Big News: तूफान ने दिल्ली, यूपी सहित कई राज्यों में बरपाया कहर, जानिए कहां पड़ा असर!

लखनऊ: दिल्ली यूपी सहित अन्य कई राज्यों में में रविवार को आये तूफान ने पूरे जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। धूल भरी आंधी से दिन में ही अंधेरा छा गया। बिगड़े मौसम के कारण अब तक 22 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। विभाग ने फिर से मौसम बिगडऩे की चेतावनी दी है।
बिगड़े मौसम से विभिन्न जिलों में टिन शेड उडऩे, बिजली के पोल उखडऩे और आपूर्ति ठप होने की खबर है।

हमीरपुर, बांदा, जालौन, चित्रकूट, इटावा और फतेहपुर में ओले भी गिरे। उन्नाव के हसनगंज क्षेत्र के दुर्गाखेड़ा गांव में आंधी के दौरान आग लगने से 15 घर जल गए। कन्नौज में पेड़ गिरने से महिला की मौत हो गई। कानपुर नगर में 70 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से आंधी चली और हल्की बारिश हुई। सरसैया घाट चौराहे के पास पेड़ गिरने से यातायात ठप हो गया। शास्त्रीनगर में पेड़ गिरने से दीवार टूट गई। वीआईपी रोड पर हाईटेंशन लाइन के चार खंभे टूट गए।

शाम करीब छह बजे तेज हवा से बाधित हुई बिजली आपूर्ति जगह-जगह फाल्ट होने से देर रात तक बहाल नहीं हो सकी। उन्नाव में भी बिजली आपूर्ति ठप हो गई। सबसे ज्यादा नुकसान आम की फसल को हुआ। ग्रामीण क्षेत्रों में पेड़ गिरने से पोल और तार टूटने की सूचना है। इटावा के भरथना क्षेत्र में कुछ स्थानों पर ओले गिरे जिससे गेहूं और आम की फसल को नुकसान हुआ।

उधर कन्नौज में दुकानों के आगे लगे टिन शेड काफी दूर जाकर गिरे। जीटी रोड तिर्वा क्रासिंग पर पेट्रोल पंप के समीप तेज आंधी के चलते दीवार ढह गई। पेड़ गिरने से एक महिला की जान चली गई। औरैया में बीहड़ी क्षेत्र में ओले गिरे। फर्रुखाबाद में आंधी-पानी से जिले भर की बिजली आपूर्ति ठप हो गई। बांदा में आंधी की रफ्तार 93 किमी प्रति घंटा बताई गई है। पेड़ और बिजली खंभे गिरने से राष्ट्रीय राजमार्ग सहित कई राजमार्गों पर आवागमन ठप हो गया। सैकड़ों पेड़ उखड़ गए और टिन.टप्पर व झुग्गी.झोपड़ी धराशायी हो गए।

शहर और गांवों की बिजली गुल हो गई। कुछ इलाकों में तेज बारिश के साथ ओले भी गिरे। जालौन के माधौगढ़ में भी ओले गिरे। उरई में तेज आंधी के साथ हल्की बारिश भी हुई। चित्रकूट के भरतकूपए शिवरामपुर व खोही के कुछ इलाकों में भी ओले गिरे हैं। कई स्थानों से तार टूट गए। महोबा में 20 मिनट तक बारिश हुई।

हमीरपुर में कुरारा के रघवा व मौदहा के हिमौली सहित एक दर्जन से अधिक गांव में ओले गिरे। बिजली गुल होने से गांवों में अंधेरा छा गया। उरई में तेज आंधी के साथ हल्की बारिश भी हुई। चित्रकूट के भरतकूपए शिवरामपुर व खोही के कुछ इलाकों में भी ओले गिरे हैं। कई स्थानों से तार टूट गए। महोबा में 20 मिनट तक बारिश हुई। हमीरपुर में कुरारा के रघवा व मौदहा के हिमौली सहित एक दर्जन से अधिक गांव में ओले गिरे।

बिजली गुल होने से गांवों में अंधेरा छा गया। तूफान का सबसे ज्यादा असर दिल्ली में देखने को मिले। यहा हवा की रफ्तर 100 कीलोमीटर प्रति घंटे के करीब थी। अचानक मौसम खराब होने से दिल्ली में सबसे ज्यादा असर हवाई यातायात पर पड़ा। दर्जनों को फ्लाइटों को दूसरे एयरपोर्टो पर डाइर्वट किया गया। आंधी और तूफान का कहर सोमवार को भी उत्तरी और उत्तरी क्षेत्रों में जारी रहेगा।

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार इन क्षेत्रों में 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। रविवार को देश के विभिन्न हिस्सों में आई धूलभरी आंधी और तूफान की वजह से 53 लोगों की मौत जबकि 65 लोग घायल हो चुके हैं। पश्चिमी विक्षोभ की वजह से उत्तर और उत्तर पश्चिम भारत के पहाड़ी इलाकों जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड सहित पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मैदानी इलाकों में मौसम परिवर्तित हो गया है।

मंगलवार को भी मौसम में अनिश्चितता जारी रहेगी। सोमवार और मंगलवार को उत्तरी भारत के पहाड़ी राज्यों में ओलावृष्टि हो सकती है और राजस्थान में धूल भरी आंधी आने की आंशका है। राजस्थान और उत्तर प्रदेश के नागरिकों को तूफान से बुधवार को राहत मिल सकती है लेकिन पूरे हफ्ते कमजोर तूफान और बारिश के साथ ही हल्की हवाओं का सामना करना पड़ेगा। दक्षिण में तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक के आंतरिक क्षेत्र, तमिलनाडु और पुडुच्चेरी मे

ं सोमवार को तूफान आने की आशंका है। मंगलवार को तूफान गतिविधि ओडिशा और कर्नाटक के आंतरिक क्षेत्र तक ही सीमित रहेंगी। रविवार को देशभर में तेज आंधी के साथ ही तेज बारिश, बिजली गिरना और धूलभरी आंधी चली थी। दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में कई लोगों की मौते हुई हैं। दक्षिण- पश्चिम यूपी, राजस्थान, मध्य प्रदेश, विदर्भ और मराठवाड़ा में लू के हालात बने रहेंगे। शक्तिशाली धूलभरे तूफान की वजह से दिल्ली में हवाई यात्रा ठप्प हो गई थी। दिल्ली में आंधी तूफान से मंगलवार को राहत मिलने की उम्मीद है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार बिजली गिरने की वजह से आंध्र प्रदेश के कडपा और श्रीकाकुलम जिलों में 9 लोगों की मौत हो गई है। अधिकारियों का कहना है कि अकेले श्रीकाकुलम में 7 लोगों की मौत हो गई है। पिछले हफ्ते ही मौसम विभाग ने तेज अंधड़ए बारिश की चेतावनी दी थी।

You May Also Like

English News