तेज रफ़्तार ट्रेन के अचानक ब्रेक लगाये जाने से गाड़ी में सवार यात्रियों में मचा हड़कंप…

अचानक ट्रेन रुकी और उतरकर लोग इधर-उधर भागने लगे। किसी को समझ नहीं आया क्या हुआ, लेकिन बड़ा हादसा टल गया और कई जिदंगियां बच गई। घटना हरियाणा के घरौंडा की है। अम्बाला-दिल्ली रेलमार्ग पर रेलवे विभाग की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है।तेज रफ़्तार ट्रेन के अचानक ब्रेक लगाये जाने से गाड़ी में सवार यात्रियों में मचा हड़कंप...Breaking:एनटीपीसी हादसे में मरने वालों की संख्या बढऩे की संभावना, सीएम ने किया मुआवजे का ऐलान!

दिल्ली की ओर जा रही हिमालयन क्वीन एक्सप्रेस ट्रेन के चालक द्वारा 120 किलोमीटर की स्पीड से दौड़ रही गाड़ी के बजीटा स्टेशन के पास अचानक ब्रेक लगा दिये गए। आनन फानन में स्टेशन मास्टर ने ट्रेन के गार्ड से संपर्क साधा और अचानक ही घरौंडा रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर जोरदार ब्रेक के जरिये गाड़ी को रोकना पड़ा।

तेज रफ़्तार ट्रेन के अचानक ब्रेक लगाये जाने से गाड़ी में सवार यात्रियों में हड़कंप मच गया व करीब एक दर्जन से ज्यादा यात्री चोटिल हो गए। स्टेशन मास्टर ने घटना के पीछे ट्रेन चालक की लापरवाही बताते पूरे मामले की सूचना विभाग को दे दी है।

ट्रेन से उतरकर हंगामा करने लोग

मिली जानकारी के मुताबिक, हिमालयन क्वीन गाड़ी कालका से दिल्ली सराय रोयला जा रही थी। बुधवार को रात करीब 8.40 बजे एक्सप्रेस गाड़ी के अचानक ब्रेक लगाने पड़े। ट्रेन के रुकने की जोरदार आवाज से गाड़ी की इंतजार में खड़े यात्रियों में हड़कंप मच गया। इतने में ही ट्रेन के रुकते ही गाड़ी में सवार यात्रियों में भगदड़ मच गई और वे जल्दबाजी में ट्रेन से कूदने लगे। ऐसा लगा मानो की ट्रेन अभी पलटने वाली है और बचाव में यात्री अपनी जान बचा कर कूद रहे हैं।

देखते ही देखते ट्रेन में सवार सभी यात्री गाड़ी से बाहर आ गए और थोड़ी देर में सैकड़ों यात्री स्टेशन मास्टर के दफ्तर में पहुंच कर जमकर हंगामा करने लगे। रेल में बैठे यात्री रमेश, श्रीकांत, विजय अरुण, संजय व अन्य ने बताया कि ट्रेन के एमरजेंसी ब्रेक लगने से उन्हें लगा कि ट्रेन पटरी से उतर गई है। करीब आधा घंटा स्टेशन पर रुकने के बाद ट्रेन को दिल्ली की तरफ 9.05 बजे रवाना किया गया।

इस मामले में स्टेशन मास्टर कर्मबीर सिंह ने बताया की स्टेशन पर पहुंचने से पहले ट्रेन चालक से वोकी टोकी पर संपर्क साधने की कोशिश की गई, लेकिन चालक ने कोई जवाब नहीं दिया। चालक से संपर्क होते देख स्टेशन मास्टर ने ट्रेन के गार्ड को एमरजेंसी ब्रेक लगाने के निर्देश दिए। इमरजेंसी ब्रेक लगने से ट्रेन में सवार कुछ सवारियों को छोटे भी आई। कर्मबीर सिंह ने कहा की पूरे मामले की सुचना उच्च अधिकारियों को दे दी गई है।

You May Also Like

English News