पंजाब में किसके सारथी बनेंगे नीतीश, मोदी से बढ़ रही नजदीकियां

पंजाब की सियासत के लिए बिहार और नीतीश कितने महत्वपूर्ण हैं, यह पिछले एक सप्ताह के दौरान साफ तौर पर नजर आया है। पंजाब के चुनावी महाभारत में दांव लगाने वाले हर नेता ने अपना चुनावी रथ बिहार में तैयार करना चाहा और सारथी के रूप में नीतीश उनकी पहली पसंद रहे। पंजाब में किसके सारथी बनेंगे नीतीश, मोदी से बढ़ रही नजदीकियां

 ऐसे में सवाल उठता है कि बिहार की जमीन पर पंजाब की सियासत का रथ अगर तैयार हो भी जाता है, तो इस चुनावी महाभारत में नीतीश किसके सारथी बनेंगे। केंद्रीय मंत्री एसएस अहलूवालिया ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को असली सरदार कहा है। 

प्रकाशोत्सव कार्यक्रम में पीएम मोदी-नीतीश ने की एक-दूसरे की तारीफ

वहीं कांग्रेस नेता और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पंजाब चुनाव में नीतीश कुमार को प्रचार के लिए आने का आग्रह कर गए हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल भी गुरु हरिमंदिर साहेब में मत्था टेकने के बाद नीतीश से मिलने पहुंचे थे। 

केंद्रीय मंत्री एसएस अहलूवालिया ने नीतीश को कहा असली सरदार 

अकाली दल के प्रमुख बादल ने तो यहां तक कह दिया कि जैसा आयोजन नीतीश ने किया है ऐसा आयोजन वो भी पंजाब में नहीं कर पाते। भाजपा हो या कांग्रेस या फिर आप या अकाली, सभी दलों ने प्रकाशपर्व के मौके बिहार में अपना सियासी विजय रथ को पड़ाव दिया। 
बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बिहार आए तो एनडीए के पुराने सहयोगी नीतीश कुमार से दूरी पाटने की कोशिश की। उन्होंने नीतीश की जमकर तारीफ की और यह भी कहा कि बिहार में जो प्रकाश जन्म लेता है, वो समस्त विश्व को रास्ता दिखाता है। ‘समाजवादी पार्टी में तख्तापलट से लालू भी बेटों से डरे’

बिहार जिस प्रकार सभी धर्मों को खुद में समाहित कर लेने की क्षमता रहता है, आज की तारीख में नीतीश कुमार भी सभी दलों के साथ खुद को खड़ा रखने में कामयाब होते दिख रहे हैं।

नीतीश गए करीब तो मोदी से दूर रहे लालू और सुशील

प्रकाश पर्व के मौके पर बृहस्पतिवार को बिहार की सियासत नए रूप में दिखी। एक ओर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नजदीकियां चर्चा में रहीं, वहीं दूसरी ओर भाजपा के कद्दावर नेता सुशील कुमार मोदी, नंदकिशोर यादव के साथ-साथ राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद अपने दोनों बेटों के साथ मुख्य पंडाल के वीआईपी एरिया में ही रहे, लेकिन लाइम लाइट से दूर।
उल्लेखनीय है कि पटना में हो रहे इस आयोजन के पहले से ही शहर के चौक-चौराहों पर लगे पोस्टरों में भी सिर्फ सीएम नीतीश कुमार ही नजर आए ऐसे में ये कयास लगाए जा रहे हैं कि महागठबंधन में एक बार फिर से सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। इससे पहले एयरपोर्ट पर नरेंद्र मोदी की अगवानी के लिए जहां डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव और स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप दोनों नदारद दिखे, वहीं भाजपा की ओर से सुशील मोदी और नंदकिशोर यादव भी गांधी मैदान में ही दिखे।

 
 

You May Also Like

English News