दिग्विजय सिंह ने नितिन गड़करी से माफ़ी मांगी

राजनेता पहले तो बिना सोचे विपक्षियों के खिलाफ बोल देते हैं. इस पर जब मानहानि का मुकदमा दर्ज होता है तो कोर्ट में लम्बी कार्रवाई के बाद फिर संबंधित नेता से माफ़ी मांग लेते हैं . यह एक परम्परा बनता जा रहा है . आम आदमी के अरविन्द केजरीवाल के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने भी नितिन गड़करी से माफ़ी मांग कर मामले को कोर्ट में समाप्त करवा लिया है .राजनेता पहले तो बिना सोचे विपक्षियों के खिलाफ बोल देते हैं. इस पर जब मानहानि का मुकदमा दर्ज होता है तो कोर्ट में लम्बी कार्रवाई के बाद फिर संबंधित नेता से माफ़ी मांग लेते हैं . यह एक परम्परा बनता जा रहा है . आम आदमी के अरविन्द केजरीवाल के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने भी नितिन गड़करी से माफ़ी मांग कर मामले को कोर्ट में समाप्त करवा लिया है .    बता दें कि गडकरी को पर 2014 में दिग्विजय ने यह आरोप लगाए थे कि उनके अपनी पार्टी के सांसद अजय संचेती के साथ व्यावसायिक संबंध हैं. जिसके बाद उनके खिलाफ गडकरी ने मानहानि का केस दर्ज करवाया था.केंद्रीय मंत्री गडकरी ने दिग्विजय सिंह द्वारा कोयला ब्लॉक आवंटन में कथित अनियमितताओं के मामले में उनका नाम खींचने पर शिकायत की थी. बाद में दिग्विजय ने भी नितिन गडकरी और सांसद अजय संचेती को लेकर दिए बयान को राजनीतिक और तथ्यहीन बताया था.    उल्लेखनीय है कि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में नितिन गडकरी और दिग्विजय सिंहन ने संयुक्त आवेदन लगा कर कोर्ट से मामले को खत्म करने का अनुरोध किया था , जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया. कोर्ट में दोनों पक्षों ने समझौते के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए.बाद में कोर्ट ने दिग्विजय सिंह की माफी को मंजूर कर लिया.राजनेता पहले तो बिना सोचे विपक्षियों के खिलाफ बोल देते हैं. इस पर जब मानहानि का मुकदमा दर्ज होता है तो कोर्ट में लम्बी कार्रवाई के बाद फिर संबंधित नेता से माफ़ी मांग लेते हैं . यह एक परम्परा बनता जा रहा है . आम आदमी के अरविन्द केजरीवाल के बाद अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने भी नितिन गड़करी से माफ़ी मांग कर मामले को कोर्ट में समाप्त करवा लिया है .    बता दें कि गडकरी को पर 2014 में दिग्विजय ने यह आरोप लगाए थे कि उनके अपनी पार्टी के सांसद अजय संचेती के साथ व्यावसायिक संबंध हैं. जिसके बाद उनके खिलाफ गडकरी ने मानहानि का केस दर्ज करवाया था.केंद्रीय मंत्री गडकरी ने दिग्विजय सिंह द्वारा कोयला ब्लॉक आवंटन में कथित अनियमितताओं के मामले में उनका नाम खींचने पर शिकायत की थी. बाद में दिग्विजय ने भी नितिन गडकरी और सांसद अजय संचेती को लेकर दिए बयान को राजनीतिक और तथ्यहीन बताया था.    उल्लेखनीय है कि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में नितिन गडकरी और दिग्विजय सिंहन ने संयुक्त आवेदन लगा कर कोर्ट से मामले को खत्म करने का अनुरोध किया था , जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया. कोर्ट में दोनों पक्षों ने समझौते के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए.बाद में कोर्ट ने दिग्विजय सिंह की माफी को मंजूर कर लिया.

बता दें कि गडकरी को पर 2014 में दिग्विजय ने यह आरोप लगाए थे कि उनके अपनी पार्टी के सांसद अजय संचेती के साथ व्यावसायिक संबंध हैं. जिसके बाद उनके खिलाफ गडकरी ने मानहानि का केस दर्ज करवाया था.केंद्रीय मंत्री गडकरी ने दिग्विजय सिंह द्वारा कोयला ब्लॉक आवंटन में कथित अनियमितताओं के मामले में उनका नाम खींचने पर शिकायत की थी. बाद में दिग्विजय ने भी नितिन गडकरी और सांसद अजय संचेती को लेकर दिए बयान को राजनीतिक और तथ्यहीन बताया था.

उल्लेखनीय है कि दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में नितिन गडकरी और दिग्विजय सिंहन ने संयुक्त आवेदन लगा कर कोर्ट से मामले को खत्म करने का अनुरोध किया था , जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया. कोर्ट में दोनों पक्षों ने समझौते के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किए.बाद में कोर्ट ने दिग्विजय सिंह की माफी को मंजूर कर लिया.

You May Also Like

English News