गृह मंत्रालय खुद सभालेंगे नीतीश, जानिए किस मंत्री को मिला कौन सा विभाग?

नीतीश कैबिनेट का पहला विस्तार कर दिया गया है। शनिवार को राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी ने 26 विधायकों समेत 27 लोगों को पद एंव गोपनीयता की शपथ दिलायी। इनमें जदयू के 14 विधायक और भाजपा के 12 विधायक शामिल हैं।गृह मंत्रालय खुद सभालेंगे नीतीश, जानिए किस मंत्री को मिला कौन सा विभाग?

 डॉ. जितेंद्र सिंह ने कश्मीर में तिरंगे के बारे में खी ये बात…

26वें सदस्य के रूप में शपथ लेनेवाले लोजपा नेता पशुपति कुमार पारस किसी सदन के सदस्य नहीं है। देर से पहुंचने के कारण भाजपा के मंगल पांडेय को बाद में शपथ दिलाई गई।  कैबिनेट के इस पहले विस्तार में राजग के घटक दल जीतनराम मांझी की हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा और उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा दोनों को जगह नहीं मिली है। चार साल बाद बनी राजग सरकार के कैबिनेट में जदयू के 14 मंत्रियों में केवल दो नये चेहरे हैं, बाकी सभी पुराने मंत्रियों को ही परिषद में जगह मिली है

जदयू के रमेश ऋषिदेव और दिनेश सिंह यादव दोनों नये चेहरे शरद के करीबी बताये जाते हैं। ऐसे में इन्हें कैबिनेट में शामिल करना शरद के स्वर को साधने का प्रयास माना जा रहा है। भाजपा की ओर से युवाओं को प्राथमिका दी गयी है। विनोद सिंह और सुरेश शर्मा जैसे नामों को परिषद में शामिल किया गया है।

नीतीश मंत्रिमंडल में LJP के शामिल होने पर मांझी का पासवान पर किया हमला…
भाजपा के मंत्रियों की सूची में संघ और सुशील मोदी का प्रभाव  दिखता है। कहा जा रहा है कि आलाकमान उन्हें कैबिनेट चुनने के लिए खुली छूट दे रखी थी।  मंत्रियों की सूची जारी होते ही राजग के घटक दलों में असंतोष के स्वर उठने लगे हैं। लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान अपने भाई को कैबिनेट में शामिल कराने में सफल रहे ही, कहा जा रहा है कि उन्होंने राज्यपाल कोटे से विधान परिषद भेजने पर भी नीतीश से सहमति ले ली है।

कुशवाहा और मांझी ने साधा लालू से संपर्क
बताया जा रहा है कि रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा और हम के अध्यक्ष जीतनराम मांझी दोनों लालू के संपर्क में है। रालोसपा ने तो पटना में बैनर तक लगा दिया है कि अगला मुख्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा होंगे।  दरअसल पारस के मंत्री बनने पर हम में नाराजगी बढ़ गयी है। हम ने साफ शब्दों में कहा है कि लोजपा की तरह ही हम कोटे से भी गैर विधायक को भी मंत्री बनाया जाए। लेकिन नीतीश कुमार इस बात पर सहमत नहीं हुए।

राजग के एक अन्य घटक दल रालोसपा का हाथ भी कुछ नहीं आया। उपेंद्र कुशवाहा ने पार्टी की ओर से हरलाखी के विधायक सुधांशु शेखर का नाम मंत्री पद के लिए प्रस्तावित किया था, लेकिन नीतीश कुमार ने कुशवाहा की पसंद को ठुकरा दिया। शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे सुधांशु ने कहा कि नीतीश और कुशवाहा के बीच जारी मनमुटाव का वो शिकार बने। कहा जा रहा है कि नीतीश रालोसपा के ललन पासवान को कैबिनेट में लाने की बात कर रहे थे जो कुशवाहा से आजकल नाराज चल रहे हैं।

नीतीश ने बांटे मंत्रियों के विभाग

मंत्रियों के विभागों का बंटवारा
1. नीतीश कुमार – गृह, सामान्य प्रशासन और निगरानी विभाग
2. सुशील मोदी – वित्त, वाणिज्य कर, वन और आईटी विभाग
3. विजेंद्र यादव – ऊर्जा, उत्पाद और मद्य निषेध विभाग
4. प्रेम कुमार – कृषि विभाग
5. ललन सिंह – जल संसाधन, योजना विकास
6. नंद किशोर यादव – पथ निर्माण विभाग
7. श्रवण कुमार – ग्रामीण विकास, संसदीय कार्य
8. रामनारायण मंडल – राजस्व, भूमि सुधार
9. जय कुमार सिंह – उद्योग, विज्ञान प्रावैधिकी
10. प्रमोद कुमार – पर्यटन विभाग
11. कृष्णनंदन वर्मा – शिक्षा विभाग
12. महेश्वर हजारी – भवन निर्माण विभाग
13. विनोद नारायण झा – पीएचईडी महकमा
14. शैलेश कुमार – ग्रामीण कार्य विभाग
15. सुरेश शर्मा – नगर विकास एवं आवास
16. मंजू वर्मा – समाज कल्याण विभाग
17. विजय सिन्हा – श्रम संसाधन विभाग
18. संतोष निराला – परिवहन विभाग
19. राणा रणधीर – सहकारिता विभाग
20. खुर्शीद उर्फ फिरोज – अल्पसंख्यक कल्याण, गन्ना उद्योग
21. विनोद सिंह – खान एवं भूतत्व
22. मदन सहनी – खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण
23. कृष्ण कुमार ऋषि – कला संस्कृति विभाग
24. कपिल देव कामत – पंचायती राज विभाग
25. दिनेश यादव – लघु सिंचाई, आपदा प्रबंधन
26. रमेश ऋषिदेव – अनुसूचित जनजाति, कल्याण विभाग
27. मंगल पांडेय – स्वास्थ्य विभाग

loading...

You May Also Like

English News