दुनिया की सबसे बुजुर्ग यू-ट्यूबर, किसी मास्टरशेफ से कम नहीं हैं ‘मस्तनम्मा’

पारंपरिक व्यंजनों को ठेठ देसी अंदाज में तैयार होते देखना, एक अलग ही मजा देता है। खासकर तब, जब वह रेसिपी दादी या नानी अपने तरीके से तैयार कर रही हों। उसे देखकर मुंह में पानी आना तो लाजिमी है। तभी तो आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के छोटे से गांव की रहने वाली 106 वर्षीय ‘कैरे मस्तनम्मा’ आज सबसे उम्रदराज यू-ट्यूबर बन चुकी हैं। मस्तनम्मा अपने स्वादिष्ट खाने और काम करने के जज्बे को लेकर सोशल मीडिया में काफी चर्चें हो रहे हैं। अब तक इनके चैनल को करीब पांच लाख से ज्यादा लोग सब्सक्राइब्स भी कर चुके हैं। दुनिया की सबसे बुजुर्ग यू-ट्यूबर, किसी मास्टरशेफ से कम नहीं हैं 'मस्तनम्मा'येरुशलम: ट्रंप की घोषणा के बाद गाजा पट्टी में भड़की हिंसा में 31 लोग घायल

मस्तनम्मा को बचपन में एक परिवार ने गोद लिया था, क्योंकि उस परिवार में कोई बेटी नहीं थी। उन्होंने ही ‘मस्तनम्मा’ नाम दिया। हालांकि बचपन में ही मस्तनम्मा ने अपने नए परिवार के साथ रहने से मना कर दिया और अपने गांव वापस आ गईं। 11 वर्ष की उम्र में शादी आैर फिर 22 साल की उम्र में विधवा हो जाना, मस्तनम्‍मा के लिए बेहद ही कष्टकारी समय रहा। पति के गुजरने के बाद अपने पांच बच्चों का अकेले ही पालन-पोषण करना पड़ा। जीवन निर्वाह के लिए ये दिहाड़ी पर काम करने लगीं। जीवन चल ही रहा था कि महामारी की चपेट में आकर उनके चार बच्चों की मौत हो गई। पांचवां पुत्र जीवित तो रहा, लेकिन उसकी आंखें चली गईं।  
 

यूट्यूबर बनने की कहानी
मस्तनम्मा का यूट्यूब पर एक लोकप्रिय चेहरा बनने के पीछे की कहानी भी दिलचस्प है। मस्तनम्मा के पोते लक्ष्मण और उसके दोस्त श्रीनाथ रेड्डी ने देशभर के भोजन पकाने वाले बैचलर्स पर एक यूट्यूब चैनल बनाने का फैसला किया और इस तरह अगस्त 2016 में ‘कंट्री फूड्स’ के नाम से यह चैनल शुरू हो गया। शुरुआत में 40 वीडियो अपलोड किए गए, लेकिन उनको कोई खास सफलता नहीं मिली। एक बार लक्ष्मण की मां ने उससे उसकी दादी का जिक्र किया, जिससे लक्ष्मण हैदराबाद में बस जाने के कारण नहीं मिल सका था। लक्ष्मण की मां ने कहा कि तुम क्यों नहीं मस्तनम्मा को शूट करते, वे परिवार और गांव में सबसे अच्छा भोजन पकाती हैं। इसके बाद लक्ष्मण और उनके दोस्तों ने अपनी दादी मस्तनम्मा से संपर्क किया। मस्तनम्मा ने अपने यूट्यूब चैनल के लिए पहली रेसिपी ‘बैंगन की कढ़ी’ बनाई थी और इसे लोगों ने बहुत सराहा। 
 

खेत के बीच में मस्तनम्मा ने अपनी किचन बनाई हुई है। वे लकड़ी के चूल्हे पर भोजन पकाती हैं और इसके लिए वे केवल सूखी पत्तियों और लकड़ियों का प्रयोग करती हैं। वे चिकन बर्गर और केएफसी चिकन की पारंपरिक शैली भी बनाती हैं। ‘एग इन टोमैटो’ के अलावा उनके सबसे लोकप्रिय वीडियो ‘वाटरमेलन चिकन’ है। इसे यूट्यूब पर एक करोड़ बार देखा गया। विश्वभर में यूट्यूब पर मस्तनम्मा के जबरदस्त प्रशंसक हैं। मस्तनम्मा के फॉलोअर्स में भारत के अलावा अमेरिका, पाकिस्तान, यूके व मलेशिया के लोग शामिल हैं।
 

You May Also Like

English News