नजरबंद सईद बोला- ट्रंप और मोदी की दोस्ती की वजह से हुई कार्रवाई

अमेरिका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दबाव में आखिरकार पाकिस्तान को हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई करने को मजबूर होना पड़ा है। लाहौर में सोमवार रात को मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमात उद दावा के सरगना हाफिज सईद समेत पांच लोगों को नजरबंद कर दिया गया। नजरबंद होने के बाद सोशल मीडिया पर सईद ने एक वीडियो जारी किया है। वीडियो में हाफिज ने पीएम मोदी के साथ-साथ डोनाल्ड ट्रंप पर भी जमकर हमला बोला है।
नजरबंद सईद बोला- ट्रंप और मोदी की दोस्ती की वजह से हुई कार्रवाई
 
हाफिज सईद के कथित ट्विटर हैंडल @AmeerJamatDawah पर कई वीडियो डाले गए हैं। इन वीडियो में हाफिज सईद पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कह रहा है कि भारत सरकार के दबाव में ही पाकिस्तान ने उसे नजरबंद किया है। वीडियो में हाफिज की तरफ से कथित तौर पर यह दावा किया जा रहा है कि पाकिस्तान में कहीं भी उसके खिलाफ FIR दर्ज नहीं की गई है। 

डोनाल्ड ट्रंप के ऑर्डर हुए लीक, अब भारतीयों पर प्रतिबंध की बारी?

वीडियो में हाफिज सईद कह रहा है कि, ‘अमेरिका का नया राष्ट्रपति ट्रंप मोदी से दोस्ती निभाना चाहता है इसी के चलते पाकिस्तान पर दबाव डाला जा रहा है।’ हाफिज ने यह भी कहा कि उसका अमेरिका के साथ कोई झगड़ा नही है, उसका झगड़ा तो भारत के साथ है कश्मीर मुद्दे को लेकर।

जन्म : सरगोधा (पंजाब, पाकिस्तान) 
संगठन: जमात-उद-दावा, लश्कर-ए-तैयबा का नेता 
मजहब :     सुन्नी इस्लाम
आंदोलन :     अहले-हदीस– 1985 में अफगानिस्तान में जिहाद के प्रचार के लिए लश्कर ए तैयबा की स्थापना की। 1990 के बाद जब सोवियत सेना अफगानिस्तान से निकल गए तो हाफिज सईद ने अपने मिशन को कश्मीर की तरफ मोड़ दिया।
 
– 11 सितंबर 2001 में अमेरिका पर हुए हमलों के बाद अमेरिका ने लश्कर-ए-तैयबा को विदेशी आतंकी संगठन घोषित किया 

–  वर्ष 2002 में पाकिस्तानी सरकार ने भी लश्कर पर प्रतिबंध लगा दिया। उसके बाद हाफिज सईद ने लश्कर-ए-तैयबा का नया नाम जमात-उद-दावा रखा। 

– 2003, 2005 और 2008 में भारत में हुए आतंकी हमलों के लिए लश्कर ए तैयबा जिम्मेदार है 

– 26/11 मुुंबई हमलों का मास्टरमाइंड है हाफिज सईद। इस हमले में 6 अमेरिकियों समेत 166 लोग मारे गए थे। भारत पाकिस्तान से उसे सौंपने की कई बार मांग कर चुका है।

– दिसंबर 2008 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिष्ज्ञद ने जमात-उत-दावा को आतंकी संगठन घोषित किया था। 

– 2009 में मुंबई हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान में छह महीने तक नजरबंद, बाद में लाहौर हाईकोर्ट के आदेश पर रिहा

– पठानकोट हमले के बाद  8 जुलाई 2016 को कश्मीर में सुरक्षा बलों के हाथों मारे गए बुरहान वानी और हाफिज सईद के बीच हुई थी बातचीत, वीडियो क्लिप जारी 

– मुंबई समेत भारत और अफगानिस्तान में हुए कई हमलों में हाफिज सईद का हाथ है। हालांकि पाकिस्तान इससे इनकार करता रहा है

– अमेरिका ने हाफिज पर एक करोड़ डॉलर का इनाम भी रखा है। उसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस जारी है 

 
 

You May Also Like

English News