नेलपॉलिश के इस्तेमाल से हो सकता है बांझपन, बरतें ये सावधानी

अपने नाखूनों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए बहुत सी लड़कियां नेलपॉलिश का इस्तेमाल करती हैं। लेकिन ये कितना खतरनाक हो सकता है आप सोच भी नहीं सकतीं। इसके इस्तेमाल से स्किन कैंसर जैसे घातक रोग भी हो सकते हैं। 
नेलपॉलिश के इस्तेमाल से हो सकता है बांझपन, बरतें ये सावधानी
 

इसका छिलका खाने से बढ़ेगी आंखों की रोशनी, इन फलों के छिलके भी हैं फायदेमंद

नेल पेंट में स्मूथ फिनिशिंग के लिए टालुइन नाम का कैमिकल मिलाया जाता है। ये कैमिकल आमतौर पर कार में ईंधन डालने वाले गैसोलीन में इस्तेमाल किया जाता है। ये कैमिकल नर्वस सिस्टम और दिमाग के साथ- साथ रिप्रोडक्टिव सिस्टम को भी प्रभावित करता है।

 

नेल पेंट्स को लचीला बनाने के लिए डाइब्यूटाइल पैथेलेट का इस्तेमाल किया जाता है जो कि रिप्रोडेक्टिव ट्रैक्ट को नुकसान पहुंचाती है। यूरोप के कई देशों में इस कैमिकल के इस्तेमाल पर पाबंदी भी है।

 

शोधकर्ताओं ने जब नेलपॉलिश पर रिसर्च किया तो पाया, इसका इस्तेमाल करने से स्किन कैंसर भी हो सकता है। नेल पॉलिश में जैल मिलाया जाता है जो सूर्य की खतरनाक अल्ट्रावायलट किरणों को सोख लेता है और यही किरणें कैंसर को जन्म देती हैं।
 

जानिये कैसे? सर्दियों में रूख्‍ाी त्वचा से निजात दिलाएंगे अंडे के छिलके

नेल पॉलिश बनाने में स्पिरिट का भी इस्तेमाल किया जाता है जो फेफड़ों को बुरी तरह से प्रभावित करता है।

 

नेलपॉलिश के खतरनाक असर से बचने के लिए इसे खरीदते समय लो रेंटिंग टॉक्सिटी (0-2) वाला ही प्रोडक्ट खरीदें। अगर आपको कोई रेटिंग नहीं दिखती तो प्रोडक्ट का लेबल चेक करें और टालुइन, फॉरमल्डिहाइड, डाइब्यूटाइल पैथेलेट जैसे खतरनाक तत्वों से बचें।
 

You May Also Like

English News