दो साल से लापता युवती की हत्या में डीएवी का छात्र नेता और साथी गिरफ्तार

दो साल पहले लापता हुई युवती की हत्या कर शव हमीरपुर में यमुना नदी में फेंकने के मामले में पुलिस ने आरोपित डीएवी के छात्र नेता रितेंद्र उर्फ बउवा ठाकुर और अनुज सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। बाबूपुरवा थाना व चकेरी के तत्कालीन पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आने के बाद उच्चाधिकारियों ने संज्ञान लेकर जांच शुरू कराई है।दो साल से लापता युवती की हत्या में डीएवी का छात्र नेता और साथी गिरफ्तार

चकेरी के कृष्णानगर में नेता कालोनी की युवती की डीएवी के पूर्व छात्रनेता से दोस्ती थी। झगड़ा होने पर उसने बाबूपुरवा थाने में पूर्व छात्रनेता समेत दो पर छेड़छाड़ का मुकदमा लिखाया था। 27 सितंबर 2016 को छात्रा लापता हो गई थी, जब वह बयान देने कचहरी जा रही थी। पिछले दिनों कॉल डिटेल के आधार पर पुलिस ने पूर्व छात्रनेता के एक साथी को हिरासत में लिया तो पता लगा कि छात्रा की घटना वाली रात ही हत्या कर दी गई थी। समझौते के बहाने छात्रनेता ने पीएसी मोड़ के पास युवती को बुलाकर कार में बैठा लिया था। अंधेरा होने पर नौबस्ता ले गए थे, जहां छात्रनेता ने गर्दन पर पैर रखकर छात्रा की हत्या कर दी थी। पुलिस की लापरवाही के चलते अबतक मामला दबा हुआ था। घटना की सच्चाई और तत्कालीन पुलिस कर्मियों की लापरवाही सामने आने के बाद उच्चाधिकारियों ने मामला संज्ञान में लिया। उच्चाधिकारियों के निर्देश के बाद पुलिस ने आरोपित डीएवी के छात्र नेता रितेंद्र उर्फ बउवा ठाकुर और अनुज सिंह को गिरफ्तार किया है। इसके साथ ही पुलिस ने घटना के समय प्रयुक्त की गई अर्टिगा कार भी बरामद की है। बउवा ठाकुर जमीन की खरीद-फरोख्त का काम करता है और ब्याज में पैसा देता था। वह सपा का भी कार्यकर्ता रहा है।

छेड़छाड़ के मुकदमे में लगी एफआर

छेड़छाड़ के जिस मुकदमे में बयान देने के लिए छात्रा घर से निकली थी, उसमें कुछ माह बाद पुलिस ने फाइनल रिपोर्ट लगा दी थी। अगर पुलिस लापरवाही न करती तो छात्रा के कत्ल का खुलासा दो साल पहले हो जाता। पुलिस गुमशुदगी दर्ज कर दो महीने शांत बैठी रही। इसके बाद मां की गुहार पर अपहरण का मुकदमा दर्ज किया। छात्रा के मोबाइल की कॉल डिटेल में आरोपित छात्रनेता के नंबर समेत कई नंबर संदिग्ध थे, लेकिन पुलिस ने पूछताछ भी नहीं की। 

बेटी के इंतजार में पथरा गईं आंखें

छात्रा के पिता चकेरी में अंडे का ठेला लगाते हैं। बड़ी बहन व मां कई बार अफसरों की चौखट पर गई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। दो साल से परिवार बेटी के लौटने का इंतजार करता रहा। 

रिश्तेदारों से की भी पूछताछ

छात्र नेता को पकड़ने के लिए पुलिस ने उसके भांजे समेत तीन रिश्तेदारों से पूछताछ की। एक टीम आरोपित की फतेहपुर स्थित ननिहाल और एक टीम रायबरेली स्थित ससुराल भी गई। 

छात्रा के शव की भी तलाश की जा रही

छात्रनेता के दोस्त ट्रैवल्स एजेंसी संचालक की निशानदेही पर पुलिस युवती का शव का पता लगाने का भी प्रयास कर रही है। हमीरपुर में पिछले दो साल में मिले लावारिस शवों की सूचना भी जुटाना शुरू की है। 

हत्या से पहले बनाया था वीडियो

युवती की मां ने बताया कि बेटी के न लौटने पर छात्रनेता से पूछताछ की तो उसने कार में बनाया गया बेटी का वीडियो दिखाकर कहा था कि समझौता हो गया है, वह रकम लेकर वैष्णोदेवी चली गई है।

You May Also Like

English News