देखे विडियो: ..तो ऐसे होता है ‘वैसी वाली फिल्मो ‘ में काम

Anand Film का एक Dialogue है, ‘जीना तो बंबई (अब मुंबई) में, मरना तो बंबई में।’ बस ये एक संवाद मुंबई के अस्तित्व को बयां करने के लिए काफ़ी है।

देखे विडियो: ..तो ऐसे होता है 'वैसी वाली फिल्मो ' में काम
हर साल ना जाने कितने लोग अपने सपने लिए समंदर के किनारे इस शहर की गोद में जाकर बैठ जाते हैं। हर दूसरा शख़्स यहां अभिनेता, निर्देशक और फ़िल्मों से जुड़े अन्य कामों को करने के लिए आता है। यहां बॉलीवुड में फिल्में तो बनती ही हैं, लेकिन इसके साथ-साथ यहां बी और सी ग्रेड की फ़िल्मों का निर्माण भी किया जाता है।
हमारे देश में लोग सेक्स के मसले पर बात करने से हिचकिचाते हैं, लेकिन सबसे ज़्यादा जनसंख्या ऐसे ही तो नहीं बनी? खैर हम वो बी और सी ग्रेड की बात कर रहे थे।
Scoopwhoop ने NewsLaundry के साथ मिलकर Chase का नया एपिसोड रिलीज़ किया है। ये एपिसोड बी और सी ग्रेड की फ़िल्मों के बारे में बात कर रहा है। इस एपिसोड का नाम है Waisi Wali.
 आज समर खान बी और सी ग्रेड्स की फ़िल्में बनाते हैं। कभी ये भी बनने अभिनेता ही आये थे। दीवाना फ़िल्म में तो इन्होंने एक रोल भी किया था। आज 26 साल बाद बी और सी ग्रेड्स की फ़िल्मों का निर्देशन, लेखन और प्रॉड्यूसर का काम करते हैं।
यहां भी लाइट्स हैं, कैमरा है, लोग हैं कला है पर इसे बी/सी ग्रेड में बांट दिया जाता है।  हम यहां ज़्यादा बोलना बंद करके वीडियो को खुद बोलने देते हैं।
इस वीडियो को देखिए और अपने हिसाब से सोचिए..जो भी सोचते हैं इस मसले पर: 
VIDEO CREDIT: SCOOP WHOOP
 
 
 

You May Also Like

English News