तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान के जिले पर कब्ज़ा जमाया

यहाँ पर कुछ तालिबानी लड़कों ने अचानक हमला कर यहाँ के एक और जिले को अपने कब्जे में ले लिया है. अफगानिस्तान के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. प्रांतीय परिषद के सदस्य अब्दुल्ला नाजी नजारी ने कहा कि आतंकवादियों ने गुरुवार को सामरिक रूप से अहम कोहिस्तान जिले पर अचानक धावा बोल दिया. यहाँ पर कुछ तालिबानी लड़कों ने अचानक हमला कर यहाँ के एक और जिले को अपने कब्जे में ले लिया है. अफगानिस्तान के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. प्रांतीय परिषद के सदस्य अब्दुल्ला नाजी नजारी ने कहा कि आतंकवादियों ने गुरुवार को सामरिक रूप से अहम कोहिस्तान जिले पर अचानक धावा बोल दिया.   यह जिला प्रांतीय राजधानी फैजाबाद के रास्ते पर पड़ता है. आगे  नजारी ने बताया कि हमले में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. बदख्शान में तालिबान के कब्जे वाला यह तीसरा जिला है. यहाँ के सेना के प्रवक्ता मोहम्मद अनीफ रेजाइ ने बताया  कि सुरक्षाबल फैजाबाद में पहुंच गए हैं लेकिन वह कारवाही करने से रुके हुए है क्योकि क्षेत्र में खराब मौसम के कारण तालिबान के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आदेशों का इंतजार कर रहे हैं.   बता दें कि इस प्रांत में करीब 24 जिले हैं. तालिबान के द्वारा शुरू हुए इन हमलों से लगता है कि उसने अफगानिस्तान सरकार की शांति वार्ता की पेशकश को ठुकरा दिया है. तालिबान के एक बयान के मुताबिक उसका ‘आपरेशन अल खंदक’ अमेरिकी बलों को, उनके ‘‘खुफिया एजेंटों’’ और साथ ही साथ उनके ‘‘अंदरूनी मददगारों को निशाना बनाएगा. तालिबान ने एक बयान में कहा कि  अफगानिस्तान में अमेरिकी अड्डों की मौजूदगी ‘‘शांति के सभी मौके को खत्म’’ करती है और ‘‘जारी जंग लंबी’’ करती है

यह जिला प्रांतीय राजधानी फैजाबाद के रास्ते पर पड़ता है. आगे  नजारी ने बताया कि हमले में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. बदख्शान में तालिबान के कब्जे वाला यह तीसरा जिला है. यहाँ के सेना के प्रवक्ता मोहम्मद अनीफ रेजाइ ने बताया  कि सुरक्षाबल फैजाबाद में पहुंच गए हैं लेकिन वह कारवाही करने से रुके हुए है क्योकि क्षेत्र में खराब मौसम के कारण तालिबान के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आदेशों का इंतजार कर रहे हैं. 

बता दें कि इस प्रांत में करीब 24 जिले हैं. तालिबान के द्वारा शुरू हुए इन हमलों से लगता है कि उसने अफगानिस्तान सरकार की शांति वार्ता की पेशकश को ठुकरा दिया है. तालिबान के एक बयान के मुताबिक उसका ‘आपरेशन अल खंदक’ अमेरिकी बलों को, उनके ‘‘खुफिया एजेंटों’’ और साथ ही साथ उनके ‘‘अंदरूनी मददगारों को निशाना बनाएगा. तालिबान ने एक बयान में कहा कि  अफगानिस्तान में अमेरिकी अड्डों की मौजूदगी ‘‘शांति के सभी मौके को खत्म’’ करती है और ‘‘जारी जंग लंबी’’ करती है

You May Also Like

English News