दिल्ली पहुंचा जिन्ना विवाद का जिन्न

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से उठा मोहम्मद अली जिन्ना विवाद अब दिली तक पहुँच चुका है, अलीगढ़ में जिन्ना समर्थकों के प्रदर्शन के बाद अब दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया के मेन गेट पर मंगलवार शाम को करीब दो दर्जन प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की. इन प्रदर्शनकरियों ने जिन्ना समर्थकों का विरोध करते हुए ‘जिन्ना प्रेमी भारत छोड़ो’ और ‘वन्दे मातरम’ के नारे लगाए. हालांकि कुछ देर नारे लगाने के बाद प्रदर्शनकारी वापिस चले गए.अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से उठा मोहम्मद अली जिन्ना विवाद अब दिली तक पहुँच चुका है, अलीगढ़ में जिन्ना समर्थकों के प्रदर्शन के बाद अब दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया के मेन गेट पर मंगलवार शाम को करीब दो दर्जन प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की. इन प्रदर्शनकरियों ने जिन्ना समर्थकों का विरोध करते हुए 'जिन्ना प्रेमी भारत छोड़ो' और 'वन्दे मातरम' के नारे लगाए. हालांकि कुछ देर नारे लगाने के बाद प्रदर्शनकारी वापिस चले गए.  दरअसल, बीजेपी सांसद सतीश गौतम ने यूनिवर्सिटी के वीसी से छात्रसंघ हॉल में लगी जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की थी. जिसके बाद इस मामले पर सियासत शुरू हुई थी. जिसके बाद  AMU के मौजूदा छात्र और पूर्व छात्रों ने जिन्ना की तस्वीर को हटाने से इनकार कर दिया था, हालांकि कुछ समय के लिए तस्वीर को हटाया गया था. AMU के छात्रों ने तस्वीर न हटाने कि मांग को लेकर जमकर प्रदर्शन भी किया था.  इस दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया था. इस मुद्दे पर छात्रों ने कहा है कि जिन्ना भारतीय इतिहास का हिस्सा हैं, इसलिए वह उनकी तस्वीर नहीं हटाएंगे. तनाव को देखते हुए यूनिवर्सिटी में कुछ दिनों के लिए इंटरनेट की सेवा पर भी रोक लगा दी गई थी. इसके बाद से यह विवाद आग की फैला है, सोशल मीडिया पर भी पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर काफी प्रतिक्रिया हो रही है.

दरअसल, बीजेपी सांसद सतीश गौतम ने यूनिवर्सिटी के वीसी से छात्रसंघ हॉल में लगी जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की थी. जिसके बाद इस मामले पर सियासत शुरू हुई थी. जिसके बाद  AMU के मौजूदा छात्र और पूर्व छात्रों ने जिन्ना की तस्वीर को हटाने से इनकार कर दिया था, हालांकि कुछ समय के लिए तस्वीर को हटाया गया था. AMU के छात्रों ने तस्वीर न हटाने कि मांग को लेकर जमकर प्रदर्शन भी किया था.

इस दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया था. इस मुद्दे पर छात्रों ने कहा है कि जिन्ना भारतीय इतिहास का हिस्सा हैं, इसलिए वह उनकी तस्वीर नहीं हटाएंगे. तनाव को देखते हुए यूनिवर्सिटी में कुछ दिनों के लिए इंटरनेट की सेवा पर भी रोक लगा दी गई थी. इसके बाद से यह विवाद आग की फैला है, सोशल मीडिया पर भी पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर काफी प्रतिक्रिया हो रही है.

You May Also Like

English News