पहले 444 और फिर 481, आज INDvsENG मैच में क्या होगा?

पिछले दो वर्षों से नॉटिंघम का ट्रेंट ब्रिज मैदान इंग्लैंड के लिए रनों की खान साबित हो रहा है। अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट के दो सबसे बड़े स्कोर मेजबान इंग्लैंड ने इसी मैदान पर बनाए और अब गुरुवार को उसका मुकाबला भारत से होगा। सपाट पिच पर इस मैच में भी रनों की वर्षा होने का अनुमान है क्योंकि दोनों टीमों में विस्फोटक बल्लेबाजों की कमी नहीं है।पिछले दो वर्षों से नॉटिंघम का ट्रेंट ब्रिज मैदान इंग्लैंड के लिए रनों की खान साबित हो रहा है। अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट के दो सबसे बड़े स्कोर मेजबान इंग्लैंड ने इसी मैदान पर बनाए और अब गुरुवार को उसका मुकाबला भारत से होगा। सपाट पिच पर इस मैच में भी रनों की वर्षा होने का अनुमान है क्योंकि दोनों टीमों में विस्फोटक बल्लेबाजों की कमी नहीं है।  पिछले कुछ वर्षों में ट्रेंट ब्रिज की पिच के चरित्र में अप्रत्याशित परिवर्तन आया यह अचानक पूरी तरह बल्लेबाजों की मददगार हो गई। इंग्लैंड के घरेलू वनडे मैचों में भी इस पर 350 से ज्यादा का स्कोर आम बात हो गई। इसके बाद वर्ष 2016 से तो इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने इस पिच पर रनों की फसल काटना शुरू कर दी और मेहमान गेंदबाज अपना मुंह ‍छुपाते नजर आए।  इंग्लैंड ने पाक का किया मानमर्दन -   30 अगस्त 2016 को पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे वनडे में इंग्लैंड ने अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा स्कोर का 10 साल पुराना रिकॉर्ड ध्वस्त किया। पाकिस्तानी गेंदबाजों की बखिया उधेड़ते हुए इंग्लैंड ने 3 विकेट पर 444 रनों का हिमालयी स्कोर खड़ा किया। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय वनडे में सबसे ज्यादा स्कोर का रिकॉर्ड श्रीलंका के नाम था, जब उसने 4 जुलाई 2006 को एम्सटलवीन में नीदरलैंड्‍स के खिलाफ 9 विकेट पर 443 रन बनाए थे।  पाक के खिलाफ नॉटिंघम वनडे में हेल्स ने 122 गेंदों में 22 चौकों और 4 छक्कों की मदद से 171 रन बना डाले। जोस बटलर (90) और जो रूट (85) ने उन्हें ‍उचित सहयोग दिया। इसके जवाब में पाकिस्तानी पारी 42.4 ओवरों में 275 रनों पर समेटकर इंग्लैंड ने यह मुकाबला 169 रनों से जीत लिया।  फिर बनाया विश्व रिकॉर्ड और ऑस्ट्रेलिया को रौंदा -  नॉटिंघम एक बार इंग्लैंड के लिए लकी साबित हुआ जब उसने 19 जून 2018 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना ही विश्व रिकॉर्ड बेहतर किया। कंगारू गेंदबाजों की मनमाफिक पिटाई करते हुए इंग्लिश बल्लेबाजों ने 6 विकेट पर 481 रन बनाते हुए इतिहास रचा। उन्होंने अपने ही विश्व रिकॉर्ड (444/3) को बेहतर किया। इस बार भी एलेक्स हेल्स मैच के हीरो रहे, उन्होंने मात्र92 गेंदों पर 16 चौकों और 5 छक्कों की मदद से 147 रन बनाए। उन्हें जॉनी बेयरस्टो (139 रन) से उचित सहयोग मिला। इसके अलावा जेसन रॉय ने 82 और कप्तान इयोन मॉर्गन ने 67 रनों का योगदान दिया। असंभव से लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया की पारी मात्र 239 रनों पर सिमटी और उसे 242 रनों से अपनी सबसे बड़ी हार का सामना करना पड़ा।  एलेक्स हेल्स का करिश्मा -   लगातार दो मैचों में इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने विश्व रिकॉर्ड बनाया और इसके मुख्य कर्ताधर्ता रहे एलेक्स हे्ल्स। हैरत की बात यह है कि भारत के खिलाफ गुरुवार को होने वाले मैच में बेन स्टोक्स की वापसी की वजह से हे्ल्स को बाहर बिठाए जाने की बात की जा रही है, अब यह देखना दिलचस्प होगा कि इंग्लैंड टीम प्रबंधन इस मामले में क्या फैसला करती है। मेजबान टीम जो रूट को बाहर बिठाकर हेल्स को टीम में बनाए रख सकती है। यदि भारत को इस पिच पर पहले बल्लेबाजी का मौका मिला तो उसके पास भी ऐसे बल्लेबाज मौजूद है जो नया इतिहास रच सकते हैं। परिणाम चाहे जो हो, गेंदबाजों की बुरी तरह पिटाई होना तो इस मैच में भी तय दिख रहा है।

पिछले कुछ वर्षों में ट्रेंट ब्रिज की पिच के चरित्र में अप्रत्याशित परिवर्तन आया यह अचानक पूरी तरह बल्लेबाजों की मददगार हो गई। इंग्लैंड के घरेलू वनडे मैचों में भी इस पर 350 से ज्यादा का स्कोर आम बात हो गई। इसके बाद वर्ष 2016 से तो इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने इस पिच पर रनों की फसल काटना शुरू कर दी और मेहमान गेंदबाज अपना मुंह ‍छुपाते नजर आए।

इंग्लैंड ने पाक का किया मानमर्दन –

30 अगस्त 2016 को पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे वनडे में इंग्लैंड ने अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा स्कोर का 10 साल पुराना रिकॉर्ड ध्वस्त किया। पाकिस्तानी गेंदबाजों की बखिया उधेड़ते हुए इंग्लैंड ने 3 विकेट पर 444 रनों का हिमालयी स्कोर खड़ा किया। इससे पहले अंतरराष्ट्रीय वनडे में सबसे ज्यादा स्कोर का रिकॉर्ड श्रीलंका के नाम था, जब उसने 4 जुलाई 2006 को एम्सटलवीन में नीदरलैंड्‍स के खिलाफ 9 विकेट पर 443 रन बनाए थे।

पाक के खिलाफ नॉटिंघम वनडे में हेल्स ने 122 गेंदों में 22 चौकों और 4 छक्कों की मदद से 171 रन बना डाले। जोस बटलर (90) और जो रूट (85) ने उन्हें ‍उचित सहयोग दिया। इसके जवाब में पाकिस्तानी पारी 42.4 ओवरों में 275 रनों पर समेटकर इंग्लैंड ने यह मुकाबला 169 रनों से जीत लिया।

फिर बनाया विश्व रिकॉर्ड और ऑस्ट्रेलिया को रौंदा –

नॉटिंघम एक बार इंग्लैंड के लिए लकी साबित हुआ जब उसने 19 जून 2018 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना ही विश्व रिकॉर्ड बेहतर किया। कंगारू गेंदबाजों की मनमाफिक पिटाई करते हुए इंग्लिश बल्लेबाजों ने 6 विकेट पर 481 रन बनाते हुए इतिहास रचा। उन्होंने अपने ही विश्व रिकॉर्ड (444/3) को बेहतर किया। इस बार भी एलेक्स हेल्स मैच के हीरो रहे, उन्होंने मात्र92 गेंदों पर 16 चौकों और 5 छक्कों की मदद से 147 रन बनाए। उन्हें जॉनी बेयरस्टो (139 रन) से उचित सहयोग मिला। इसके अलावा जेसन रॉय ने 82 और कप्तान इयोन मॉर्गन ने 67 रनों का योगदान दिया। असंभव से लक्ष्य का पीछा करते हुए ऑस्ट्रेलिया की पारी मात्र 239 रनों पर सिमटी और उसे 242 रनों से अपनी सबसे बड़ी हार का सामना करना पड़ा।

एलेक्स हेल्स का करिश्मा –

लगातार दो मैचों में इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने विश्व रिकॉर्ड बनाया और इसके मुख्य कर्ताधर्ता रहे एलेक्स हे्ल्स। हैरत की बात यह है कि भारत के खिलाफ गुरुवार को होने वाले मैच में बेन स्टोक्स की वापसी की वजह से हे्ल्स को बाहर बिठाए जाने की बात की जा रही है, अब यह देखना दिलचस्प होगा कि इंग्लैंड टीम प्रबंधन इस मामले में क्या फैसला करती है। मेजबान टीम जो रूट को बाहर बिठाकर हेल्स को टीम में बनाए रख सकती है। यदि भारत को इस पिच पर पहले बल्लेबाजी का मौका मिला तो उसके पास भी ऐसे बल्लेबाज मौजूद है जो नया इतिहास रच सकते हैं। परिणाम चाहे जो हो, गेंदबाजों की बुरी तरह पिटाई होना तो इस मैच में भी तय दिख रहा है।

 

You May Also Like

English News