Encounter: ढाई लाख के इनामी बदमाश को एसटीएफ ने मार गिराया!

नोएडा : उत्तर प्रदेश के नोएडा जनपद में सोमवार यूपी एसटीएफ और हरियाणा पुलिस की संयुक्त टीम ने ढाई लाख रुपये के इनामी बदमाश बलराज भाटी को मार गिराया। बीच सड़क पर हुई इस मुठभेड़ में एमपी एसटीएफ के दो सिपाही, घटनास्थल पर मौजूद एक बच्चा व एक युवक घायल हो गये। सभी घायलों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मारे गये बदमाश के पास से कार्रबाईन, पिस्टल और एक कार मिली है।

आईजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि बुलंदशहर जनपद निवासी ढाई लाख रुपये के इनामी बदमाश बलराज भाटी के बारे में सोमवार को नोएडा के सेक्टर 49 में आने की सूचना मिली। इस सूचना पर हरियाणा पुलिस और यूपी एसटीएफ को अपने-अपने सूत्र से मिली थी। इसके बाद दोनों राज्यों की एसटीएफ की संयुक्त टीम एक साथ सेक्टर 49 पहुंची।

इस बीच बलराज भाटी एक स्विफ्ट डिजाइर गाड़ी से आता हुआ दिखाई पड़ा। एसटीएफ की टीम ने जब उसकी कार को रोकने की कोशिश की तो उसने फायरिंग शुरू कर दी। अचानक हुई इस फायरिंग से पूरे इलाके में अफरा-तफरी मच गयी। बताया जाता है कि बलराज भाटी की फायरिंग के दौरान मध्य प्रदेश एसटीएफ के एक सिपाही राजकुमार के पेट में और दूसरे सिपाही भूपेन्द्र को पैर में गोली लगी।

वहीं एक बच्चा और 30 वर्षीय अजहर भी घायल हो गया। इसके बाद एसटीएफ की टीम ने भी जवाबी फायरिंग की और मुठभेड़ में बलराज भाटी घायल हो गया। मौके पर पहुंची नोएडा पुलिस बदमाश बलराज सहित सभी घायलों को इलाज के लिए अस्पताल लेकर पहुंची, जहां डाक्टरों ने बलराज भाटी को मृत घोषित कर दिया। मारे गये बदमाश बलराज के पास से एक कारबाइन और एक पिस्टल मिली है। मारे गये बदमाश बलराज के खिलाफ दिल्ली, बुलंदशहर और हरियाणा में अब तक 19 आपराधिक मामले दर्ज हैं। बलराज भाटी सुंदर भाटी गैंग का शाप शूटर था।

चुनावी रंजिश में एक दम्पति को मारी थीं 140 गोलियां
बुलदंशहर जनपद निवासी बलराज ने सबसे पहले वर्ष 1990 में शिकारपुर इलाके में हत्या को अंजाम दिया था। इसके बाद उसने कई घटनाओं को अंजाम दिया। वर्ष 2012 में बलराज के गांव का साथी जितेन्द्र उर्फ जीतू ने प्रधानी का चुनाव लड़ा था और जीता भी था। इस चुनाव में जितेन्द्र का विरोध गुलाब सिंह और पप्पू कटार कर रहे थे। इसी रंजिश के चलते 19 नवम्बर वर्ष 2012 को बलराज ने पप्पू और उसकी पत्नी की 140 गोलियां मारकर हत्या कर पूरे इलाके में दहशत फैला दी थी। इसके बाद इस मामले में गुलाब सिंह को पुलिस सुरक्षा मिली थी। बावजूद इसके आरोपी बलराज ने 2 फरवरी वर्ष 2014 को पुलिस की सुरक्षा के बीच गुलाब सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी थी। कटार दम्पति और गुलाब सिंह की हत्या की पैरवी पप्पू कटार के चचेरा भाई विपिन कटार कर रहा था। आरोपी बलराज ने 18 अप्रैल को विपिन की भी गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद बलराज और उसका साथी जीतू दिल्ली, एनसीआर और हरियाण मेें वसूली, रंगदारी और सुपारी लेकर कीलिंग करने लगे थे। आरोपी बलराज पर हरियाणा पुलिस, दिल्ली पुलिस ने एक-एक लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा था, जबकि यूपी पुलिस ने आरोपी बलराज के खिलाफ 50 हजार रुपये का इनाम घोषित कर रखा था।

You May Also Like

English News