ट्रंप ने ट्वीट कर यूरोप को धोखा दिया, G-7 के बाद जर्मनी का बयान

जर्मन विदेश मंत्री मेको मास ने कहा कि आप महज एक ट्वीट कर बहुत तेजी से विश्वास खो देते हैं.

यह बयान तब आया जब ट्रंप ने  G-7 के दौरान आमराय वाले एक बयान के शब्दों को खारिज कर दिया था, जिसमें कहा गया था, ‘एकजुट यूरोप अमेरिका फर्स्ट का जवाब है.’जर्मन विदेश मंत्री मेको मास ने कहा कि आप महज एक ट्वीट कर बहुत तेजी से विश्वास खो देते हैं.  यह बयान तब आया जब ट्रंप ने  G-7 के दौरान आमराय वाले एक बयान के शब्दों को खारिज कर दिया था, जिसमें कहा गया था, 'एकजुट यूरोप अमेरिका फर्स्ट का जवाब है.'  बता दें, मास के अनुसार अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने G-7 सम्मेलन के बाद एक संयुक्त बयान से पीछे हट कर यूरोप के साथ विश्वसनीय संबंध को तार-तार कर दिया.  G-7 समिट के बाद 'ट्विटर बम' फोड़ते सिंगापुर पहुंचे ट्रंप  ट्रंप के इस कदम की आज जर्मनी के राजनीतिक गलियारों में व्यापक निंदा की गई.  अमेरिका ने लगाया कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूदो पर आरोप  इस बीच, वाशिंगटन से प्राप्त खबर के मुताबिक व्हाइट हाउस के आर्थिक सलाहकार लैरी कुदलोव ने आज कहा कि कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूदो ने जी-7 सम्मेलन में हमारी पीठ में छुरा घोंपा.  सिंगापुर पहुंचे दो सबसे बड़े दुश्मन, मुलाकात में खर्च होंगे 100 करोड़ रुपये  कुदलोव ने कहा कि अमेरिका को जस्टिन द्वारा संवाददाता सम्मेलन में दिए बयान पर ऐतराज है. उन्होंने कहा कि हम सद्भावना के साथ बयान में शामिल हुए थे.  हालांकि, इसके बाद ट्रंप ने ट्वीट किया कि उन्होंने अमेरिकी प्रतिनिधियों को बयान को मंजूरी नहीं देने का निर्देश दिया है.

बता दें, मास के अनुसार अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने G-7 सम्मेलन के बाद एक संयुक्त बयान से पीछे हट कर यूरोप के साथ विश्वसनीय संबंध को तार-तार कर दिया.

ट्रंप के इस कदम की आज जर्मनी के राजनीतिक गलियारों में व्यापक निंदा की गई.

अमेरिका ने लगाया कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूदो पर आरोप

इस बीच, वाशिंगटन से प्राप्त खबर के मुताबिक व्हाइट हाउस के आर्थिक सलाहकार लैरी कुदलोव ने आज कहा कि कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूदो ने जी-7 सम्मेलन में हमारी पीठ में छुरा घोंपा.

कुदलोव ने कहा कि अमेरिका को जस्टिन द्वारा संवाददाता सम्मेलन में दिए बयान पर ऐतराज है. उन्होंने कहा कि हम सद्भावना के साथ बयान में शामिल हुए थे.

हालांकि, इसके बाद ट्रंप ने ट्वीट किया कि उन्होंने अमेरिकी प्रतिनिधियों को बयान को मंजूरी नहीं देने का निर्देश दिया है.

You May Also Like

English News