तो इसलिए व्यक्ति को याद नहीं रहता अपना पिछला जन्म

प्रकृति के नियम के अनुसार जिस भी जीव ने इस पृथ्वी पर जन्म लिया है उसे एक दिन मृत्यु अवश्य आना है यह एक अटल सत्य है इसी कारण से पृथ्वी को मृत्युलोक भी कहा जाता है. हमारे धार्मिक ग्रंथों व पुराणों के अनुसार व्यक्ति केवल अपने शरीर का त्याग करता है उसकी आत्मा अमर होती है जो कभी नहीं मरती. वह एक शरीर को छोड़कर दूसरा शरीर धारण कर लेती है. अब आप सोच रहे होंगें की यदि व्यक्ति की आत्मा अमर होती है तो उसे अपने पिछले जन्म के विषय में कुछ भी याद क्यों नहीं रहता वह सब कुछ क्यों भूल जाता है आइये जानते है इसके पीछे क्या कारण है?तो इसलिए व्यक्ति को याद नहीं रहता अपना पिछला जन्म

कपाल क्रिया – व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसका अंतिम संस्कार करते समय कपाल क्रिया को विशेष माना जाता है यह क्रिया शव को मुखाग्नि देने के पश्चात जब शव का अधिकतर भाग अग्नि में जल जाता है उस समय एक बांस को बीच से थोड़ा फाड़कर उसमे एक लोटा बाँध दिया जाता है. अब उस बांस में बंधे लोटे में घी को डालकर चिता की परिक्रमा की जाती है जब परिक्रमा पूर्ण हो जाती है तब उस लोटे में रखे घी को शव के सिर पर डालकर उस बांस की सहायता से उस शव के सिर को तोड़ दिया जाता है. इसी को कपाल क्रिया कहते है.

कपाल क्रिया करने का कारण – कपाल क्रिया करने का मुख्या कारण यह होता है की व्यक्ति के सिर का भाग अधिक कठोर होता है जिसे कपाल क्रिया के माध्यम से तोड़ दिया जाता है जिससे की वह भाग पूर्ण रूप से भस्म हो जाए. ऐसा माना जाता है की यदि व्यक्ति के सिर का भाग यदि जलने से बच जाता है तो इससे व्यक्ति के दिमाग में अपने पिछले जन्म की याद रह जाती है जिसके कारण उसे कई प्रकार के दुखों का सामना करना पड़ता है.

You May Also Like

English News