देखिये फोटो: इस बिहारी के हौसले के आगे पहाड़ भी पड़ गया छोटा…

New Delhi: दशरथ मांझी, एक ऐसा नाम जो इंसानी जज्बे और जुनून की मिसाल है। वो दीवानगी, जो प्रेम की खातिर ज़िद में बदली और तब तक चैन से नहीं बैठी, जब तक कि पहाड़ का सीना चीर दिया।देखिये फोटो: इस बिहारी के हौसले के आगे पहाड़ भी पड़ गया छोटा...शादी के दिन दूल्हा-दुल्हन के साथ स्टेज पर हो गई ऐसी घटना, जिसकी वजह से हुआ बवाल…

बिहार में गया के करीब गहलौर गांव में दशरथ मांझी के माउंटन मैन बनने का सफर उनकी पत्नी का ज़िक्र किए बिना अधूरा है। गहलौर और अस्पताल के बीच खड़े जिद्दी पहाड़ की वजह से साल 1959 में उनकी बीवी फाल्गुनी देवी को वक़्रत पर इलाज नहीं मिल सका और वो चल बसीं।

टेंट वाले से हुआ इस महिला को हुआ प्यार, किराए के रूम में दोनों मिलते थे और फिर एक दिन…

यहीं से शुरू हुआ दशरथ मांझी का इंतकाम। पत्नी के चले जाने के गम से टूटे दशरथ मांझी ने अपनी सारी ताकत बटोरी और पहाड़ के सीने पर वार करने का फैसला किया। लेकिन यह आसान नहीं था। शुरुआत में उन्हें पागल तक कहा गया।

दशरथ मांझी ने बताया था, ‘गांववालों ने शुरू में कहा कि मैं पागल हो गया हूं, लेकिन उनके तानों ने मेरा हौसला और बढ़ा दिया’। साल 1960 से 1982 के बीच दिन-रात दशरथ मांझी के दिलो-दिमाग में एक ही चीज़ ने कब्ज़ा कर रखा था।

पहाड़ से अपनी पत्नी की मौत का बदला लेना। और 22 साल जारी रहे जुनून ने अपना नतीजा दिखाया और पहाड़ ने मांझी से हार मानकर 360 फुट लंबा, 25 फुट गहरा और 30 फुट चौड़ा रास्ता दे दिया

दशरथ मांझी के गहलौर पहाड़ का सीना चीरने से गया के अतरी और वज़ीरगंज ब्लॉक का फासला 80 किलोमीटर से घटकर 13 किलोमीटर रह गया। केतन मेहता ने उन्हें गरीबों का शाहजहां करार दिया।

साल 2007 में जब 73 बरस की उम्र में वो जब दुनिया छोड़ गए, तो पीछे रह गई पहाड़ पर लिखी उनकी वो कहानी, जो आने वाली कई पीढ़ियों को सबक सिखाती रहेगी।

You May Also Like

English News