दुनिया के सबसे बुजुर्ग इंसान की हुई मौत, जानिए कौन थे वह!

इंडोनेशिया: दुनिया के सबसे बुजुर्ग इंसान की मौत हो गई है। 146 साल के इस शख्स का दावा था कि वह दुनिया
का सबसे उम्रदराज इंसान है। बहा गोथो नाम का यह इंसान इंडोनेशिया का रहने वाला था। उनके जन्म के कागजात और पहचान पत्र के मुताबिक गोथो का जन्म 1870 में हुआ था।

गोथो को पिछले महीने अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें क्या परेशानी थी इसकी जानकारी अभी नहीं मिल पाई है। स्थानीय लोग उन्हें सोदिमेदजो के नाम से भी पुकारते थे। 6 दिन अस्पताल में भर्ती रहने के बाद गोथो वहां से डिस्चार्ज हो गए। वहां से घर लौटने के बाद वह केवल ओट्स ही खाते थे। उनके पोते सुयांतो ने बीबीसी को यह जानकारी दी। गोथो बहुत सिगरेट पीया करते थे। एक रिश्तेदार ने बताया कि अस्पताल से लौटने के बाद उनकी खुराक काफी कम हो गई थी। वह केवल कुछ चम्मच भर ओट्स खाते थे। पानी भी वह बहुत कम पीने लगे थे।

गोथो की उम्र को लेकर कई संदेह भी हैं। इसकी एक वजह यह भी है कि इंडोनेशिया ने जन्मों का रेकॉर्ड रखना 1900 से पहले शुरू नहीं किया था। गोथो केंद्रीय जावा के सरागेन शहर में रहते थे। पिछले साल यहां के स्थानीय रेकॉर्ड ऑफिस के अधिकारियों ने कहा था कि उन्होंने गोथो की उम्र की पुष्टि कर ली है। उस समय पत्रकारों से बात करते हुए गोथो ने कहा कि साल 1992 में उन्होंने मौत की तैयारी शुरू कर दी थी। उन्होंने अपनी कब्र पर लगाए जाने वाला पत्थर भी तैयार करवा लिया था। गोथो ने तब कहा था कि अब मैं बस मरना चाहता हूं।

गोथो के 10 भाई, बहन चार पत्नियां और बच्चे सभी की उनके सामने मौत हुई। सोमवार सुबह गोथो को उसी जमीन में दफनाया गया जिसे उन्होंने कई साल पहले अपनी कब्र बनवाने के लिए खरीदा था। सूर्यांतो ने बताया कि उन्होंने ज्यादा कुछ नहीं मांगा। मरने से पहले वह चाहते थे कि हम लोग उन्हें जाने दें। गिनेस वल्र्ड रेकॉड्र्स के मुताबिक दुनिया में सबसे ज्यादा समय तक जीने का रेकॉर्ड फ्रांस की एक 122 वर्षीय महिला के नाम है। 1997 में उस महिला की मौत हो गई। अगर गोथो का दावा सही पाया जाता है तो वह दुनिया में सबसे लंबे समय तक जीने वाले शख्स बन जाएंगे। इससे पहले नाइजीरिया के एक शख्स ने दावा किया था कि उसकी उम्र 171 साल है। इथोपिया में रहने वाले एक व्यक्ति ने अपनी आयु 163 साल बताई थी। सत्यापित कागजातों के अभाव में उनमें से किसी के भी दावे को आधिकारिक तौर पर स्वीकार नहीं किया गया।

You May Also Like

English News