ट्रंप ने छेड़ा ट्रेड वॉर, चीनी सामान पर 50 अरब डॉलर के टैरिफ लगाने को दी मंजूरी

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ एक बार फिर ट्रेड वॉर की शुरुआत कर दी है. ट्रंप ने चीन से आने वाले सामान के आयात पर 50 अरब डॉलर का शुल्क लगाने को मंजूरी दे दी है. बताया जा रहा है कि अमेरिका के व्यापार मंत्री इस संबंध में आज औपचारिक घोषणा कर सकते हैं. ट्रंप के इस फैसले से एक बार फिर चीन और यूएस के बीच तनातनी बढ़ना तय है.अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ एक बार फिर ट्रेड वॉर की शुरुआत कर दी है. ट्रंप ने चीन से आने वाले सामान के आयात पर 50 अरब डॉलर का शुल्क लगाने को मंजूरी दे दी है. बताया जा रहा है कि अमेरिका के व्यापार मंत्री इस संबंध में आज औपचारिक घोषणा कर सकते हैं. ट्रंप के इस फैसले से एक बार फिर चीन और यूएस के बीच तनातनी बढ़ना तय है.  एनबीसी न्यूज ने एक अध‍िकारी के हवाले से लिखा है कि ट्रंप ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. इसकी घोषणा होने के बाद आने वाले हफ्ते में इसे संघीय लेखा-जोखा में भी अध‍िसूचित किया जा सकता है. अमेरिका की तरफ से टैरिफ लगाए जाने के बाद ये तय माना जा रहा है कि चीन भी जवाबी कार्रवाई करेगा. वह भी अपने देश में अमेर‍िकी सामान पर टैरिफ बढ़ा सकता है. इससे एक बार फिर ट्रेड वॉर की स्थ‍िति पैदा हो जाएगी.  रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप ने गुरुवार को अपने कैबिनेट मंत्र‍ियों के साथ बैठक की. इस दौरान उन्होंने टैरिफ लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. ट्रंप के मुताबिक वह यह टैर‍िफ चीन की तरफ से गलत व्यापार नीतियों पर रोक लगाने के लिए लगाते हैं. हालांकि 50 अरब डॉलर का टैरिफ स्थ‍िति को बिगाड़ सकता है.  हाल ही में ट्रंप उत्तर कोर‍िया के शासन क‍िम जोंग उन के साथ बैठक कर लौट आए हैं. हालांकि चीन के साथ ट्रेड वॉर शुरू होने से किम के साथ समझौते की राह भी मुश्क‍िल हो सकती है.  बता दें यह पहली बार नहीं है जब ट्रंप ने चीनी सामान पर टैरिफ लगाया हो. इससे पहले वह चीन से आने वाले एल्युमीनियम और स्टील पर टैक्स बढ़ा चुके हैं. उस समय भी चीन ने जवाब देने की बात कही थी.  माना जा रहा है कि अगर यह 50 अरब डॉलर का टैर‍िफ शुल्क लगाने के फैसले को पूरी तरह लागू कर दिया जाता है, तो इससे दोनों देशों के बीच गंभीर ट्रेड वॉर छ‍िड़ सकता है.

एनबीसी न्यूज ने एक अध‍िकारी के हवाले से लिखा है कि ट्रंप ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. इसकी घोषणा होने के बाद आने वाले हफ्ते में इसे संघीय लेखा-जोखा में भी अध‍िसूचित किया जा सकता है. अमेरिका की तरफ से टैरिफ लगाए जाने के बाद ये तय माना जा रहा है कि चीन भी जवाबी कार्रवाई करेगा. वह भी अपने देश में अमेर‍िकी सामान पर टैरिफ बढ़ा सकता है. इससे एक बार फिर ट्रेड वॉर की स्थ‍िति पैदा हो जाएगी.

रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप ने गुरुवार को अपने कैबिनेट मंत्र‍ियों के साथ बैठक की. इस दौरान उन्होंने टैरिफ लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. ट्रंप के मुताबिक वह यह टैर‍िफ चीन की तरफ से गलत व्यापार नीतियों पर रोक लगाने के लिए लगाते हैं. हालांकि 50 अरब डॉलर का टैरिफ स्थ‍िति को बिगाड़ सकता है.

हाल ही में ट्रंप उत्तर कोर‍िया के शासन क‍िम जोंग उन के साथ बैठक कर लौट आए हैं. हालांकि चीन के साथ ट्रेड वॉर शुरू होने से किम के साथ समझौते की राह भी मुश्क‍िल हो सकती है. 

बता दें यह पहली बार नहीं है जब ट्रंप ने चीनी सामान पर टैरिफ लगाया हो. इससे पहले वह चीन से आने वाले एल्युमीनियम और स्टील पर टैक्स बढ़ा चुके हैं. उस समय भी चीन ने जवाब देने की बात कही थी.

माना जा रहा है कि अगर यह 50 अरब डॉलर का टैर‍िफ शुल्क लगाने के फैसले को पूरी तरह लागू कर दिया जाता है, तो इससे दोनों देशों के बीच गंभीर ट्रेड वॉर छ‍िड़ सकता है.  

You May Also Like

English News