पहले कुल्हाड़ी से किए पत्नी के सिर के दो टुकड़े, फिर शव के साथ जो किया जानकर आपके भी रूह काँप जाएगी

आदमपुर में गुरूवार की देर रात लोमहर्षक वारदात हुई। एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को कुल्हाड़ा से मौत के घाट उतारने के बाद स्वयं आत्मदाह कर लिया। गांव में एक साथ हुई दौ मौत से मातमी माहौल निर्मित हो गया। एसपी विवेक अग्रवाल ने बताया कि हिनाति आजम गांव निवासी सुरेन्द्र विश्वकर्मा ने अपनी पत्नी रंजना की कुल्हाड़ी माकर कर जघंय हत्या कर दी।

दरअसल आदमपुर की ये दिल दहलाने वाली घटना की खबर के मुताबिक शुक्रवार और शनिवार की मध्य रात्रि में एक पति ने अपनी पत्नी की कुल्हाड़ी मारकर हत्या कर दी, इसके बाद फंदा लगाकर खुद सुसाइड कर लिया। मृतक के बच्चों ने यह देखा तो वो बहुत सहम गए थे और उन्होंने रोते हुए पड़ोस में रह रहे एक पुजारी को यह बताया। इसके बाद पुजारी ने पुलिस व मकान मालिक को इस वारदात की सूचना दी।

पुलिस ने शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए पास के एक सिविल हॉस्पिटल में भिजवा दिया है। जानकारी के लिए पुलिस द्वारा दी गई जानकारी से ऐलनाबाद का रहने वाला भंवरसिंह जो की 46 साल का है लगभग 15 दिन पहले ही आदमपुर के शिव नगर में अपनी पत्नी संतोष जो की 42 वर्ष की है उसके साथ किराये के मकान में रहने के लिए आया था। ये कोई बड़ा कारोबारी नही था वह सिर्फ ट्रैक्टर चलाता था। भंवरसिंह की अपनी कोई औलाद नही थी इसलिए उसने अपने बड़े भाई के दो बच्चे जिसमे की एक लड़का और एक लड़की दोनों को गोद ले लिया था|

उनके बड़े भाई भी यहाँ पर उनके साथ रह रहे थे। संतोष के भाई राजेश का कहना है कि दोनों में अकसर झगड़ा रहता था।दोनों को जमती नही थी रोज़ किसी न किसी बात के लिए झगडा होता था और जब एक दिन शुक्रवार को संतोष अ गुस्सा चरम पर था तो और शुक्रवार और शनिवार की दरमियानी रात में भी दोनों के बीच झगड़ा हुआ। इस झगड़े के बाद भंवर सिंह ने कुल्हाड़ी से संतोष के सिर के दो टुकड़े कर दिए। और इसके बाद उसने घर के अंदर ही फांसी का फंदा लगाकर सुसाइड कर लिया। बच्चों ने ये सब देखा तो रोते हुए बाहर गए और आस पड़ोस के लोगो को इस घटना की सूचना दी|

रात में लगभग 3 बजे जब बच्चों ने यह देखा तो वे रोते हुए बाहर गए। शिव नगर में मकान भी बहुत दूर-दूर बने हुए हैं। उनके घर के पास में सिर्फ एक मंदिर है। मंदिर के पुजारी ने रोते बच्चे की आवाज सुनी तो वह भागते हुए बाहर आया। पुजारी ने बाहर आकर उसने पूछा तो बच्चे ने घर के अंदर का पूरा मामला बताया। और जब पुजारी ने अंदर जाकर देखा तो संतोष का शव घर में पड़ा था, जबकि भंवर सिंह की डेडबॉडी फासी के फंदे में लटकी हुई थी।

उसने तत्काल पुलिस और मकान के मालिक को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उतारी डेडबॉडी पुलिस को सूचना मिली तो मौके पर थाना आदमपुर से टीम पहुंची और भंवर सिंह की डेडबॉडी नीचे उतारी गई और उनके परिजनों को सूचना दी गई। परिजनों के पहुंचने के बाद दोनों के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए हिसार सिविल अस्पताल भिजवा दिया गया है। और अब आगे की कारवाही रिपोर्ट आए के बाद ही होगी|

You May Also Like

English News