तो क्या आज भी जीवित है रावण की बहन शूर्पणखा? IBN7 को मिले ये निशान

 श्रीलंका में रामायण की निशानियों की तलाश पहली बार नहीं की गई है लेकिन इतना जरूर है कि आईबीएन 7 आपको पहली बार एक ऐसी कहानी दिखाने जा रहा है जिसकी तलाश में सात साल लग गए, एक महीने तक श्रीलंका के जंगलों में भटकना पड़ा और हजारों किलोमीटर का सफर करना पड़ा। लेकिन हमारी ये कोशिश कामयाब हुई क्योंकि हमारे सामने थी एक ऐसी शख्सियत जिसे श्रीलंका में शूर्पणखा का नाम दिया गया जिसकी शक्तियों को श्रीलंकाई सरकार भी मानती है, जिसे श्रीलंका में वीवीआईपी का दर्जा दिया जाता है।

ये तलाश थी रामायण की, राम कथाओं की, खुद भगवान श्रीराम के सच्चे निशानों की। लेकिन उन कथाओं का एक किरदार ऐसा भी था जिसका एक सिरा जुड़ा है त्रेता युग से और दूसरा वर्तमान से, जिसका नाम था शूर्पणखा। जिसे अबतक हमने रामायण की कहानियों में देखा था। लेकिन कौन यकीन करेगा, कि श्रीलंका में आज भी शूर्पणखा के जिंदा होने का दावा होता है, जिसे श्रीलंका के लोग राजकुमारी मानते हैं।

ये कैसे हो सकता है कि शूर्पणखा आज भी जिंदा हो? ये कैसे मुमकिन है, कि हजारों साल बाद भी रामायण का एक किरदार मौजूद हो? विज्ञान और तर्कशास्त्र इसकी इजाजत नहीं देते लेकिन सच और झूठ का फैसला, हम अपनी आंखों के सामने करना चाहते थे। श्रीलंका में रामायण की निशानियों को खोजने में हमारा साथ देने वाले थे, अशोक कांथ जो श्रीलंका में कई बरसों से रामायण पर रिसर्च कर रहे है तो क्या आज भी जीवित है रावण की बहन शूर्पणखा? IBN7 को मिले ये निशान

जिनको नहीं है रामायण पर विश्वास, ये देखकर उनकी बोलती हो जाएगी अब बंद

घर के एक कमरे में दर्जनों लोग जुटे थे और कमरे के मौजूद एक सिंहासन पर विराजमान थीं लंका की राजकुमारी। लंबे नाखून, कटे हुए कान और नाक पर चोट का निशान, हमारे सामने एक ऐसी कहानी थी जिस पर यकीन के लिए न हमारा दिल गवाही दे रहा था न दिमाग। शूर्पणखा के दरबार में मौजूद दर्जनों लोग अपनी फरियाद लेकर यहां आए थे हमें बताया गया कि यहां रोज ऐसा ही दरबार सजता है और शूर्पणखा अपनी शक्तियों से लोगों का इलाज कर देती हैं।

हमें इन बातों पर यकीन नहीं हो रहा था लेकिन उनके सहयोगी हमें यकीन दिलाने की कोशिश में लगे थे। हमें ये सुनकर हैरानी हुई, कि वो राजकुमारी इस घर में कुछ नहीं बोलतीं। उनकी शक्तियां, उनकी ताकत उनकी पहचान को समझने के लिए हमें कोलंबो से करीब 200 किलोमीटर एक रहस्यमयी गांव महियांग्ना जाना होगा।

आखिर ये कैसे हो सकता है कि शूर्पणखा आज भी जिंदा हो? ये कैसे हो सकता है कि किसी के पास कुछ ऐसी शक्तियों हों, कि वो जब चाहे बारिश रोक दे, जब चाहे बारिश करवा दे? इस कहानी की तलाश करते वक्त हमारे जेहन में भी कुछ वही सवाल थे, जो इस वक्त आपके दिमाग में होंगे, लेकिन फिर हमने सोचा कि अगर ये सबकुछ एक धोखा है, तो फिर श्रीलंकाई सरकार भी इसपर विश्वास क्यों कर रही है? इसलिए हम लंका की उस राजकुमारी को बेहद करीब से देखना चाहते थे, उसके चेहरे को कैमरे में कैद करना चाहते थे, खुद उन्हीं की जुबान से उनकी कहानी सुनना चाहते थे, लेकिन इसके लिए हमें जाना था श्रीलंका के बीचोंबीच एक रहस्यमयी इलाके, महियांग्ना में।

ऐसे देवता जिन्होंने छल से किया नारी का ये बड़ा अपमान

महियांग्ना पहुंचते ही हमारे कैमरे की नज़र उस राजकुमारी को तलाशने लगी और कुछ ही देर बाद दिन की रोशनी में उस राजकुमारी की पहली झलक दिखाई दी।

उनकी कद-काठी, उनकी चाल-ढाल, उनकी शक्ल-सूरत देखकर हमारे जेहन में भी वही सवाल थे, जो इस वक्त आपके दिमाग में होंगे…. कि कहीं ये सबकुछ कोई धोखा तो नहीं, कहीं ऐसा तो नहीं कि खुद के शूर्पणखा होने का दावा सिर्फ मशहूर होने के लिए किया गया।

लेकिन गंगा सुदर्शनी यानी शूर्पणखा के घर पहुंचकर ये सबकुछ हमारे लिए एक बहुत बड़ी पहेली बन गया, घर में तमाम तस्वीरें मौजूद थीं, कुछ ऐसी तस्वीरें जिनकी श्रीलंका के राष्ट्रपति थे बड़े बड़े राजनेता थे,नामी-गिरामी क्रिकेटर थे।

जानकारी जुटाई, तो पता लगा कि ये सबकुछ सिर्फ एक दावा नहीं है बल्कि उन दावों पर श्रीलंकाई सरकार की मुहर भी है मतलब ये कि खुद श्रीलंकाई सरकार भी उन्हें रावण की वंशज मानती है, लंका की राजकुमारी मानती है।

हम गंगा सुदर्शनी से बातचीत करना चाहते थे, उनकी शक्तियों के सबूत को कैमरे में कैद करना चाहते थे, लेकिन इंटरव्यू का वक्त तय हुआ, और तभी तेज बारिश शुरु गई। गंगा सुदर्शनी यानी शूर्पणखा ने हमसे दावा किया, कि इंटरव्यू वक्त पर ही होगा क्योंकि वो अपनी शक्तियों से बारिश को रोक देंगी।

हाथों में एक दीपक लिए वो राजकुमारी बाहर निकलीं उन्होंने कुछ मंत्र पढ़ने शुरु किए और अचानक बारिश वाकई थम गई। राजकुमारी के लिए एक खास छतरी मंगवाई गई ऐसा लगा जैसे तेज बारिश इस पूजा को रोक देगी लेकिन एक बार फिर उस राजकुमारी ने अपने शक्तियों के इस्तेमाल का दावा किया और बादलों का गरजना वाकई बंद हो गया।

श्रीलंका में शूर्पणखा की पूजा होती है। लोग शूर्पणखा को लंका की राजकुमारी मानते हैं लेकिन हमारे लिए ये सबकुछ अब ही एक पहेली था जिसे सुलझाने का सिर्फ एक तरीका था, कि खुद गंगा सुदर्शनी से उनका सच पूछें।

ऋषि मुनियों से सीखें, कैसे की जाती है समय की बचत…

श्रीलंका के धर्मगुरुओं से उनका रहस्य समझें और हमने वही किया। महियांग्ना के जंगलों के बीच एक बड़े से बंगले में हमारी गंगा सुदर्शनी यानी श्रीलंका की शूर्पणखा से मुलाकात हुई। लंबे नाखून, कुछ वैसे ही जैसे शूर्पणखा के थे, कुछ अजीब से कान जिनके बारे मे ये दावा किया गया कि उन्हें रामायण काल में लक्ष्मण ने ही काटा था। और उनकी नाक पर जख्म का एक छोटा निशान  भी था।

कहा जाता है कि गंगा सुदर्शनी का ये रंग रूप जन्म के वक्त से ही है और सिर्फ तीन बरस की उम्र में भूत और भविष्य को देखने की शक्ति हासिल  हो गई थी। तीन साल की उम्र से ही वो ये दावा करने लगीं थीं कि उनका नाम शूर्पणखा है और वो बिना पढ़े ही रामायण के किस्से सुनाने लगी थीं।

गंगा सुदर्शनी ने कहा कि मैं संसार में किसी चीज से नहीं डरती क्यों मैं शूर्पणखा हूं मुझे पूरा विश्वास है कि मैं ही शूर्पणखा हूं, लेकिन मैं हर वक्त अपनी शक्तियों का प्रदर्शन नहीं कर सकती क्योंकि आम लोग इसे नहीं समझ पाएंगे, मैं ही रावण की इकलौती बहन हूं।

गंगा सुदर्शनी ने हमें बताया कि श्रीलंका में आज भी रावण के वंशज मौजूद हैं और वही उनकी प्रजा हैं। ये हमारी किस्मत थी कि उसी रोज गंगा सुदर्शनी की उन आदिवासियों से मुलाकात होनी थी, जिन्हें श्रीलंका में रावण के परिवार का वंशज माना जाता है।

नायक तुंबा, आदिवासियों के नेता से जब पूछा गया कि ये लोग शूर्पणखा ही इतनी इज्जत क्यों करते हैं तो नायक तुंबा ने कहा कि 10 साल पहले जब मैंने पहली बार इनका चेहरा तो मुझे हैरानी हुई, मैं उन्हें देखते ही समझ गया कि ये रावण की बहन शूर्पणखा हैं और ये कोई आम महिला नहीं हैं, इनके पास वाकई कुछ ऐसी शक्तियां हैं जो आम इंसानों में नहीं होतीं, हमारे लिए यही हमारी राजकुमारी हैं।

हिन्दुस्तान में बेशक शूर्पणखा की कहानी सिर्फ किताबों किस्से में बची हो लेकिन श्रीलंका की धरती पर, वो कहानियां आज भी जिंदा हैं। श्रीलंका के धर्मगुरु, श्रीलंका की सरकार, श्रीलंका के संसद हर तरफ सिर्फ यही दावा है कि रावण की वो बहन आज भी है, एक नए चेहरे, नई पहचान और नई शख्सियत के साथ

You May Also Like

English News