नेटवर्क हैकिंग को लेकर अमेरिका, ब्रिटेन ने रूस को चेताया

 अमेरिका और ब्रिटेन ने रूस को चेतावनी दी है कि रूस सरकार द्वारा प्रायोजित हैकर, राउटर्स एवं फायरवाल्स जैसे सरकारी एवं व्यापारिक कंप्यूटर नेटवर्क के महत्वपूर्ण हार्डवेयर को निशाना बना रहे हैं जिससे उन्हें डेटा के प्रवाह पर कहीं हद तक एक तरह से नियंत्रण मिल रहा हैलंदन: अमेरिका और ब्रिटेन ने रूस को चेतावनी दी है कि रूस सरकार द्वारा प्रायोजित हैकर, राउटर्स एवं फायरवाल्स जैसे सरकारी एवं व्यापारिक कंप्यूटर नेटवर्क के महत्वपूर्ण हार्डवेयर को निशाना बना रहे हैं जिससे उन्हें डेटा के प्रवाह पर कहीं हद तक एक तरह से नियंत्रण मिल रहा है.   अमेरिका और ब्रिटेन दोनों देशों ने एक संयुक्त बयान में कहा कि इस अभियान का लक्ष्य  बौद्धिक संपदा चुराना, जासूसी में मदद करना , कमजोर  नेटवर्क तक लगातार पहुंच बनाए रखना और संभवत : भविष्य में चलाए जाने वाले दूसरे साइबर अपराध अभियानों की नींव रखना है.  इन बयान में कहा गया , ‘‘ किसी नेटवर्क के बुनियादी ढांचे पर नियंत्रण रखने वाला असल में नेटवर्क के जरिए गुजरने वाले डेटा पर नियंत्रण रखता है.  ’’ अमेरिकी गृह सुरक्षा विभाग ने कहा कि हैकिंग ‘ ग्रिजली स्टेपे ’ का हिस्सा है .  इस अभियान में मॉस्को की असैन्य एवं सैन्य खुफिया एजेंसियों के सामंजस्य से किए जाने वाले साइबर हमले शामिल हैं. राउटर हैकिंग अभियान के तहत सरकार एवं निजी सेक्टर समूहों दोनों को और साथ ही नेटवर्क संबंधी बुनियादी ढांचा प्रदाताओं एवं उनके इंटरनेट सेवा प्रदाताओं को निशाना बनाया गया. घोषणा से पहले एक संयुक्त अलर्ट जारी कर कहा गया था कि पश्चिमी देशों की सरकारें रूस के एक मौजूदा  हैकिंग एवं ऑनलाइन दुष्प्रचार अभियान से लड़ने के लिए आपसी  सहयोग कर रही हैं.

अमेरिका और ब्रिटेन दोनों देशों ने एक संयुक्त बयान में कहा कि इस अभियान का लक्ष्य  बौद्धिक संपदा चुराना, जासूसी में मदद करना , कमजोर  नेटवर्क तक लगातार पहुंच बनाए रखना और संभवत : भविष्य में चलाए जाने वाले दूसरे साइबर अपराध अभियानों की नींव रखना है.

इन बयान में कहा गया , ‘‘ किसी नेटवर्क के बुनियादी ढांचे पर नियंत्रण रखने वाला असल में नेटवर्क के जरिए गुजरने वाले डेटा पर नियंत्रण रखता है.  ’’ अमेरिकी गृह सुरक्षा विभाग ने कहा कि हैकिंग ‘ ग्रिजली स्टेपे ’ का हिस्सा है .  इस अभियान में मॉस्को की असैन्य एवं सैन्य खुफिया एजेंसियों के सामंजस्य से किए जाने वाले साइबर हमले शामिल हैं. राउटर हैकिंग अभियान के तहत सरकार एवं निजी सेक्टर समूहों दोनों को और साथ ही नेटवर्क संबंधी बुनियादी ढांचा प्रदाताओं एवं उनके इंटरनेट सेवा प्रदाताओं को निशाना बनाया गया. घोषणा से पहले एक संयुक्त अलर्ट जारी कर कहा गया था कि पश्चिमी देशों की सरकारें रूस के एक मौजूदा  हैकिंग एवं ऑनलाइन दुष्प्रचार अभियान से लड़ने के लिए आपसी  सहयोग कर रही हैं. 

You May Also Like

English News