नवाज शरीफ पर भ्रष्टाचार के दो और मामलों में चलेगा केस

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरयम नवाज ने शुक्रवार को देश लौटने के बाद पहली रात जेल में गुजारी। नवाज शरीफ को कड़ी सुरक्षा में रावलपिंडी की अदियाला जेल में रखा गया है। वहीं मरयम को रावलपिंडी में ही सिहला रेस्ट हाउस में रखा गया है। तीन बार प्रधानमंत्री रह चुके शरीफ और मरयम को जेल में बी-ग्रेड की सुविधाएं दी गईं।पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरयम नवाज ने शुक्रवार को देश लौटने के बाद पहली रात जेल में गुजारी। नवाज शरीफ को कड़ी सुरक्षा में रावलपिंडी की अदियाला जेल में रखा गया है। वहीं मरयम को रावलपिंडी में ही सिहला रेस्ट हाउस में रखा गया है। तीन बार प्रधानमंत्री रह चुके शरीफ और मरयम को जेल में बी-ग्रेड की सुविधाएं दी गईं।  जियो न्यूज ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि मरयम को भी अदियाला जेल में ही रखने का फैसला लिया गया है। इस बीच, कानून मंत्रालय ने शनिवार को एक नोटिफिकेशन जारी कर कहा कि नवाज पर भ्रष्टाचार के दो और मामलों की सुनवाई अदियाला जेल में ही की जाएगी। इनमें फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट और अल अजीजिया स्टील मिल से जुड़े मामले शामिल हैं।  शुक्रवार रात दोनों को जेल भेजने का आदेश जारी करने वाले इस्लामाबाद की जवाबदेही कोर्ट के जज मुहम्मद बशीर इन मामलों की सुनवाई करेंगे। राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने शुक्रवार को शरीफ और मरियम को लंदन से लाहौर आने के कुछ देर बाद ही गिरफ्तार कर लिया था।  शरीफ को लंदन के अवेनफील्ड में चार फ्लैट भ्रष्टाचार के पैसों से खरीदने के मामले में 10 साल जेल की सजा हुई है। जवाबदेही ब्यूरो की अदालत ने इसी मामले में उनकी बेटी को सात साल की सजा सुनाई है।  मरियम के पति देंगे अदालत के आदेश को चुनौती-  मरियम नवाज और उनके पति ने अदालत के छह जुलाई के फैसले को चुनौती देने का फैसला लिया है। 16 जुलाई को दायर की जाने वाली अपील शनिवार को ड्राफ्ट किया गया। पावर ऑफ अटार्नी लेने के लिए मरियम की कानूनी टीम आदियाला जेल पहुंची थी। समय बीत जाने के कारण टीम शनिवार को अपील दायर नहीं कर सकी। ग्रीष्मावकाश के कारण अदालत एक बजे तक ही काम करती है।  पुलिस से झड़प में 50 घायल-  पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में नवाज शरीफ के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प में कम-से-कम 50 लोग घायल हो गए हैं। इनमें 20 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। पंजाब पुलिस के प्रवक्ता नियाब हैदर ने बताया कि शरीफ की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच कई स्थानों पर झड़प होने की खबर है। झड़प की घटनाएं मुख्य रूप से लाहौर और इसके आस-पास के जिलों में हुईं।  शाहबाज समेत 1500 के खिलाफ मामला दर्ज-  पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के समर्थन में शुक्रवार को रैली निकालने के लिए शनिवार को पुलिस ने करीब 1500 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि लाहौर के तीन थाना में पीएमएल-एन के 1500 कार्यकर्ताओं और 20 नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। इन नेताओं में शाहिद खाकन अब्बासी, नवाज के छोटे भाई शाहबाज शरीफ, उनके बेटे हमजा एवं अन्य शामिल हैं। सभी के खिलाफ आतंकवाद विरोधी एवं पाकिस्तानी दंड संहिता के तहत आरोप लगाया गया है। पीएमएल-एन ने एफआइआर दर्ज कराने की निंदा की है और इसे वापस लेने की मांग की है।  मोदी से 'दोस्ती' पर इमरान का ताना-  पाकिस्तान तहरीक-ए-इन्साफ पार्टी के अध्यक्ष इमरान खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ नवाज शरीफ की 'दोस्ती' पर उनका मजाक उड़ाया है। इमरान ने कहा है कि ये दोनों नेता विरोधियों पर बढ़त हासिल करने के लिए देश में कानून-व्यवस्था की समस्या और सरहद पर तनाव उत्पन्न करते रहते हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि इसमें कोई हैरानी नहीं कि शरीफ जब कभी मुश्किल में होते हैं, सरहद पर तनाव बढ़ जाता है और देश में आतंकी गतिविधियों में बढ़ोतरी होने लगती है।  बी-ग्रेड में दी जाती हैं ये सुविधाएं-  क्लास बी में उन कैदियों को रखा जाता है, जिनका सामाजिक, शैक्षणिक और जीवन स्तर बाकी कैदियों से अच्छा होता है। सरकार के आदेश से कुछ आदतन अपराधियों को भी इसमें रखा जा सकता है। ए और बी ग्रेड के कैदियों को आमतौर पर मेहनत वाला काम नहीं करना पड़ता है।  उन्हें क्लास सी के अनपढ़ कैदियों को पढ़ाने की जिम्मेदारी दी जाती है। ए और बी ग्रेड के कैदियों को टेलीविजन, फ्रिज, एसी और अखबार की सुविधा पैसे चुकाने के बाद दी जा सकती है। हालांकि, इसके लिए जेल विभाग से अनुमति लेने की जरूरत पड़ती है।

जियो न्यूज ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि मरयम को भी अदियाला जेल में ही रखने का फैसला लिया गया है। इस बीच, कानून मंत्रालय ने शनिवार को एक नोटिफिकेशन जारी कर कहा कि नवाज पर भ्रष्टाचार के दो और मामलों की सुनवाई अदियाला जेल में ही की जाएगी। इनमें फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट और अल अजीजिया स्टील मिल से जुड़े मामले शामिल हैं।

शुक्रवार रात दोनों को जेल भेजने का आदेश जारी करने वाले इस्लामाबाद की जवाबदेही कोर्ट के जज मुहम्मद बशीर इन मामलों की सुनवाई करेंगे। राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने शुक्रवार को शरीफ और मरियम को लंदन से लाहौर आने के कुछ देर बाद ही गिरफ्तार कर लिया था।

शरीफ को लंदन के अवेनफील्ड में चार फ्लैट भ्रष्टाचार के पैसों से खरीदने के मामले में 10 साल जेल की सजा हुई है। जवाबदेही ब्यूरो की अदालत ने इसी मामले में उनकी बेटी को सात साल की सजा सुनाई है।

मरियम के पति देंगे अदालत के आदेश को चुनौती-

मरियम नवाज और उनके पति ने अदालत के छह जुलाई के फैसले को चुनौती देने का फैसला लिया है। 16 जुलाई को दायर की जाने वाली अपील शनिवार को ड्राफ्ट किया गया। पावर ऑफ अटार्नी लेने के लिए मरियम की कानूनी टीम आदियाला जेल पहुंची थी। समय बीत जाने के कारण टीम शनिवार को अपील दायर नहीं कर सकी। ग्रीष्मावकाश के कारण अदालत एक बजे तक ही काम करती है।

पुलिस से झड़प में 50 घायल-

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में नवाज शरीफ के समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प में कम-से-कम 50 लोग घायल हो गए हैं। इनमें 20 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। पंजाब पुलिस के प्रवक्ता नियाब हैदर ने बताया कि शरीफ की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच कई स्थानों पर झड़प होने की खबर है। झड़प की घटनाएं मुख्य रूप से लाहौर और इसके आस-पास के जिलों में हुईं।

शाहबाज समेत 1500 के खिलाफ मामला दर्ज-

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के समर्थन में शुक्रवार को रैली निकालने के लिए शनिवार को पुलिस ने करीब 1500 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि लाहौर के तीन थाना में पीएमएल-एन के 1500 कार्यकर्ताओं और 20 नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। इन नेताओं में शाहिद खाकन अब्बासी, नवाज के छोटे भाई शाहबाज शरीफ, उनके बेटे हमजा एवं अन्य शामिल हैं। सभी के खिलाफ आतंकवाद विरोधी एवं पाकिस्तानी दंड संहिता के तहत आरोप लगाया गया है। पीएमएल-एन ने एफआइआर दर्ज कराने की निंदा की है और इसे वापस लेने की मांग की है।

मोदी से ‘दोस्ती’ पर इमरान का ताना-

पाकिस्तान तहरीक-ए-इन्साफ पार्टी के अध्यक्ष इमरान खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ नवाज शरीफ की ‘दोस्ती’ पर उनका मजाक उड़ाया है। इमरान ने कहा है कि ये दोनों नेता विरोधियों पर बढ़त हासिल करने के लिए देश में कानून-व्यवस्था की समस्या और सरहद पर तनाव उत्पन्न करते रहते हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि इसमें कोई हैरानी नहीं कि शरीफ जब कभी मुश्किल में होते हैं, सरहद पर तनाव बढ़ जाता है और देश में आतंकी गतिविधियों में बढ़ोतरी होने लगती है।

बी-ग्रेड में दी जाती हैं ये सुविधाएं-

क्लास बी में उन कैदियों को रखा जाता है, जिनका सामाजिक, शैक्षणिक और जीवन स्तर बाकी कैदियों से अच्छा होता है। सरकार के आदेश से कुछ आदतन अपराधियों को भी इसमें रखा जा सकता है। ए और बी ग्रेड के कैदियों को आमतौर पर मेहनत वाला काम नहीं करना पड़ता है।

उन्हें क्लास सी के अनपढ़ कैदियों को पढ़ाने की जिम्मेदारी दी जाती है। ए और बी ग्रेड के कैदियों को टेलीविजन, फ्रिज, एसी और अखबार की सुविधा पैसे चुकाने के बाद दी जा सकती है। हालांकि, इसके लिए जेल विभाग से अनुमति लेने की जरूरत पड़ती है।

You May Also Like

English News