दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति आज से भारत दौरे पर, होंगे कई अहम समझौते

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन रविवार को अपने चार दिवसीय दौरे पर भारत आ रहे हैं. यह राष्ट्रपति के तौर पर मून जे-इन का पहला भारत दौरा है, जहां वह शीर्ष भारतीय नेतृत्व के साथ द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर साझा हितों से जुड़े विषयों पर चर्चा करेंगे.दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन रविवार को अपने चार दिवसीय दौरे पर भारत आ रहे हैं. यह राष्ट्रपति के तौर पर मून जे-इन का पहला भारत दौरा है, जहां वह शीर्ष भारतीय नेतृत्व के साथ द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर साझा हितों से जुड़े विषयों पर चर्चा करेंगे.  दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति  मून जे-इन 8 से 11 जुलाई तक भारत की राजकीय यात्रा पर रहेंगे. उनके साथ मंत्रिमंडल के सदस्य और कारोबारियों का दल भी आ रहा है. नौ जुलाई को उनका उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ मुलाकात का कार्यक्रम है. वहीं इसी दिन मून भारत-कोरिया कारोबारी मंच के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सााथ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि राजधाट जायेंगे और नोयडा स्थित सैमसंग संयंत्र भी जाएंगे. 10 जुलाई को दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन का राष्ट्रपति भवन में पारंपरिक स्वागत किया जायेगा और इसके बाद हैदराबाद हाउस में उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक होगी. इस दौरान कुछ समझौते पर भी हस्ताक्षर हो सकते हैं. शाम को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उनके सम्मान में रात्रि भोज देंगे.  इस यात्रा के दौरान दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी के बीच द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों समेत साझा हितों से जुड़े विषयों पर व्यापक चर्चा होगी. इसमें दोनों देशों के विशेष सामरिक संबंधों को और मजबूत बनाने पर जोर दिया जाएगा. दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग पर चर्चा होने की उम्मीद जताई जा रही है.  उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2015 में दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल गए थे, जहां दोनों देशों के बीच विशेष सामरिक साझेदारी पर बल दिया गया था. दक्षिण कोरिया ने वर्ष 1973 में भारत के साथ औपचारिक संबंध स्थापित किये थे.

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति  मून जे-इन 8 से 11 जुलाई तक भारत की राजकीय यात्रा पर रहेंगे. उनके साथ मंत्रिमंडल के सदस्य और कारोबारियों का दल भी आ रहा है. नौ जुलाई को उनका उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ मुलाकात का कार्यक्रम है. वहीं इसी दिन मून भारत-कोरिया कारोबारी मंच के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सााथ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि राजधाट जायेंगे और नोयडा स्थित सैमसंग संयंत्र भी जाएंगे.

10 जुलाई को दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन का राष्ट्रपति भवन में पारंपरिक स्वागत किया जायेगा और इसके बाद हैदराबाद हाउस में उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक होगी. इस दौरान कुछ समझौते पर भी हस्ताक्षर हो सकते हैं. शाम को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उनके सम्मान में रात्रि भोज देंगे.

इस यात्रा के दौरान दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी के बीच द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों समेत साझा हितों से जुड़े विषयों पर व्यापक चर्चा होगी. इसमें दोनों देशों के विशेष सामरिक संबंधों को और मजबूत बनाने पर जोर दिया जाएगा. दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग पर चर्चा होने की उम्मीद जताई जा रही है.

 

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2015 में दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल गए थे, जहां दोनों देशों के बीच विशेष सामरिक साझेदारी पर बल दिया गया था. दक्षिण कोरिया ने वर्ष 1973 में भारत के साथ औपचारिक संबंध स्थापित किये थे.

You May Also Like

English News