जानिए, डोकलाम विवाद सुलझने के बाद तुरंत पीएम मोदी बाद मोदी क्यों पहुंचे ब्रिक्स चीन?

बीजिंग: डोकलाम विवाद सुलझने के बाद पीएम मोदी चीन पहुंचे हैं. जहां आज वह श्यामेन शहर में ब्रिक्स देशों के नवें शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे. प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई है कि गोवा शिखर सम्मेलन से निकले रास्ते पर आगे बढ़ने के लिए इस बैठक में कुछ सकारात्मक बातचीत होगी और बेहतर नतीजे आएंगे. इस बैठक से अलग पीएम मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच द्विपक्षीय बातचीत होगी. ब्राज़ील के साथ भी आज ही द्विपक्षीय बातचीत होनी है. चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ पीएम मोदी की द्विपक्षीय बातचीत होगी. जहां हाल के दिनों में दोनों देशों में तनाव के बीच रिश्ते बेहतर करने पर बात होगी.डोकलाम विवाद सुलझने के बाद तुरंत पीएम मोदी बाद मोदी क्यों पहुंचे ब्रिक्स चीन?

ये भी पढ़े: आज पांचवां वन डे: श्रीलंका का सूपड़ा साफ करने के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया

दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात ऐसे समय में होने की संभावना है, जब करीब एक हफ्ते पहले भारत और चीन ने 73 दिन तक डोकलाम मुद्दे पर कायम रहे गतिरोध को सुलझाने की घोषणा की. इससे पहले चीन में पीएम का शानदार स्वागत किया. पीएम ने यहां रहने वाले भारतीयों के साथ गर्मजोशी से मुलाकात की. ब्रिक्स की बैठक के बाद प्रधानमंत्री मंगलवार को म्यांमार के तीन दिन पर रवाना हो जाएंगे.

ये भी पढ़े: धोनी पूरा कर सकते हैं अर्धशतक का ‘शतक’, पॉन्टिंग को पीछे छोड़ सकते हैं विराट

इससे पूर्व चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने रविवार को नौवें ब्रिक्स सम्मेलन का उद्घाटन किया. इस मौके पर शी चिनफिंग ने ब्रिक्स के सदस्य देशों से अपने मतभेद दूर करने, आपसी विश्वास और रणनीतिक संवाद बढ़ाकर एक-दूसरे की चिंताओं पर ध्यान देने को कहा. ब्रिक्स बिज़नेस फ़ोरम का उद्घाटन करते हुए चीनी राष्ट्रपति ने कहा कि सदस्य देशों को सभी तरह के आतंकवाद से लड़ने के लिए एक समग्र रुख़ अपनाना चाहिए आतंकवाद की मूल वजहों का हल निकालना चाहिए.

 
loading...

You May Also Like

English News