डायरी दिनांक 21- मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को

21- मई,17….क्षमा चाहती हूँ आज बहुत लेट हो गयी। दरअसल कार्यक्रम स्थल से अभी लौटी हूँ | आज का दिन बहुत सार्थक चर्चा में व्यतीत हुआ। श्रीगुरु जी ने बहुत से मुद्दे रखे…. क्या कर रहा है पाकिस्तान, क्यूँ कर रहा है, चीन से उसका क्या सम्बन्ध है, NARCO Terrorism क्या है, कौन हैं कश्मीर में भारत विरोधी लोग, क्या इस अभियान को पाकिस्तानी जनता का समर्थन है, देश के अन्दर आतंकियों को fund कहाँ से आता है , इत्यादि |डायरी दिनांक 21- मई 2017: गुरु माँ की डायरी से जानें अपने गुरु को
Col. R.S.N. Singh जी ने कश्मीर का पूरा भूगोल समझाया | वो पूरी तैयारी से थे …..कश्मीर का कौन सा हिस्सा सबसे ज्यादा exposed to danger है….. ।उन्होंने कहा कि अमरनाथ की यात्रा और माँ वैष्णों देवी की यात्रा अगर न होती तो हमारे राजनीतिक प्लेट में रख कर कश्मीर पाकिस्तान को सौंप चुके होते…”. यानि जनता का दबाव कितना जरुरी है |
श्री पुष्पेन्द्र जी जो अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पत्रकार हैं, ने कहा ,” हमारे पास narratives नहीं हैं, पाकिस्तानियों को जवाब देने के लिए और इसलिए हम चुप रह जाते हैं | वे हमारे खिलाफ़ नारे लगाते हैं और हम चुपचाप घरों में बंद रहते हैं | जब किसी आतंकवादी के जनाज़े पर भीड़ उमड़ती है,JNU में भारत विरोधी नारे लगते हैं पर फैयाज़ के मरने पर हम क्यूँ नहीं कहते, ‘फैयाज़ हम शर्मिंदा हैं, तुम्हारे कातिल जिंदा हैं ।’ उन्होंने यह भी कहा कि अगर जनता आवाज़ नहीं उठाएगी तो कोई कुछ नहीं करेगा |
स्वामी जितेन्द्रानंद जी महाराज ने संतों की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए कहा, “संतों का काम है कि समस्याओं के हल बताएं, जन-जागरण करें” | उन्होंने भी एक बात कही कि “अगर जनता ठंडी हो जाती है, तो राजा को ठंडा होने में देर नहीं लगती”|
श्रीगुरु जी ने concludeकरते हुए कहा कि अब पूजा पाठ करने का समय नहीं, देश के लिए जीने का और कर्म करने का समय है |
Discussion तो बहुत लम्बा चला – शहीद परिवार का सम्मान हुआ, श्रीगुरु जी ने अपनी आय में से कुछ राशि National Forces Fund को contribute भी करी | आप सोच ही सकते हैं कि चार घंटे तक चलने वाले कार्यक्रम में क्या-क्या चर्चा नहीं हुई होगी पर मैं इतना ही बताउंगी….सारा जानना था तो आये क्यों नहीं ?😢
एक चीज़ गौर करी आपने – सारे Experts ने एक बात कही, जनता चाहे तो सब कुछ हो सकता है, वर्ना कुछ नहीं…अब याद करिए जब श्रीगुरु जी पाकिस्तानी झंडा जलवा रहे थे तो उन्होंने भी यही कहा था, “पाकिस्तानी झंडा जलाओ….Facebookपर share करो, और लोग भी motivate होंगे तोPublic Opinion form होगी और आवाम की आवाज़ ही देश की किस्मत बदल सकती है”|
Experts ने जो हमें समझाया वह तो महत्वपूर्ण था ही ,साथ ही यह दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण था कि श्रीगुरु जी के आवाहन पर जैसे आश्रम परिवार और अन्य लोग उमड़ पड़े थे….अलग-अलग शहरों से भी पधारे थे | कार्यक्रम का अंत एक और पाकिस्तानी झंडा फूंक कर हुआ…
नींद अब उड़ चुकी है, काम भी बहुत है….कल मिलते हैं…..

 
 
 

You May Also Like

English News