जिन पुरुषों में होते हैं ये 10 लक्षण वो होते हैं भाग्य के धनी, कहीं आप भी तो नहीं…

भारत में हिन्दू धर्म को मानाने वाले सबसे ज्यादा लोग हैं धर्म का किसी व्यक्ति के जीवन में क्या महत्व होता है, यह किसी को बताने की जरुरत नहीं है। सभी धर्म में इंसानियत की बात की गयी है और जानवरों से प्रेम के बारे में बताया गया है। हालाँकि आज लोग धर्म का पालन तो कर रहे हैं, लेकिन धीरे-धीरे इंसानियत भूलते जा रहे हैं। हिन्दू धर्म में कई धार्मिक पुस्तकें हैं। सभी पुस्तकों में मानव मूल्यों और जीवन जीने के सही तरीके के बारे में बताया गया है।

ऐसा कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति धर्म की इन पुस्तकों के हिसाब से पाना जीवन जीता है, उसे जीवन में किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होती है। हिन्दू धर्म पुराणों में मानव और मानवता के बारे में बहुत सी बातें बताई गयी हैं। इन्ही बातों से मानव व्यवहार के बारे में पता चलता है। इनमें कुछ ऐसी बातें भी बताई गयी हैं, जिससे स्त्री या पुरुषों के भाग्यशाली होने के बारे में पता चलता है। आज हम आपको गरुण पुराण में लिखित 10 ऐसी बातों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो किसी भी पुरुष को भाग्य का धनी बना देती हैं।

ये 10 बातें बना देंगी आपको भाग्य का धनी:

*- जो व्यक्ति हमेशा सुबह उठने और उठाकर व्यायाम करने पर यकीं रखता है, वह जीवन भर निरोगी रहता है। उसे जीवन में किसी भी गंभीर बीमारी का सामना नहीं करना पड़ता है।

*- जो व्यक्ति शारीरिक श्रम करने से कभी नहीं पीछे हटता है और जीवन में कड़ी मेहनत करने में यकीं रखता है, उसे जीवन में कभी असफलता नहीं मिलती है।

*- जो व्यक्ति अपाने परिवार और करीबी मित्रों से हमेशा जुड़ा रहता है और अपने से जुड़े सभी लोगों का ध्यान रखता है, उसे हर जगह मान-सम्मान मिलता है।

*- जिस व्यक्ति के अन्दर यह गुण हो कि वह बोलने से ज्यादा सुनने में विश्वास रखता है, वह एक अच्छा लाइफ पार्टनर बनता है। ऐसे पुरुष अपने वैवाहिक जीवन में खुश रहते हैं।

*- कई लोगों की आदत होती है कि वह अपने निजी संबंधों के बारे में सभी को बता देते हैं और बाद में परेशानियों से घिर जाते हैं। लेकिन इसके उलट जो व्यक्ति अपने निजी संबंधों की जानकारी गुप्त रखता है, वह परेशानियों से बचा रहता है।

*- जो व्यक्ति जीवन में उसी चीज से खुश रहने की कोशिश करते हैं जो उनके पास है, तो उन्हें जीवन में कभी दुःख का सामना नहीं करना पड़ता है। कहा गया है कि व्यक्ति के दुखों का कारण उसकी इच्छाएं हैं।

*- अच्छा व्यक्ति वही होता है जो अपने गुणों का बखान किसी और के सामने नहीं करता है। खुद की तारीफ करना अच्छा गुण नहीं माना जाता है।

*- जो व्यक्ति छोटे से लेकर बड़ों सभी को आदर-सम्मान देता है और हर सुख-दुःख में सबके साथ रहता है, उसे सभी लोगों का प्रेम प्राप्त होता है।

*- जो व्यक्ति कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी डंटकर खड़ा रहता है और हर परेशानी का सामना करता है, उसे जीवन के हर क्षेत्र में सफलता मिलती है।
*- जो व्यक्ति धर्म के रास्ते पर चलकर धन कमाता है और अधर्म से दूर रहता है, उसे ही श्रेष्ठ पुरुष कहा जाता है।

You May Also Like

English News