तो अब 3 साल में मिलेगी ऐसी दवा जिसे खाकर हमेशा जवान रहेंगे आप

University ऑफ न्यू साउथ वेल्स के शोधकर्ताओं ने एक नई दवा तैयार की है जिससे उम्र बढ़ाने वाले DNA को फिर से दुरुस्त किया जा सकेगा। यह दवा मंगल ग्रह पर जा रहे अंतरिक्ष यात्रियों के लिए भी कारगर होगी।

हाल ही में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने दावा किया था कि मंगल पर अत्यधिक विकिरण के कारण अंतरिक्ष यात्रियों के डीएनए में बदलाव आ सकता है। उनकी रंगत और त्वचा बदल सकती है और वह जल्द बूढ़े हो सकते हैं।
लेकिन शोधकर्ता डेविड सिनक्लेयर ने कहा, नई दवा ‘एनएमएन’ इन प्रभावों को रोक सकती है। चूहों पर इस दवा का सफल परीक्षण किया गया है। उनका दावा है कि इससे उम्र बढ़ाने वाले डीएनए दुरुस्त किए जा सकते हैं। अगले छह महीने में इसे इंसानों पर भी प्रयोग किया जाएगा।
ऐसे होगा दवा का असर: वैज्ञानिकों के मुताबिक शरीर की हर कोशिका में प्राकृतिक रूप से ‘एनएडी प्लस मॉलक्यूल’ मौजूद होते हैं जो डीएनए को दुरुस्त रखते हैं। एनएमएन दवा एनएडी प्लस को ही दुरुस्त करेगी। इससे शरीर की कोशिकाओं की क्षमता बढ़ेगी और डीएनए को विकिरण के असर से सुरक्षित रखा जा सकेगा।
3  से 5 साल में दवा उपलब्ध: सिनक्लेयर ने कहा, यदि इंसान पर एनएमएन का परीक्षण सफल रहा तो अगले तीन से पांच साल में जवां रखने वाली दवा बाजार में उपलब्ध होगी। एनएमएन का इसी साल बोस्टन के ब्रिग्हम एंड वूमेन हॉस्पिटल में इंसानों पर परीक्षण किया जाएगा। गौरतलब है कि हाल ही में मंगल यात्रा से लौटे नासा के वैज्ञानिकों में स्मरण शक्ति की कमी और मांसपेशियों की कमजोरी जैसी समस्या पाई गई थी

You May Also Like

English News