दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में कासो के दौरान भड़की हिंसा में पांच लोग जख्मी

दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षबलों द्वारा आतंंकियों की धरपकड़ के लिए चलाए गए कासो के दौरान भड़की हिंसा में पांच लोग जख्मी हुए हैं। इनमें से एक गोली लगने से घायल है। सबसे ज्यादा हिंसक झढ़पें गुस्सु पुलवामा में हो रही हैं, जहां हिज्ब कमांडर मन्नान वानी के घेराबंदी में फंसे होने का दावा किया जा रहा है।दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षबलों द्वारा आतंंकियों की धरपकड़ के लिए चलाए गए कासो के दौरान भड़की हिंसा में पांच लोग जख्मी हुए हैं। इनमें से एक गोली लगने से घायल है। सबसे ज्यादा हिंसक झढ़पें गुस्सु पुलवामा में हो रही हैं, जहां हिज्ब कमांडर मन्नान वानी के घेराबंदी में फंसे होने का दावा किया जा रहा है।   जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों को कई आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली है। आतंकियों की धरपकड़ के लिए सुरक्षाबलों ने आज सुबह से ही सर्च ऑपरेशन चला रखा है। सेना, पुलिस, सीआरपीएफ के जवान पुलवामा के कई गांवों में तलाशी ले रहे हैं। इससे पहले रविवार को शोपियां में भी सर्च ऑपरेशन चलाया गया था। शोपियां में कई आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी।  इसके अलावा बांदीपोरा जिले में शनिवार को सुरक्षाबलों ने लश्कर के तीन आतंकियों को मार गिराया। हालांकि इस मुठभेड़ में एक जवान भी शहीद हो गया। इसके साथ ही बांदीपोरा के जंगल में छिपे आतंकियों के खिलाफ चलाया गया तलाशी अभियान लगभग एक सप्ताह बाद समाप्त हो गया। इस अभियान में दो सैन्यकर्मी घायल हुए थे।   –– ADVERTISEMENT ––     आतंकवाद पीडि़त गांवों में जाकर बच्चों को पढ़ाया, सरकार ने उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया यह भी पढ़ें जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में आतंकियों ने पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों को निशाना बनाया है। अब भारतीय सुरक्षाबलों ने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने की तैयारी कर ली है। सोमवार सुबह घाटी में सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस की तरफ से एक बड़ा ऑपरेशन चलाया गया।  इस दौरान पुलवामा और शोपियां जिले के कुल 20 गांवों में एक साथ सर्च ऑपरेशन चलाया गया। सुरक्षाबल यहां पर आतंकियों की तलाश में कोना-कोना छान रही है। सर्च ऑपरेशन के दौरान लोगों और सुरक्षाबलों के बीच झड़प हुई। इस दौरान 1 प्रदर्शनकारी फयाज़ अहमद के सिर में गोली लगी है, उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।   कश्मीर घाटी में नारको टेररिज्म से आतंकवाद को मिल रहा है बढ़ावा यह भी पढ़ें बता दें कि पिछले सप्ताह ही आतंकियों ने सुरक्षाबलों के परिवार को निशाना बनाया था। इस दौरान आतंकियों ने अलग-अलग पुलिसकर्मियों के कुल 10 परिजनों को बंदी बना लिया था।  हालांकि, बाद में उन्हें छोड़ दिया गया था। सेना ने भी आंतकियों पर कार्रवाई करना नहीं छोड़ा और बीते शनिवार को ही बांदीपोरा में तीन आतंकियों को मौत के घाट उतारा गया। सर्च ऑपरेशन के दौरान साफ है कि घाटी में आतंक की कमर तोड़ने के लिए सुरक्षाबलों ने ये बड़ा ऑपरेशन चलाया है।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों को कई आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली है। आतंकियों की धरपकड़ के लिए सुरक्षाबलों ने आज सुबह से ही सर्च ऑपरेशन चला रखा है। सेना, पुलिस, सीआरपीएफ के जवान पुलवामा के कई गांवों में तलाशी ले रहे हैं। इससे पहले रविवार को शोपियां में भी सर्च ऑपरेशन चलाया गया था। शोपियां में कई आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी।

इसके अलावा बांदीपोरा जिले में शनिवार को सुरक्षाबलों ने लश्कर के तीन आतंकियों को मार गिराया। हालांकि इस मुठभेड़ में एक जवान भी शहीद हो गया। इसके साथ ही बांदीपोरा के जंगल में छिपे आतंकियों के खिलाफ चलाया गया तलाशी अभियान लगभग एक सप्ताह बाद समाप्त हो गया। इस अभियान में दो सैन्यकर्मी घायल हुए थे। 

जम्मू-कश्मीर में पिछले कुछ दिनों में आतंकियों ने पुलिसकर्मियों और उनके परिजनों को निशाना बनाया है। अब भारतीय सुरक्षाबलों ने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने की तैयारी कर ली है। सोमवार सुबह घाटी में सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस की तरफ से एक बड़ा ऑपरेशन चलाया गया।

इस दौरान पुलवामा और शोपियां जिले के कुल 20 गांवों में एक साथ सर्च ऑपरेशन चलाया गया। सुरक्षाबल यहां पर आतंकियों की तलाश में कोना-कोना छान रही है। सर्च ऑपरेशन के दौरान लोगों और सुरक्षाबलों के बीच झड़प हुई। इस दौरान 1 प्रदर्शनकारी फयाज़ अहमद के सिर में गोली लगी है, उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बता दें कि पिछले सप्ताह ही आतंकियों ने सुरक्षाबलों के परिवार को निशाना बनाया था। इस दौरान आतंकियों ने अलग-अलग पुलिसकर्मियों के कुल 10 परिजनों को बंदी बना लिया था।  हालांकि, बाद में उन्हें छोड़ दिया गया था। सेना ने भी आंतकियों पर कार्रवाई करना नहीं छोड़ा और बीते शनिवार को ही बांदीपोरा में तीन आतंकियों को मौत के घाट उतारा गया। सर्च ऑपरेशन के दौरान साफ है कि घाटी में आतंक की कमर तोड़ने के लिए सुरक्षाबलों ने ये बड़ा ऑपरेशन चलाया है।

You May Also Like

English News