टीम इंडिया: गॉल का इतिहास बदलने और सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाने के इरादे से भारत…

भारत और श्रीलंका के बीच आज से तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट खेला जाएगा. ये मुकाबला गॉल इंटरनेशनल स्टेडियम में आज सुबह 10 बजे से खेला जाएगा. ये वही मैदान है जहां पिछले दौरे पर टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा था. विराट कोहली एंड कंपनी 2015 में गॉल में मिली हार का बदला चुकता करने के लिए बेताब होगी. इस बार टीम इंडिया का मकसद गॉल टेस्ट जीतकर सीरीज में 1-0 से बढ़त बनाने पर होगी.टीम इंडिया: गॉल का इतिहास बदलने और सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाने के इरादे से भारत...INDvsSL: शतक के बाद जमकर बरस रहे हैं धवन, भारत 200 रन के पार…

श्रीलंका दौरे से ही की थी नंबर 1 बनने की शुरूआत

विराट कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम ने 2015 के श्रीलंका दौरे पर श्रीलंकाई टीम को 2-1 से टेस्ट सीरीज हराकर टेस्ट क्रिकेट में नंबर 1 बनने की शुरुआत की थी. यहां से भारत ने दक्षिण अफ्रीका, वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, बांग्लादेश और ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट सीरीज में मात पर मात दी.

तब के युवा कप्तान कोहली ने टीम को टेस्ट में शीर्ष टीम बना कर वो जगह दोबारा हासिल की जो महेंद्र सिंह धोनी ने पहली बार टीम को 2010 में दिलाई थी. अब कोहली एक परिपक्व कप्तान बनकर दोबारा वहीं आए हैं, जहां से उन्होंने शुरुआत की थी.

अश्विन लगाएंगे ‘अर्धशतक’

गॉल के मैदान पर उतरते ही भारत के स्टार स्पिनर आर अश्विन के टेस्ट करियर के 50 मुकाबले पूरे हो जाएंगे. अश्विन 50 टेस्ट मैच खेलने वाले 30वें भारतीय खिलाड़ी बन जाएंगे. इसके अलावा 30 साल के अश्विन 2000 टेस्ट रन से 97 रन दूर हैं. गॉल टेस्ट में उनके पास ये कारनामा करने का मौका होगा. अगर अश्विन टेस्ट में 2000 रन पूरे कर लेते हैं, तो वो 250 से ज्यादा विकेट और 2000 से ज्यादा टेस्ट रन बनाने वाले वाले सिर्फ चौथे भारतीय होंगे. इससे पहले कपिल देव, अनिल कुंबले, हरभजन सिंह ये कारनामा कर चुके हैं.

गॉल में श्रीलंका का पलड़ा भारी

वैसे तो टीम इंडिया मेजबान श्रीलंकाई टीम पर खासा भारी दिखाई पड़ती है लेकिन गॉल का इतिहास टीम इंडिया के हक में नहीं है. गॉल के मैदान पर अब तक भारत और श्रीलंका के बीच में कुल 4 मैच खेले जा चुके हैं, जिनमें से 3 में भारत को करारी शिकस्त झेलनी पड़ी है और सिर्फ 1 मैच में जीत नसीब हुई है. भारत गॉल में खेले गए पिछले दो मुकाबलों में हार चुका है. ऐसे में वो इस बार श्रीलंका को हराकर गॉल में उनकी जीत की हैट्रिक रोकना चाहेगा.

टीम इंडिया

कोहली का बल्ला रन मशीन की तरह रन उगल रहा है. वहीं टेस्ट स्पेशलिस्ट चेतेश्वर पुजारा पिछले पूरे सेशन में चुपचाप अपना काम करते हुए रनों का पहाड़ खड़ा करते चले गए और कब टेस्ट बल्लेबाजों की रैंकिंग में अपने कप्तान को पीछे छोड़ गए किसी को भनक तक नहीं लगी.उप-कप्तान अंजिक्य रहाणे को चैम्पियंस ट्रॉफी में मौका नहीं मिला था, लेकिन वेस्टइंडीज दौरे पर वनडे सीरीज में उन्होंने खूब रन बनाए. टेस्ट में वह हमेशा टीम के लिए उपयोगी साबित हुए हैं. रोहित शर्मा को टीम में चुना गया है और पूरी संभावना है कि वह प्लेइंग इलेवन में जगह बनाने में सफल होंगे.

दौरे की शुरुआत से पहले भारत को हालांकि एक बड़ा झटका लगा है. कंधे की चोट से वापसी करने वाले ओपनिंग बल्लेबाज लोकेश राहुल बुखार के कारण पहला मैच नहीं खेल पाएंगे. दौरे से पहले मुरली विजय भी चोट के कारण टीम से बाहर हो चुके हैं.ऐसे में अभिनव मुकुंद और शिखर धवन के पारी की शुरुआत करने की पूरी संभावना है. 

गेंदबाजी में टीम अपने दो स्पिनरों रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा पर काफी हद तक निर्भर रहेगी. अगर टीम मैनेजमेंट तीन स्पिनरों के साथ उतरने का फैसला कर सकता है तो चाइनमैन कुलदीप यादव को टीम में जगह मिल सकती है.तेज गेंदबाजी में टीम के पास भुवनेश्वर कुमार, उमेश यादव, मोहम्मद शमी और ईशांत शर्मा के रूप में तीन विकल्प हैं.

पंड्या कर सकते हैं डेब्यू

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने मैच से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में हार्दिक पंड्या का जिक्र करते हुए कहा कि पंड्या के पास टेस्ट डेब्यू का अच्छा मौका है. उन्हें टेस्ट टीम के लिए चुना गया है और वो प्लेइंग इलेवन में दिख सकते हैं. हमारे पास पंड्या जैसे लड़के हैं जो जरूरत पड़ने पर विकेट निकाल सकते हैं और उम्मीद है कि वो प्लेइंग इलेवन में भी जरूर हो. इससे टीम थोड़ी बैलेंस होगी. टीम में एक एक्स्ट्रा बल्लेबाज का होना भी बहुत जरूरी है.

श्रीलंका

जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे सीरीज में श्रीलंका की हार के बाद एंजेलो मैथ्यूज ने कप्तानी छोड़ दी थी. तब दिनेश चांडीमल को टेस्ट कप्तान नियुक्त किया गया था, लेकिन न्यूमोनिया होने के कारण वह पहले मैच में नहीं खेलेंगे. उनकी जगह अनुभवी स्पिन गेंदबाज रंगना हेराथ टीम की कमान संभालेंगे. हेरथ 5वीं बार श्रीलंका की टेस्ट टीम का प्रतिनिधित्व करेंगे. रंगना हेरथ की कप्तानी में श्रीलंका की टीम ने 4 में से 3 टेस्ट मैच में जीत हासिल की है, जबकि एक में उसे हार का सामना करना पड़ा है. हालांकि उनकी कप्तानी में श्रीलंका को बांग्लादेश और जिम्बाब्वे जैसी कमजोर टीम के खिलाफ जीत नसीब हुई है.

बल्लेबाजी में टीम मैथ्यूज, कुशल मेंडिस पर निर्भर रहेगी. श्रीलंका की टीम को तेज गेंदबाज नुवान प्रदीप की वापसी से मजबूती मिली है, जिन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जनवरी में खेला था. धनंजय डिसिल्वा को चंदीमल की जगह टीम में रखा गया है. लेफ्ट आर्म स्पिन लक्षण संदाकन और तेज गेंदबाज दुष्मंत चमीरा को हालांकि टीम से बाहर रखा गया है, जो जिम्बाब्वे के खिलाफ एकमात्र टेस्ट में टीम का हिस्सा रहे थे.

दोनों टीमें

भारत :- अभिनव मुकुंद, शिखर धवन, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (कप्तान) अजिंक्य रहाणे, हार्दिक पंड्या, रविचंद्रन अश्विन, ऋद्धिमान साहा, रवींद्र जडेजा, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, भुवनेश्वर कुमार, ईशांत शर्मा और रोहित शर्मा.

श्रीलंका :- उपुल थरंगा, दिमुथ करुणारत्ने, कुशल मेंडिस, एंजेलो मैथ्यूज, असेला गुणारत्ने, निरोशन डिकवेला, धनंजय डी सिल्वा, दानुष्का गुणातिलका , दिलरुवान परेरा, रंगना हेराथ (कप्तान), सुरंगा लकमल, लाहिरु कुमारा, विश्वा फर्नाडा, मलिंदा पुष्पाकुमारा, नुवान प्रदीप.

You May Also Like

English News