ना’पाक’ फायरिंग पर कांग्रेस ने PM मोदी को घेरा, कहा- 56 इंची सीने का क्या हुआ?

पाकिस्तान की ओर से सीजफायर उल्लंघन पर कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. मनीष तिवारी ने कहा कि 2017 में अब तक जम्मू-कश्मीर में 900 आतंकी वारदातें हुईं हैं, जिसमें 120 बॉर्डर पर हुईं. प्रधानमंत्री जवाब दें कि 56 इंच की छाती का क्या हुआ? सरहद पर परिंदा भी पर नहीं मार सकता वाले बयान का क्या हुआ? उन्होंने कहा कि 3.5 साल से सरकार की नीतियों का खामियाजा देश के जवान अपनी जान देकर भुगत रहे हैं.ना'पाक' फायरिंग पर कांग्रेस ने PM मोदी को घेरा, कहा- 56 इंची सीने का क्या हुआ?गुजरात: 26 दिसंबर को विजय रुपाणी का ग्रहण करेंगे शपथ, फिर बनेंगे मुख्यमंत्री

मनीष तिवारी ने कहा कि पीएम मोदी और एनडीए को बुनियादी सवालों के जवाब देने होंगे. साल 2017 में 1 जनवरी से 24 दिसंबर तक 900 आतंकी वारदातें हुईं हैं जिसमें 120 बॉर्डर पर हुई हैं. इसके साथ ही उन्होंने शनिवार को पाकिस्तान की तरफ से हुए सीजफायर उल्लंघन को लेकर भी उन्होंने पीएम मोदी को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि एक बार फिर से पाकिस्तान की तरफ से सरहद में घुसपैठ हुई और उस दुर्भाग्यपूर्ण हादसे में हमारे जवान शाहिद हुए.

उन्होंने कहा कि मैं प्रधानमंत्री से पूछता हूं कि वो कहते थे पाकिस्तान की तरफ से कोई परिंदा भी पर नहीं मार सकता लेकिन पाकिस्तान की तरफ से घुसपैठ और गोलाबारी हो रही है. जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद भारत के खिलाफ लश्कर तैयार कर रहा है. आप दूसरों की तरफ तो उंगली उठाते हैं पर ये आपके राज में क्या हो रहा है? क्यों भारत के सैनिक मारे जा रहे हैं? भारत की नीति और नीयत 2014 से साफ नहीं है.

मनीष तिवारी ने सवाल उठाते हुए पूछा कि आप पाकिस्तान गए लेकिन आज तक आपने मुल्क को नहीं बताया कि आप वहां क्यों गए. आपने ISI को भारत आकर जांच करने का निमंत्रण क्यों दिया. 3.5 साल हो गए हैं और समय आ गया है कि पीएम को और आपकी सरकार को स्पष्ट करना होगा कि कब ये घुसपैठ रुकेगी. आपने देश से वादा किया था कि ये बंद होगी. 

श्रीलंका और मालदीव में चीन का वर्चस्व बढ़ा है. नेपाल की सरकार का झुकाव भारत की तरफ है. डोकलाम में क्या हो रहा है. सुषमा पाक मंत्री के साथ वर्बल कबड्डी खेल रही हैं, मोदी जी नवाज शरीफ को अपने शपथ ग्रहण पर बुलाते हैं और फिर अचानक पाकिस्तान पहुंच जाते हैं. आज हाल क्या है? इस सरकार की कोई विदेश नीति ही नहीं है.

You May Also Like

English News