दिल्ली में अनशन राजनीति के बीच अंडमान निकोबार से अनिंदो मजूमदार का दिल्ली ट्रांसफर

अनशन की राजनीति के बीच दिल्ली की नौकरशाही में तबादलों को लेकर बड़ी खबर आ रही है। वरिष्ठ आइएएस अधिकारी और अंडमान निकोबार से अनिंदो मजूमदार को तुरंत प्रभाव से दिल्ली ट्रांसफर कर दिया गया है। हालांकि अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि उन्हें दिल्ली में कौन सा पद दिया जाएगा। फिलहाल अंशु प्रकाश ही दिल्ली के मुख्य सचिव हैं। बता दें कि अंशु प्रकाश दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निवास पर आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायकों की पिटाई का शिकार हुए थे। वहीं कुछ महीने पहले ही बाहर से पोस्टिंग काटकर दिल्ली बुलाई गई वरिष्ठ महिला आइपीएस को कुछ महीने तक दिल्ली में वेटिंग पर रखने के बाद फिर से दिल्ली से बाहर भेज दिया गया है। गुरुवार को गृहमंत्रालय में हुई डिपार्टमेंटल प्रमोशनल कमेटी (डीपीसी) की बैठक में तबादले से संबंधित निर्णय लिया गया। उसके बाद सूची जारी कर दी गई। डीपीसी की बैठक पहले 31 मई को होनी थी लेकिन तीन बार टलती रही।  दीपेंद्र पाठक का तबादला   दिल्ली पुलिस में तैनात विशेष आयुक्त यातायात व मुख्य प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक का दिल्ली से तबादला कर अंडमान व निकोबार भेज दिया गया है। वहां वह बतौर डीजी कार्यभार संभालेंगे। अंडमान एंड निकोबार में एडीजी रैंक का पद ही सृजित है। पाठक अच्छे अधिकारी माने जाते हैं।  दो पद खाली  पूर्व पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार वर्मा ने पदभार ग्रहण करते ही कुछ समय बाद दिल्ली पुलिस के तत्कालीन प्रवक्ता डीसीपी राजन भगत का तबादला कर उन्हें क्राइम ब्रांच में भेज दिया था और विशेष आयुक्त ताज हसन को दिल्ली पुलिस का मुख्य प्रवक्ता बना दिया था। राजन भगत की जगह उन्होंने अपने डीसीपी राजीव रंजन को प्रवक्ता बना दिया था। ताज हसन का तबादला होने के बाद आलोक वर्मा ने दीपेंद्र पाठक को मुख्य प्रवक्ता बना दिया था। अमूल्य पटनायक के पुलिस आयुक्त बनने पर उन्होंने डीसीपी मधुर वर्मा को मीडिया प्रवक्ता बना दिया। कुछ महीने पहले मधुर वर्मा को नई दिल्ली जिले का डीसीपी बना दिया गया और उनकी जगह एसीपी अनिल मित्तल को बैठा दिया गया। दीपेंद्र पाठक का तबादला होने से दिल्ली पुलिस में अब न तो मुख्य प्रवक्ता व न ही प्रवक्ता के पद पर किसी की तैनाती है। दो पद खाली पड़े हैं।  नुजहत हसन को बुलाया गया दिल्ली  दिल्ली पुलिस में तैनात विशेष आयुक्त ऑपरेशन संजय बेनीवाल को चंडीगढ़ भेज दिया गया है। वहां अब एडीजी का पद सृजित हो जाने पर वह एडीजी का पदभार संभालेंगे। चंडीगढ़ में एडीजी रहे तेजेंद्र लूथरा को दिल्ली बुला लिया गया है। अंडमान एंड निकोबार में डीजी तैनात नुजहत हसन को भी वापस दिल्ली बुला लिया गया है।  पुडुचेरी में डीजी तैनात सुनील कुमार गौतम को भी वापस दिल्ली बुला लिया गया है। हाल ही में बाहर की पोस्टिंग काटकर दिल्ली लौटी महिला आइपीएस सुंदरी नंदा को कुछ महीने वेटिंग में रखने के बाद फिर उन्हें बाहर भेज दिया गया। उन्हें पुडुचेरी का डीजी बनाया गया है।  दीपेंद्र पाठक व संजय बेनीवाल का तबादला होने से यातायात व ऑपरेशन के दो पद खाली हो गए हैं। पिछले महीने पी कामराज के सेवानिवृत्त हो जाने से पहले से विशेष आयुक्त कानून एवं व्यवस्था (दक्षिण) का पद भी खाली है। संभावना जताई जा रही है कानून एवं व्यवस्था का पद ताज हसन व एसके गौतम को यातायात दिया जा सकता है।

अनशन की राजनीति के बीच दिल्ली की नौकरशाही में तबादलों को लेकर बड़ी खबर आ रही है। वरिष्ठ आइएएस अधिकारी और अंडमान निकोबार से अनिंदो मजूमदार को तुरंत प्रभाव से दिल्ली ट्रांसफर कर दिया गया है। हालांकि अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि उन्हें दिल्ली में कौन सा पद दिया जाएगा। फिलहाल अंशु प्रकाश ही दिल्ली के मुख्य सचिव हैं। बता दें कि अंशु प्रकाश दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निवास पर आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायकों की पिटाई का शिकार हुए थे। 

यूटी कैडर के छह वरिष्ठ आइपीएस का तबादला
इससे पहले गुरुवार को गृहमंत्रालय ने यूनियन टेरिटरी (यूटी) कैडर के छह वरिष्ठ आइपीएस का तबादला कर दिया था। दिल्ली में कई वर्ष से तैनात दो वरिष्ठ आइपीएस का दिल्ली से बाहर तबादला किया गया है, जबकि दिल्ली से बाहर तैनात तीन वरिष्ठ आइपीएस को वापस दिल्ली बुला लिया गया है।

वहीं कुछ महीने पहले ही बाहर से पोस्टिंग काटकर दिल्ली बुलाई गई वरिष्ठ महिला आइपीएस को कुछ महीने तक दिल्ली में वेटिंग पर रखने के बाद फिर से दिल्ली से बाहर भेज दिया गया है। गुरुवार को गृहमंत्रालय में हुई डिपार्टमेंटल प्रमोशनल कमेटी (डीपीसी) की बैठक में तबादले से संबंधित निर्णय लिया गया। उसके बाद सूची जारी कर दी गई। डीपीसी की बैठक पहले 31 मई को होनी थी लेकिन तीन बार टलती रही।

दीपेंद्र पाठक का तबादला 

दिल्ली पुलिस में तैनात विशेष आयुक्त यातायात व मुख्य प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक का दिल्ली से तबादला कर अंडमान व निकोबार भेज दिया गया है। वहां वह बतौर डीजी कार्यभार संभालेंगे। अंडमान एंड निकोबार में एडीजी रैंक का पद ही सृजित है। पाठक अच्छे अधिकारी माने जाते हैं।

दो पद खाली

पूर्व पुलिस कमिश्नर आलोक कुमार वर्मा ने पदभार ग्रहण करते ही कुछ समय बाद दिल्ली पुलिस के तत्कालीन प्रवक्ता डीसीपी राजन भगत का तबादला कर उन्हें क्राइम ब्रांच में भेज दिया था और विशेष आयुक्त ताज हसन को दिल्ली पुलिस का मुख्य प्रवक्ता बना दिया था। राजन भगत की जगह उन्होंने अपने डीसीपी राजीव रंजन को प्रवक्ता बना दिया था। ताज हसन का तबादला होने के बाद आलोक वर्मा ने दीपेंद्र पाठक को मुख्य प्रवक्ता बना दिया था। अमूल्य पटनायक के पुलिस आयुक्त बनने पर उन्होंने डीसीपी मधुर वर्मा को मीडिया प्रवक्ता बना दिया। कुछ महीने पहले मधुर वर्मा को नई दिल्ली जिले का डीसीपी बना दिया गया और उनकी जगह एसीपी अनिल मित्तल को बैठा दिया गया। दीपेंद्र पाठक का तबादला होने से दिल्ली पुलिस में अब न तो मुख्य प्रवक्ता व न ही प्रवक्ता के पद पर किसी की तैनाती है। दो पद खाली पड़े हैं।

नुजहत हसन को बुलाया गया दिल्ली

दिल्ली पुलिस में तैनात विशेष आयुक्त ऑपरेशन संजय बेनीवाल को चंडीगढ़ भेज दिया गया है। वहां अब एडीजी का पद सृजित हो जाने पर वह एडीजी का पदभार संभालेंगे। चंडीगढ़ में एडीजी रहे तेजेंद्र लूथरा को दिल्ली बुला लिया गया है। अंडमान एंड निकोबार में डीजी तैनात नुजहत हसन को भी वापस दिल्ली बुला लिया गया है।

पुडुचेरी में डीजी तैनात सुनील कुमार गौतम को भी वापस दिल्ली बुला लिया गया है। हाल ही में बाहर की पोस्टिंग काटकर दिल्ली लौटी महिला आइपीएस सुंदरी नंदा को कुछ महीने वेटिंग में रखने के बाद फिर उन्हें बाहर भेज दिया गया। उन्हें पुडुचेरी का डीजी बनाया गया है।

दीपेंद्र पाठक व संजय बेनीवाल का तबादला होने से यातायात व ऑपरेशन के दो पद खाली हो गए हैं। पिछले महीने पी कामराज के सेवानिवृत्त हो जाने से पहले से विशेष आयुक्त कानून एवं व्यवस्था (दक्षिण) का पद भी खाली है। संभावना जताई जा रही है कानून एवं व्यवस्था का पद ताज हसन व एसके गौतम को यातायात दिया जा सकता है।

 

You May Also Like

English News