तनातनी के बीच जेटली ने चीन को दिया कुछ इस तरह मुहतोड़ जवाब…

भारत और चीन के बीच सिक्कम सेक्टर के पास डोकलाम विवाद चल रहा है. इस गतिरोध के बीच रक्षा मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि भारतीय सैन्य बल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं. डोकलाम में गतिरोध के बीच चीन द्वारा तिब्बत में सैनिकों की गतिविधियों की रिपोर्ट में सवाल पूछे गए. साथ ही पाकिस्तान के एक सैन्य अधिकारी द्वारा अपने रक्षा उद्योग भारत से बेहतर बताए जाने को लेकर सवाल पूछे गए. इसके जवाब में अरूण जेटली ने  कहा कि भारतीय सैन्य बल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं.

तनातनी के बीच जेटली ने चीन को दिया कुछ इस तरह मुहतोड़ जवाब...

किसी भी स्थिति निपटने के लिए है पर्याप्त उपकरण

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे सैन्य बल सैन्य बल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं.’’ रक्षा मंत्री ने यह भी कहा देश के रक्षा बलों के पास किसी भी स्थिति निपटने के लिए पर्याप्त उपकरण उपलब्ध हैं. इसको लेकर किसी तरह का संदेह नहीं होना चाहिए.

डोकलाम पर दो महीने से गतिरोध जारी

 सिक्किम सीमा से लगे डोकलाम में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच पिछले दो महीने से गतिरोध जारी है, दोनों देशों की सेना अपने कदम पीछे करने को राजी नहीं है. पिछले हफ्ते चीन की ओर डोकलाम को लेकर तीखी बयानबाजी भी गई थी. चीन ने भारत को धमकी देते हुए कहा था कि अगर भारत डोकलाम से पीछे नहीं हटा तो फिर चीन सैन्य कार्रवाई करेगा और भारत को इससे बड़ा नुकसान सहना पड़ेगा.

डोकलाम विवाद का कारण

चीन भूटान के कब्जे वाले डोकलाम में सड़क का निर्माण कर रहा है.  भारत इसके विरोध में है. हालांकि चीन ने भूटान के पूर्व में चुम्बी घाटी तक सड़क का निर्माण कर लिया है. इस इलाके को चुम्बी नदी घाटी के नाम से जाना है. बता दें कि ये जगह भारत के बेहद करीब है. यही भारत की चिंता का कारण है. अगर चीन ने सड़क का निर्माण कर लिया तो भारत की सुरक्षा के लिए खतरा खड़ा हो जाएगा. इसी कारण है कि भारत ने डोकलाम में अपनी सैना को तैनात कर दिया है.

You May Also Like

English News