जापान में बारिश का कहर बाढ़ और बारिश से 49 मौत

जापान के पश्चिमी और और मध्य क्षेत्रों में जारी मूसलधार बारिश से 49 लोगों की मौत हो गई है और 48 लापता हैं. साथ ही जापान के दक्षिण पश्चिम क्षेत्र बाढ़ और मूसलाधार बारिश से बुरी तरह से प्रभावित है. यहाँ की सरकारी मीडिया ने यह जानकारी दी है. 16 लाख से ज्यादा लोगों को उनके घरों से निकाला गया है. टेलीविजन फुटेज में साफ देखा जा सकता है एक आवासीय क्षेत्र जो भूरे रंग के पानी में एक विशाल झील में तब्दील हो चूका है. जापान के पश्चिमी और और मध्य क्षेत्रों में जारी मूसलधार बारिश से 49 लोगों की मौत हो गई है और 48 लापता हैं. साथ ही जापान के दक्षिण पश्चिम क्षेत्र बाढ़ और मूसलाधार बारिश से बुरी तरह से प्रभावित है. यहाँ की सरकारी मीडिया ने यह जानकारी दी है. 16 लाख से ज्यादा लोगों को उनके घरों से निकाला गया है. टेलीविजन फुटेज में साफ देखा जा सकता है एक आवासीय क्षेत्र जो भूरे रंग के पानी में एक विशाल झील में तब्दील हो चूका है.      जापान के मौसम विभाग ने मुख्य द्वीप होनशु में तीन प्रांतों के लिए विशेष चेतावनी जारी की है. मौसम विभाग ने भूस्खलन, नदियों का जलस्तर बढ़ने और तेज हवा चलने की आशंका जताई है. कुछ लोग घरों की छतों और बालकनी में चले गये है. फुटेज में कुराशिकी में लोगों को अपने छत पर होने और मदद मांगते हुए देखा गया है. जापान की राजधानी टोक्यो से करीब 600 किलोमीटर की दूरी पर शिकोकु द्वीप पर स्थित मोटोयामा शहर में शुक्रवार से शनिवार सुबह तक 583 मिमी वर्षा हुई है.      मौसम का यह रुख हालांकि पश्चिम और पूर्वी जापान के बीच बना हुआ है फिर भी भारी बारिश जारी रहने का खतरा है. इसका कारण यह है कि आगे की ओर गर्म हवा चल रही है. प्रभावित क्षेत्रों में पानी पांच मीटर (16 फुट) की ऊंचाई तक पहुंच गया है. हिरोशिमा में भूस्खलन से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि बाढग़्रस्त इलाके से एक बच्चे का शव भी बरामद हुआ है. शनिवार सुबह तक 16 लाख से ज्यादा लोगों को उनके घरों से निकाल सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया

जापान के मौसम विभाग ने मुख्य द्वीप होनशु में तीन प्रांतों के लिए विशेष चेतावनी जारी की है. मौसम विभाग ने भूस्खलन, नदियों का जलस्तर बढ़ने और तेज हवा चलने की आशंका जताई है. कुछ लोग घरों की छतों और बालकनी में चले गये है. फुटेज में कुराशिकी में लोगों को अपने छत पर होने और मदद मांगते हुए देखा गया है. जापान की राजधानी टोक्यो से करीब 600 किलोमीटर की दूरी पर शिकोकु द्वीप पर स्थित मोटोयामा शहर में शुक्रवार से शनिवार सुबह तक 583 मिमी वर्षा हुई है. 

मौसम का यह रुख हालांकि पश्चिम और पूर्वी जापान के बीच बना हुआ है फिर भी भारी बारिश जारी रहने का खतरा है. इसका कारण यह है कि आगे की ओर गर्म हवा चल रही है. प्रभावित क्षेत्रों में पानी पांच मीटर (16 फुट) की ऊंचाई तक पहुंच गया है. हिरोशिमा में भूस्खलन से एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि बाढग़्रस्त इलाके से एक बच्चे का शव भी बरामद हुआ है. शनिवार सुबह तक 16 लाख से ज्यादा लोगों को उनके घरों से निकाल सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया

You May Also Like

English News