जौरा विधानसभा सीट: क्या कांग्रेस-बसपा को पछाड़ कर दोबारा जीतेगी BJP?

मध्य प्रदेश की जौरा विधानसभा सीट पर इस बार चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर मानी जा रही है. इस सीट पर कभी भी किसी एक पार्टी का कब्जा नहीं रहा. हर बार के विधानसभा चुनाव में यहां दूसरी पार्टी जीत आती है.

फिलहाल यहां बीजेपी का राज है और विधायक हैं सूबेदार सिंह रजौधा. ऐसा कहा जाता है कि सूबेदार सिंह की बदौलत बीजेपी यहां आजादी के बाद पहली बार चुनाव जीती.

सूबेदार सिंह यदि दोबारा बीजेपी से लड़ते हैं तो कांग्रेस और बसपा को दिक्कत होगी. वहीं, बसपा और कांग्रेस मिलकर चुनाव लड़े तो सूबेदार सिंह और बीजेपी मुश्किल में आ सकते हैं.

2013 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो बीजेपी के सूबेदार सिंह को 42421 वोट मिले थे, जबकि कांग्रेस के बनवारीलाल शर्मा महज दो हजार वोट से हारे थे. हालांकि, बसपा के मनीराम ने यहां अच्छा प्रदर्शन किया था. उन्हें 30 हजार से ज्यादा वोट मिले थे.

मुरैना की जौरा सीट के बारे में कहा जाता है कि यहां ब्राह्मण, धाकड़, क्षत्रीय व कुशवाह समुदाय हर चुनाव में निर्णायक स्थिति में रहता है. इसके अलावा मुस्लिम वोट यहां काफी प्रभावशाली है. देखा गया है कि मुस्लिम वोट का झुकाव जिस पार्टी की ओर रहा है उसकी यहां जीत हुई है.

इस बार यहां से बीजेपी के संभावित प्रत्याशी सूबेदार सिंह रजौधा, भाजपा अध्यक्ष अनूप सिंह भदौरिया, नागेंद्र तिवारी हैं. जबकि कांग्रेस से संभावित प्रत्याशी बनवारीलाल शर्मा, राजाबेटी व्यास, कैलाश मित्तल है.

You May Also Like

English News