पटनायक को तीसरे मोर्चे में शामिल होने का आह्वान किया

केंद्र में एनडीए सरकार के सत्ता में आने के बाद से देश के हालात ख़राब है. ऐसे में देश को नेता नहीं, नीतिगत बदलाव की जरूरत है.इसलिए ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को तीसरे मोर्चे में शामिल हो जाना चाहिए. यह आह्वान सीपीआई (एम) के महासचिव सीताराम येचुरी ने किया.केंद्र में एनडीए सरकार के सत्ता में आने के बाद से देश के हालात ख़राब है. ऐसे में देश को नेता नहीं, नीतिगत बदलाव की जरूरत है.इसलिए ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को तीसरे मोर्चे में शामिल हो जाना चाहिए. यह आह्वान सीपीआई (एम) के महासचिव सीताराम येचुरी ने किया.  बता दें कि शनिवार को इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियर्स में आयोजित 'वर्तमान समय में देश की परिस्थिति एवं वाम दल के दायित्व, विषयक कार्यशाला में येचुरी ने कहा कि देश में सांप्रदायिक शक्तियों का उदय जनतंत्र के लिए ठीक नहीं है. इसके खिलाफ सभी धर्म निरपेक्ष दलों को एक साथ ताकत के साथ खड़ा होना होगा.इसलिए बीजद का समर्थन जरूरी है.उन्होंने नवीन पटनायक को सभी धर्मनिरपेक्ष दलों का नेतृत्व लेने का आह्वान किया .साथ ही तीसरे मोर्चे के गठन के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ चल रही चर्चा का भी जिक्र किया.  उल्लेखनीय है कि इस मौके पर येचुरी ने कहा कि देश में नियुक्ति, गरीबी, मूल्य वृद्धि नियंत्रण, किसान आत्महत्या जैसे सभी मामलों में एनडीए सरकार असफल रही है. विदेशी कंपनियां देश में अपना प्रभाव बढ़ा रही हैं ,तो छोटे व्यवसायी बड़ी परेशानी का सामना कर रहे हैं. इन हालातों में देश को नेता नहीं वैकल्पिक नीति की जरूरत है.केंद्र में एनडीए सरकार के सत्ता में आने के बाद से देश के हालात ख़राब है. ऐसे में देश को नेता नहीं, नीतिगत बदलाव की जरूरत है.इसलिए ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को तीसरे मोर्चे में शामिल हो जाना चाहिए. यह आह्वान सीपीआई (एम) के महासचिव सीताराम येचुरी ने किया.  बता दें कि शनिवार को इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियर्स में आयोजित 'वर्तमान समय में देश की परिस्थिति एवं वाम दल के दायित्व, विषयक कार्यशाला में येचुरी ने कहा कि देश में सांप्रदायिक शक्तियों का उदय जनतंत्र के लिए ठीक नहीं है. इसके खिलाफ सभी धर्म निरपेक्ष दलों को एक साथ ताकत के साथ खड़ा होना होगा.इसलिए बीजद का समर्थन जरूरी है.उन्होंने नवीन पटनायक को सभी धर्मनिरपेक्ष दलों का नेतृत्व लेने का आह्वान किया .साथ ही तीसरे मोर्चे के गठन के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ चल रही चर्चा का भी जिक्र किया.  उल्लेखनीय है कि इस मौके पर येचुरी ने कहा कि देश में नियुक्ति, गरीबी, मूल्य वृद्धि नियंत्रण, किसान आत्महत्या जैसे सभी मामलों में एनडीए सरकार असफल रही है. विदेशी कंपनियां देश में अपना प्रभाव बढ़ा रही हैं ,तो छोटे व्यवसायी बड़ी परेशानी का सामना कर रहे हैं. इन हालातों में देश को नेता नहीं वैकल्पिक नीति की जरूरत है.

बता दें कि शनिवार को इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियर्स में आयोजित ‘वर्तमान समय में देश की परिस्थिति एवं वाम दल के दायित्व, विषयक कार्यशाला में येचुरी ने कहा कि देश में सांप्रदायिक शक्तियों का उदय जनतंत्र के लिए ठीक नहीं है. इसके खिलाफ सभी धर्म निरपेक्ष दलों को एक साथ ताकत के साथ खड़ा होना होगा.इसलिए बीजद का समर्थन जरूरी है.उन्होंने नवीन पटनायक को सभी धर्मनिरपेक्ष दलों का नेतृत्व लेने का आह्वान किया .साथ ही तीसरे मोर्चे के गठन के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ चल रही चर्चा का भी जिक्र किया.

उल्लेखनीय है कि इस मौके पर येचुरी ने कहा कि देश में नियुक्ति, गरीबी, मूल्य वृद्धि नियंत्रण, किसान आत्महत्या जैसे सभी मामलों में एनडीए सरकार असफल रही है. विदेशी कंपनियां देश में अपना प्रभाव बढ़ा रही हैं ,तो छोटे व्यवसायी बड़ी परेशानी का सामना कर रहे हैं. इन हालातों में देश को नेता नहीं वैकल्पिक नीति की जरूरत है.

You May Also Like

English News