ट्रंप के कार्यकाल के दूसरे वर्ष में उभरा है. 

गौरतलब है कि जापान में हुए कुछ सर्वेक्षणों के अनुसार आबे की लोकप्रियता 30 प्रतिशत से नीचे गिर गई है. आबे पर भाई भतीजावाद और उनके कई मंत्रियों पर सरकारी दस्तावेजों को सही तरीके से नहीं संभालने के आरोप लगे हैं. वहीं पिछले वर्ष नवम्बर में तोक्यो में ट्रंप के साथ बैठक के दौरान उनकी लोकप्रियता 50 प्रतिशत थी. उससे कुछ समय पहले ही उनकी पार्टी को चुनाव में जबर्दस्त विजय हासिल हुई थी. 

 

You May Also Like

English News