तो क्या इस वजह से ज्यादा खाते हैं बच्चे?

दुख और अवसाद की अवस्था में लोग ज्यादा खाने लगते हैं इसे ‘इमोशनल ईटिंग’ कहा जाता है. इस दौरान अनहेल्दी फूड के सेवन का ज्यादा मन करता है. नए शोध में खुलासा हुआ है कि इमोशनल ईटिंग से ना केवल बड़े बल्कि बच्चे भी प्रभावित होते हैं.

स्वभाव पर चल रही एक रिसर्च ने इस बात की पुष्टि की है कि बच्चा खुशी और दुख की अवस्था में खाने के प्रति अगल-अलग तरीके से व्यवहार करता है. दुख की अवस्था में  ना केवल जंक फूड की तरफ अधिक आकर्षित होता है बल्कि सामान्य से ज्यादा खाता भी है.

पहले के शोधों में सामने आया था कि जो लोग अवसाद की अवस्था से गुजर रहे हैं वे अनहेल्दी फूड खाते हैं जिससे मोटापे का शिकार हो जाते हैं. ज्यादा खाने की वजह से उनके अवसाद में बढ़ोत्तरी ही होती है और स्वास्थ्य भी खराब होता है.

You May Also Like

English News