तो इस वजह से चढ़ाया जाता है शनि देव को तेल

न्याय के देवता माने जाने वाले शनि देव जिनकी दृष्टि से हर इंसान बचना चाहता है। क्योंकि इनकी दृष्टि जिस भी इंसान पर पड़ती है, उसकी किस्मत उससे ऐसे दूर भागती है, जैसे उसकी किस्मत बनी ही नहीं। शनिदेव की इसी दृष्टि से बचने के लिए लोग उन्हे खुश रखने की कोशिश करते हैं और उन्हे तेल अर्पित करते हैं। माना जाता है कि शनिदेव को तेल अर्पित करने से वह जल्द ही प्रसन्न होते हैं। लेकिन ऐसा क्या कारण है, जिस वजह से शनिदेव को तेल प्रिय है। अगर आप भी कुछ ऐसा ही सोच रहे हैं, तो यहां पर आज हम आपसे इससे ही जुड़ी बातों पर चर्चा करने वाले हैं, जहां पर हम जानेंगे कि आखिर शनिदेव को तेल क्यों प्रिय है?न्याय के देवता माने जाने वाले शनि देव जिनकी दृष्टि से हर इंसान बचना चाहता है। क्योंकि इनकी दृष्टि जिस भी इंसान पर पड़ती है, उसकी किस्मत उससे ऐसे दूर भागती है, जैसे उसकी किस्मत बनी ही नहीं। शनिदेव की इसी दृष्टि से बचने के लिए लोग उन्हे खुश रखने की कोशिश करते हैं और उन्हे तेल अर्पित करते हैं। माना जाता है कि शनिदेव को तेल अर्पित करने से वह जल्द ही प्रसन्न होते हैं। लेकिन ऐसा क्या कारण है, जिस वजह से शनिदेव को तेल प्रिय है। अगर आप भी कुछ ऐसा ही सोच रहे हैं, तो यहां पर आज हम आपसे इससे ही जुड़ी बातों पर चर्चा करने वाले हैं, जहां पर हम जानेंगे कि आखिर शनिदेव को तेल क्यों प्रिय है?  पौराणिक कथाओं में वर्णन किया गया है, कि जब अहंकार में चूर रावण ने अपने बल से सभी गृहों को बंदी बना लिया था,तब शनिदेव को भी उसने बंदीगृह में उल्टा कर लटका दिया था। जब हनुमानजी, प्रभु राम के दूत बनकर लंका पहुंचे, तो रावण ने उनकी पूंछ में भी आग लगवा दी। रावण की इस हरकत से क्रोधित होकर हनुमानजी ने पूरी लंका जला दी और सारे गृह आजाद हो गए, लेकिन उल्टा लटका होने के कारण शनि के शरीर में भयंकर पीड़ा हो रही थी और वह दर्द से कराह रहे थे। तब शनि के दर्द को शांत करने के लिए हुनमानजी ने उनके शरीर पर तेल से मालिश की थी। उसी समय शनि ने कहा, कि जो भी व्यक्ति श्रद्धा भक्ति से उन पर तेल चढ़ाएगा उसे सारी समस्याेओं से मुक्ति मिलेगी। और तभी से शनिदेव पर तेल चढ़ाने की परंपरा शुरू हो गई थी।

पौराणिक कथाओं में वर्णन किया गया है, कि जब अहंकार में चूर रावण ने अपने बल से सभी गृहों को बंदी बना लिया था,तब शनिदेव को भी उसने बंदीगृह में उल्टा कर लटका दिया था। जब हनुमानजी, प्रभु राम के दूत बनकर लंका पहुंचे, तो रावण ने उनकी पूंछ में भी आग लगवा दी। रावण की इस हरकत से क्रोधित होकर हनुमानजी ने पूरी लंका जला दी और सारे गृह आजाद हो गए, लेकिन उल्टा लटका होने के कारण शनि के शरीर में भयंकर पीड़ा हो रही थी और वह दर्द से कराह रहे थे। तब शनि के दर्द को शांत करने के लिए हुनमानजी ने उनके शरीर पर तेल से मालिश की थी। उसी समय शनि ने कहा, कि जो भी व्यक्ति श्रद्धा भक्ति से उन पर तेल चढ़ाएगा उसे सारी समस्याेओं से मुक्ति मिलेगी। और तभी से शनिदेव पर तेल चढ़ाने की परंपरा शुरू हो गई थी।

You May Also Like

English News