दिल्ली में ‘भूख’ से मौत पर सियासत: BJP बोली- शर्म करो केजरीवाल, AAP ने कहा- LG ने रोका राशन

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली जैसे शहर में कथित तौर पर भूख से तीन बहनों की मौत पर सियासतदां सवालों के घेरे में है. कोई भी इस मौत की जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं है, लेकिन सियासत तेज है. सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप), भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस एक दूसरे पर निशाना साध रही है. बीजेपी ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री को शर्म आनी चाहिए. वहीं आप ने उपराज्यपाल पर राशन रोकने का आरोप लगाया है. वहीं कांग्रेस ने कहा कि उसके शासनकाल में कभी ऐसा नहीं हुआ.राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली जैसे शहर में कथित तौर पर भूख से तीन बहनों की मौत पर सियासतदां सवालों के घेरे में है. कोई भी इस मौत की जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं है, लेकिन सियासत तेज है. सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप), भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस एक दूसरे पर निशाना साध रही है. बीजेपी ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री को शर्म आनी चाहिए. वहीं आप ने उपराज्यपाल पर राशन रोकने का आरोप लगाया है. वहीं कांग्रेस ने कहा कि उसके शासनकाल में कभी ऐसा नहीं हुआ.   दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री और आप नेता मनीष सिसोदिया ने कहा कि आज हम मंडावली जाकर पीड़ित परिवार से मिलेंगे. उन्होंने कहा कि भूख से मौत मामले की जांच मजिस्ट्रेट को सौंपी गई है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''मंडावली में तीन बच्चियों की मौत की घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं. यह परिवार दो दिन पहले ही मंडावली में एक मकान में रह रहे किराएदार के यहां मेहमान आया था. घटना के पहले से ही बच्चियों के मजदूर पिता काम पर गए थे जो लौटे नहीं हैं. मां भी पहले से मानसिक बीमार हैं.''     Manish Sisodia ✔ @msisodia  I shall go to the house in Mandavali tomorrow morning where this incident took place.  Manish Sisodia ✔ @msisodia मंडावली में तीन बच्चियों की मौत की घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। यह परिवार दो दिन पहले ही मंडावली में एक मकान में रह रहे किराएदार के यहां मेहमान आया था।  घटना के पहले से ही बच्चियों के मजदूर पिता काम पर गए थे जो लौटे नहीं हैं। मां भी पहले से मानसिक बीमार हैं।  8:35 PM - Jul 25, 2018 1,042 604 people are talking about this Twitter Ads info and privacy   बीजेपी का हमला मनोज तिवारी ने कहा कि यह दुख की बात है कि ऐसी घटना दिल्ली में हुई जहां की स्थानीय सरकार गरीबों को राशन वितरण में चैंपियन होने का दावा करती है. उन्होंने कहा , ‘‘इस घटना ने हमें अभिव्यक्त करने की सीमा से अधिक दुखी किया है, जो कि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के विधानसभा क्षेत्र में हुई है.’’   उन्होंने कहा, ''देश की राजधानी दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार में आज भी आम आदमी की भूख के कारण मौत हो रही है. शर्म करो अरविंद केजरीवाल.''     Manoj Tiwari ✔ @ManojTiwariMP  3 बेटियों की मौत वो भी भूख के कारण...@msisodia ये आपके एरिया में हुआ है ...देश की राजधानी दिल्ली में @AamAadmiParty की सरकार में आज भी आम आदमी की भूख के कारण मौत हो रही है .. शर्म करो @ArvindKejriwal  8:00 PM - Jul 25, 2018 3,047 1,497 people are talking about this Twitter Ads info and privacy   वहीं आप नेता सौरभ भारद्वाज ने मौत के लिए उपराज्यपाल को इशारों-इशारों में जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने मनोज तिवारी पर पलटवार करते हुए कहा, ''आपकी जानकारी ग़लत है. केजरीवाल सरकार तो ग़रीबों के घर तक राशन पहुंचाना चाहती है, बीजेपी और एलजी उसे रोक रहे है. राशन ग़रीबों की मूलभूत ज़रूरत है. कितने ग़रीबों की जान लेकर बीजेपी जागेगी?''     Saurabh Bharadwaj ✔ @Saurabh_MLAgk  .@ManojTiwariMP जी, आपकी जानकारी ग़लत है। केजरीवाल सरकार तो ग़रीबों के घर तक राशन पहुँचाना चाहती है, भाजपा और एलजी उसे रोक रहे है।  राशन ग़रीबों की मूलभूत ज़रूरत है।   कितने ग़रीबों की जान लेकर भाजपा जागेगी ?  9:35 PM - Jul 25, 2018 740 514 people are talking about this Twitter Ads info and privacy   बीजेपी-आप की इस लड़ाई पर कांग्रेस ने कहा कि उसके शासनकाल में कभी नहीं हुआ. दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन ने मिड-डे मिल, राशन कार्ड योजना और रोजगार को लेकर सवाल उठाए.     Ajay Maken ✔ @ajaymaken  #StarvationDeaths Qs arise- 1)8yrs old-Did she go to Govt school with Mid-Day Meal?  2)Did the family have a ration card?  3)Could the father not even get a job to stop his children from starvation?  Answers to all above Qs are ‘NO’  This never happened during @INCIndia regime pic.twitter.com/6R1ce6LdNz  8:13 AM - Jul 26, 2018 139 93 people are talking about this Twitter Ads info and privacy   आपको बता दें कि दिल्ली के मंडावनी में एक घर में तीन नाबालिग बहनें बेहोश मिली थी. उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि मौत का कारण 'भूख' हो सकता है. उन्होंने कहा कि लड़कियों का पिता लापता है. भुखमरी की नौबत आने पर वह कई दिनों से नौकरी तलाश रहा था.

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री और आप नेता मनीष सिसोदिया ने कहा कि आज हम मंडावली जाकर पीड़ित परिवार से मिलेंगे. उन्होंने कहा कि भूख से मौत मामले की जांच मजिस्ट्रेट को सौंपी गई है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ”मंडावली में तीन बच्चियों की मौत की घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं. यह परिवार दो दिन पहले ही मंडावली में एक मकान में रह रहे किराएदार के यहां मेहमान आया था. घटना के पहले से ही बच्चियों के मजदूर पिता काम पर गए थे जो लौटे नहीं हैं. मां भी पहले से मानसिक बीमार हैं.”

मंडावली में तीन बच्चियों की मौत की घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। यह परिवार दो दिन पहले ही मंडावली में एक मकान में रह रहे किराएदार के यहां मेहमान आया था। घटना के पहले से ही बच्चियों के मजदूर पिता काम पर गए थे जो लौटे नहीं हैं। मां भी पहले से मानसिक बीमार हैं।

बीजेपी का हमला

मनोज तिवारी ने कहा कि यह दुख की बात है कि ऐसी घटना दिल्ली में हुई जहां की स्थानीय सरकार गरीबों को राशन वितरण में चैंपियन होने का दावा करती है. उन्होंने कहा , ‘‘इस घटना ने हमें अभिव्यक्त करने की सीमा से अधिक दुखी किया है, जो कि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के विधानसभा क्षेत्र में हुई है.’’

उन्होंने कहा, ”देश की राजधानी दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार में आज भी आम आदमी की भूख के कारण मौत हो रही है. शर्म करो अरविंद केजरीवाल.”

वहीं आप नेता सौरभ भारद्वाज ने मौत के लिए उपराज्यपाल को इशारों-इशारों में जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने मनोज तिवारी पर पलटवार करते हुए कहा, ”आपकी जानकारी ग़लत है. केजरीवाल सरकार तो ग़रीबों के घर तक राशन पहुंचाना चाहती है, बीजेपी और एलजी उसे रोक रहे है. राशन ग़रीबों की मूलभूत ज़रूरत है. कितने ग़रीबों की जान लेकर बीजेपी जागेगी?”

बीजेपी-आप की इस लड़ाई पर कांग्रेस ने कहा कि उसके शासनकाल में कभी नहीं हुआ. दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन ने मिड-डे मिल, राशन कार्ड योजना और रोजगार को लेकर सवाल उठाए.

आपको बता दें कि दिल्ली के मंडावनी में एक घर में तीन नाबालिग बहनें बेहोश मिली थी. उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि मौत का कारण ‘भूख’ हो सकता है. उन्होंने कहा कि लड़कियों का पिता लापता है. भुखमरी की नौबत आने पर वह कई दिनों से नौकरी तलाश रहा था.

You May Also Like

English News