बिग ब्रेकिंग: ट्रंप की इस घोषणा से दुनिया के 50 इस्लामिक देश हुए तबाह…

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पहले विदेशी दौरे के तहत सऊदी अरब के रियाद की यात्रा करने की घोषणा करके दुनिया भर के इस्लामिक देशों को दंग कर दिया है. दिलचस्प बात यह है कि रियाद में ट्रंप दुनिया के 50 से ज्यादा इस्लामिक देशों के नेताओं को संबोधित करेंगे.बिग ब्रेकिंग: ट्रंप की इस घोषणा से दुनिया के 50 इस्लामिक देश हुए तबाह...यह भी पढ़े:> अभी-अभी: BJP को लगा बड़ा झटका इस बड़े नेता ने पार्टी छोड़ कांग्रेस का दामन थामा…
व्हाइट हाउस ने बताया कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप रियाद में इस्लाम पर स्पीच देंगे. इसके बाद वह सऊदी से इस्राइल और फिर वेटिकन सिटी के लिए रवाना होंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दरम्यान से ही मुसमानों के खिलाफ जहर उगलने वाले ट्रंप की इस घोषणा से पूरा इस्लाम जगत हैरान है. ट्रंप ने चुनाव के दरम्यान मुसलमानों के खिलाफ सिर्फ बयानबाजी ही नहीं की, बल्कि राष्ट्रपति बनने के बाद अपने चुनावी बयानों को लागू करने के लिए सख्त कदम भी उठाए.

यह भी पढ़े:> अभी-अभी: बाबा रामदेव ने सोनाक्षी सिन्हा के साथ किया कुछ ऐसा….तेजी से तस्वीरें हुई वायरल…
आतंकवाद से निपटने के लिए शांति विजन 
अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एचआर मैकमास्टर का कहना है कि रियाद में ट्रंप आतंकवाद, कट्टरपंथ और हिंसा से लड़ने के लिए इस्लाम के शांति विजन को पेश करेंगे. अमेरिका को उम्मीद है कि इस दौरान आतंकवाद और कट्टरपंथ से निपटने के लिए कोई ठोस रूपरेखा भी तैयार की जा सकती है. ट्रंप इन मुस्लिम देशों को सिर्फ इस्लाम पर उपदेश ही नहीं देंगे, बल्कि इनके साथ गलबहियां भी करेंगे. व्हाइट हाउस ने बताया कि ट्रंप रियाद में 50 से ज्यादा देशों के नेताओं से मुलाकात करेंगे और उनके साथ लंच करेंगे.

सात देशों पर लगा दिया था प्रतिबंध अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के फौरन बाद डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया, सूडान, इराक, ईरान, सोमालिया, यमन और लीबिया के नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया. साथ ही अमेरिका में लंबे समय से रह रहे मुस्लिमों की निगरानी शुरू करा दी. इसका अमेरिका समेत दुनिया भर में जमकर विरोध हुआ. हालांकि ट्रंप किसी भी कीमत पर झुकने को तैयार नहीं हुए. आखिरकार अमेरिका की अदालतों को ट्रंप के इस आदेश पर रोक लगानी पड़ी, जिसके बाद मुसलमानों ने राहत की सांस ली. ऐसे में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के मुस्लिम देशों के प्रति नरम रुख से दुनिया का हैरान होना लाजमी है.

मुस्लिम विरोधी छवि वाले नेता हैं ट्रंप अल-मजल्ला मैगजीन के पूर्व चीफ एडिटर एवं अल-अरबिया टेलीविजन के पूर्व जनरल मैनेजर अब्दुल रहमान अल राशद का कहना है कि ट्रंप ने चुनावी अभियान से लेकर राष्ट्रपति बनने और अब तक मुस्लमानों को जमकर निशाना बनाया.

आलम यह रहा कि ट्रंप ने ईरान समेत कई इस्लामिक देशों के खिलाफ भी जहर उगला. आलम यह रहा कि उन्होंने मुस्लिम देशों को निशाना बनाने के लिए राजी होने वाले लोगों की अमेरिका में उच्च पदों पर खूब नियुक्तियां भी की. उनका कहना है कि पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का मुसलमानों के प्रति नरम रुख था, लेकिन उन्होंने इस दिशा में कोई खास कदम नहीं उठाए. जबकि ट्रंप की छवि ही मुस्लिम विरोधी है, लेकिन अब वह ऐसे कदम उठा रहे हैं, जिससे बेहद हैरानी हो रही है.

ट्रंप की खुशामद के लिए तैयार सऊदी अरब में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के रियाद दौरे को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं. सऊदी अरब ने ट्रंप की खुशामद करने के लिए पूरी तरह से तैयार है. ट्रंप की यात्रा को लेकर सऊदी में उलटी गिनती शुरू हो गई है. ट्रंप के दौरे की जानकारी को लेकर सऊदी ने चार भाषाओं में वेबसाइटें लांच की हैं. शनिवार को अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पहले सऊदी के किंग सलमान बिन अब्दुल अजीज से मुलाकात करेंगे. इसके बाद मध्य पूर्व, अफ्रीका और एशिया से आने वाले इस्लामिक नेताओं के समिट में हिस्सा लेंगे. सऊदी अमेरिका का बड़ा सहयोगी माना जाता है. सऊदी के विदेश मंत्री ने कहा कि ट्रंप की पहली विदेश यात्रा के तहत रियाद आना दोनों देशों के बीच मजबूत संबंधों को दर्शाता है.

You May Also Like

English News