जीप के बोनट पर बांधे गए डार ने मेजर गोगोई मामले में कहा- आखिरकार इंसाफ हुआ

कश्मीर में कथ‍ित तौर पर पत्थरबाजों को रोकने के लिए जीप की बोनट पर बांधे जाने पर चर्चा में आए फारूक अहमद डार ने होटल मामले में मेजर गोगोई के दोषी पाए जाने पर कहा है आखि‍रकार इंसाफ हुआ है. सेना की कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी ने सोमवार को स्थानीय लड़की से संपर्क रखने और उसे होटल में ले जाने के मामले में मेजर गोगोई को दोषी माना है.जीप के बोनट पर बांधे गए डार ने मेजर गोगोई मामले में कहा- आखिरकार इंसाफ हुआ

श्रीनगर में एक होटल के बाहर लड़की के साथ हिरासत में लिए गए मेजर लितुल गोगोई के खिलाफ अब अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी. उन्हें ड्यूटी के वक्त ऑपरेशनल एरिया से दूर होने का दोषी पाया है. इसके अलावा मेजर गोगोई को निर्देशों के खिलाफ जाकर स्थानीय नागरिक से मेल-मिलाप बढ़ाने का भी दोषी पाया गया है.

बता दें कि इसी साल 23 मई को भारतीय सेना के मेजर लितुल गोगोई श्रीनगर के होटल ग्रैंड ममता में बडगाम की लड़की के साथ हिरासत में लिए गए थे. मामला सामने आने के बाद सेना ने इस मामले में कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश दिया था.

मेजर को हो गया था अहंकार!

डार ने आजतक से फोन पर बात करते हुए कहा, ‘मैं अल्लाह का शुक्रगुजार हूं. जिस बंदे ने मेरा जीवन तबाह कर दिया, आखिरकार उसे खुदा के कोप का सामना करना पड़ा. खुदा का इंसाफ करने का अपना तरीका होता है.’

डार ने कहा, ‘सेना के मेजर को पावर का अहंकार हो गया था और वह अपने को खुदा समझने लगे थे. लेकिन उन्हें शायद पता नहीं था कि उसकी लाठी में आवाज नहीं होती

क्या था मामला

28 साल के बुनकर डार 9 अप्रैल 2017 को सेना द्वारा जीप पर बांधकर घुमाए जाने के बाद अभी अपनी सामान्य ज़िंदगी में लौटने के लिए जूझ रहे हैं. सेंट्रल कश्मीर के बड़गाम में रहने वाले फ़ारूक़ अहमद डार ने उस दिन हो रहे उपचुनाव में अपना वोट डाले और इसके बाद वह पड़ोस के गांव में अपने एक रिश्तेदार के यहां हुई एक मौत के बाद लौट रहा था, जब उसे रोक कर उसकी बजाज पल्सर बाइक से उतरने को कहा गया.  डार के हाथ रस्सी से बांधकर सेना की जीप के बोनट पर बांधा गया. करीब 6 घंटों तक उसे उस इलाके के कई गांवों में घुमाया गया.

यह सब बीरवाह सब-डिस्ट्रिक्ट में भारतीय सेना के बड़गाम कैंप के 53, राष्ट्रीय राइफल के मेजर लीतुल गोगोई के नेतृत्व में हुआ. लीतुल का कहना था कि पत्थरबाजों से बचने के लिए सेना का ऐसा करना जरूरी था. इसके बाद सरकार द्वारा मेजर को सम्मानित भी किया गया था.

क्या था लड़की और होटल का मामला

मेजर गोगोई को 23 मई को श्रीनगर में होटल ग्रैंड ममता से बडगाम की लड़की के साथ हिरासत में लिया गया था. मेजर गोगोई इस स्थानीय लड़की के साथ होटल में चेक-इन करना चाहते थे. इसी बात को लेकर विवाद हुआ और होटल प्रबंधन ने पुलिस बुला ली थी. पुलिस ने मेजर गोगोई और लड़की को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया था. आईजीपी ने इस मामले की जांच श्रीनगर जोन के एसपी सज्जाद शाह को सौंपी थी, जबकि गोगोई को सेना की बडगाम यूनिट के पास वापस भेज दिया गया था.

You May Also Like

English News