तीन साल में शाही ट्रेनों का राजस्व घटा…

राजस्थान के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों का भ्रमण कराने वाली आलिशान शाही ट्रेनें कमाई के मामले में फिसड्डी साबित हुई है . पिछले तीन सालों में इनका राजस्व कम हुआ है . रेलवे की एक रिपोर्ट में यह जानकारी आज दी गई. रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार पैलेस ऑन व्हील्स और रॉयल राजस्थान ऑन व्हील्स का राजस्व क्रमश: 24.08 प्रतिशत और 63.18 प्रतिशत गिर गया है .तीन साल में शाही ट्रेनों का राजस्व घटा...

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को लुभाने के लिए शुरू किया गया था. इन दोनों ट्रेनों का संचालन भारतीय रेलवे राजस्थान पर्यटन विकास निगम के सहयोग में करती है.लेकिन लगता है कि रेलवे अपने आय प्राप्ति के लक्ष्य में पिछड़ गया है.

इस बारे में रेलवे ने अपनी सफाई में कहा कि भारतीय रेलवे की जिम्मेदारी परिचालन तक ही सीमित है.बाजार बढ़ाना तथा लोगों को आकर्षित करना संबंधित पर्यटन निगमों की जिम्मेदारी है .राजस्व में कमी का कारण ट्रेनों के फेरे कम होने के साथ ही यात्रियों की संख्या कम होना भी है.

हालाँकि इन राजशाही ट्रेनों में सफर करने का अपना ही आनंद है . वातानुकूलित डिब्बों में मनोरंजन के साथ -साथ खान- पान और शयन की आरामदायक  व्यवस्था है. इसके अलावा निर्धारित गंतव्य पर पहुँचने पर होटलों में रुकवाने का भी इंतजाम रहता है.किराया ज्यादा होने से भी यात्री कम मिलते हैं 

loading...

You May Also Like

English News